ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

चर्चा में

एनसीआर के बैंकों में कामकाज ठप्प, 10 लाख से ज्यादा कर्मचारी हड़ताल पर!

नई दिल्ली

२२ अगस्त २०१७

बैंकिंग सेक्टर में सुधार संबंधी प्रस्तावित सरकारी नीतियों के खिलाफ बैंक कर्मियों की एक दिवसीय अखिल भारतीय हड़ताल के चलते मंगलवार को राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) में बैंक सेवाएं प्रभावित हैं। हड़ताल का आह्वान करने वाले नौ बैंक संघों के संगठन यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियन्स (यूएफबीयू) के एक अधिकारी ने कहा कि देश की 1,30,000 शाखाओं में कार्यरत 10 लाख से भी अधिक बैंक कर्मचारी हड़ताल में शामिल हैं, जिसके कारण चेक क्लीयरिंग का कामकाज प्रभावित हुआ है।


फाइल फोटो।

यूएफबीयू बैंकिंग क्षेत्र में सुधारों और अन्य मुद्दों के खिलाफ विरोध कर रही है। अखिल भारतीय बैंक कर्मचारी संगठन के महासचिव सी.एच. वेंकटचलम ने कहा, "हड़ताल पूरी तरह सफल है। बैंक अधिकारियों ने बैंकों के विलय व निजीकरण की ओर सरकार के कदम के विरोध में पिछली शाम (सोमवार) को शाखाओं के बाहर प्रदर्शन किए।" हड़ताल यूएफबीयू और भारतीय बैंक संघ, मुख्य श्रम आयुक्त और वित्तीय सेवा विभाग के बीच शुक्रवार को वार्ता असफल होने के बाद हुई है। स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने बीएसई में दर्ज नियामक में कहा, "ऑल इंडिया स्टेट बैंक ऑफिसर्स फेडरेशन और ऑल इंडिया स्टेट बैंक ऑफ इंडिया स्टाफ फेडरेशन यूएफबीयू का हिस्सा होने के नाते हड़ताल में शामिल रहेंगे। हड़ताल के कारण हमारे बैंक के प्रभावित होने की भी संभावना है।" एआईबीईए ने मंगलवार को जारी एक बयान में कहा कि 17 सूत्री मांगों में प्रमुख मांग सार्वजनिक क्षेत्रों के बैंकों को पर्याप्त पूंजी देने से इनकार किए जाने से संबंधित है, जिससे निजीकरण की स्थिति पैदा होगी।

एआईबीईए ने कहा, "बैंकों के निजीकरण का अर्थ है कि हमारे बैंकों में मौजूद आम जनता के 80 लाख करोड़ रुपये का निजीकरण हो जाएगा।" संगठन ने कहा, "यह देश और जनता के लिए जोखिम भरा है। बैंकों के निजीकरण से कृषि, ग्रामीण विकास, शिक्षा जैसे प्राथमिकता वाले क्षेत्रों को ऋण नहीं मिल पाएगा।" बयान के अनुसार, "आज बैंकों की प्रमुख समस्या खराब ऋणों का गंभीर स्तर पर बढ़ना है। यह इस समय करीब 15 लाख करोड़ रुपये है, जो कुल ऋण का करीब 20 प्रतिशत है। खराब ऋण का काफी बड़ा हिस्सा बड़े औद्योगिक घरानों और कोरपोरेट हाउसों का है।"





जरा ठहरें...
१० साल की बच्ची द्वारा बच्ची को जन्म देने का मामला सर्वोच्च न्यायालय पहुंचा
चीन ने फिर कहा भारत से युद्ध होकर रहेगा
"भाजपा अध्यक्ष के अपराधी बेटे को बचा रहा है गृहमंत्रालय"
आधार कार्ड के सर्वर सुरक्षित हैं - रवि शंकर प्रसाद
अमित शाह ने कहा सांसद सदन में मौजूद रहें
'सत्ता हथियाने का भाजपा के मुंह में खून लग चुका है'
उत्तर कोरिया से मिसाइल परीक्षण से अमेरिका चिंतित
१० साल की लड़की को गर्भपात कराने की इजाजत नहीं - न्यायालय
केंद्र ने माना निजता का मामला मौलिक का है लेकिन शर्त के साथ
देश चीन की धमकी और गतिविधियों को गंभीरता से ले - भारतीय सेना
काग्रेंस ने वेंकैय्या नायडू के ईनामदारी पर प्रश्न लगाए
भारी फजीहत के बाद जागा रेलवे, खान-पान की गुणवत्ता पर विशेष ध्यान
चीन को लेकर भारत चौकन्ना है - सुषमा स्वराज
जीता तो पद की गरिमा बनाए रखूंगा - नायडू
विद्यार्थियों को छात्रावास में रहने के लिए कर नहीं देना पड़ेगा
कुलभूषण की मौत की सज़ा पर लगी रोक
तीन तलाक आपत्तिजनक लेकिन जायज : एआईएमपीएलबी
तीन साल मोदी सरकार कश्मीर सबसे बड़ी असफलता है!
तीन तलाक सबसे घटिया तरीका है - सुप्रीम कोर्ट
जब से मुख्यमंत्री बने योगी आदित्यनाथ तीन बार नाम बदले गए!
रेलवे के इतिहास में 'गतिमान' सुनहरे पन्नों में दर्ज - अनिल सक्सेना
सरकार एक साल में मंदिर निर्माण का रास्ता साफ करे - विहिप
नेताजी १९४५ के बाद तक जीवित थे!
एक ऐसी दूरबीन जो १०० प्रकाश वर्ष दूर तक देख सकेगी!
प्रतिदिन 25-प्रतिशत बच्चे भूखे रह जाते हैं
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
मोदी सरकार के तीन साल के कार्यकाल से आप खुश हैं?
हां
नहीं
कह नहीं सकते
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.