ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

चर्चा में

तीन तलाक आपत्तिजनक लेकिन जायज : एआईएमपीएलबी

नई दिल्ली

१७ मई २०१७

ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड (एआईएमपीएलबी) ने मंगलवार को सर्वोच्च न्यायालय से कहा कि तीन तलाक एक 'गुनाह और आपत्तिजनक' प्रथा है, फिर भी इसे जायज ठहराया गया है और इसके दुरुपयोग के खिलाफ समुदाय को जागरूक करने का प्रयास जारी है। वरिष्ठ वकील यूसुफ हातिम मनचंदा ने न्यायालय से तीन तलाक के मामले में हस्तक्षेप न करने के लिए कहा, क्योंकि यह आस्था का मसला है और इसका पालन मुस्लिम समुदाय 1,400 साल पहले से करते आ रहा है, जब इस्लाम अस्तित्व में आया था। उन्होंने कहा कि तीन तलाक एक 'गुनाह और आपत्तिजनक' प्रथा है, फिर भी इसे जायज ठहराया गया है और इसके दुरुपयोग के खिलाफ समुदाय को जागरूक करने का प्रयास जारी है।


एआईएमपीएलबी की कार्यकारिणी समिति के सदस्य मनचंदा ने यह सुझाव पांच न्यायाधीशों की संवैधानिक पीठ को तब दिया, जब पीठ ने उनसे पूछा कि तीन तलाक को निकाह नामा से अलग क्यों किया गया और तलाक अहसान तथा हसन को अकेले क्यों शामिल किया गया। एआईएमपीएलबी की तरफ से ही पेश हुए वरिष्ठ वकील कपिल सिब्बल ने कहा कि कुछ लोगों का मानना है कि भगवान राम का जन्म अयोध्या में हुआ था और यह आस्था का मामला है और इस पर सवाल नहीं उठाया जा सकता। उसी तरह, मुस्लिम पर्सनल लॉ भी आस्था का विषय है और न्यायालय को इस पर सवाल उठाने से बचना चाहिए। सिब्बल पांच सदस्यीय संवैधानिक पीठ के समक्ष अपनी दलील पेश कर रहे थे, जिसमें प्रधान न्यायाधीश न्यायमूर्ति जगदीश सिंह केहर, न्यायमूर्ति कुरियन जोसेफ, न्यायमूर्ति रोहिंटन फली नरीमन, न्यायमूर्ति उदय उमेश ललित तथा न्यायमूर्ति एस. अब्दुल नजीर शामिल हैं, जो तीन तलाक की संवैधानिक मान्यता को चुनौती देने वाली कई याचिकाओं की सुनवाई कर रही है।

जब सिब्बल ने जोर दिया कि पर्सनल लॉ आस्था का मामला है और न्यायालय को इसमें दखल नहीं देना चाहिए, तो न्यायमूर्ति जोसेफ ने कहा, "हो सकता है। लेकिन फिलहाल 1,400 वर्षो बाद कुछ महिलाएं हमारे पास इंसाफ मांगने के लिए आई हैं।" सिब्बल ने कहा, "पर्सनल लॉ कुरान व हदीस से लिया गया है और तीन तलाक 1,400 साल पुरानी प्रथा है। हम यह कहने वाले कौन होते हैं कि यह गैर-इस्लामिक है। यह विवेक या नैतिकता का सवाल नहीं, बल्कि आस्था का सवाल है। यह संवैधानिक नैतिकता का सवाल नहीं है।" सिब्बल ने महान्यायवादी मुकुल रोहतगी द्वारा न्यायालय के समक्ष सोमवार को की गई उस टिप्पणी पर चुटकी ली, जिसमें उन्होंने कहा था कि न्यायालय मुस्लिमों में तलाक के तीनों रूपों को अमान्य करार दे और केंद्र सरकार तलाक के लिए नया कानून लाएगी।


जब सिब्बल ने कहा कि सरकार सर्वोच्च न्यायालय से नहीं कह सकती कि आप पहले तलाके के तीनों रूपों को अमान्य करार दीजिए, उसके बाद हम एक नया कानून लाएंगे, तब प्रधान न्यायाधीश न्यायमूर्ति केहर ने कहा, "पहली बार आप हमारे साथ हैं।" सिब्बल ने कहा, "आस्था को कानून की कसौटी पर नहीं कसा जा सकता।" उन्होंने कहा, "हम बेहद बेहद जटिल दुनिया में प्रवेश कर चुके हैं, जहां क्या गलत है और क्या सही इसकी खोज करने के लिए हमें 1,400 साल पहले इतिहास में जाना होगा।" मामले की सुनवाई बुधवार को भी जारी रहेगी। एजेंसी समाचार। साभार।




जरा ठहरें...
उधर बुलेट की आधार शिला रखी, इधर राजधानी पटरी से उतरी!
रोहिंग्या मुसलमानों की भारत में अवैध निवासी पर सरकार का रुख सख्त!
बाबा रामदेव का नाम न देखकर मैं परेशान हूं
स्कूल चलो अभियान जल्द शुरू
गौरक्षकों के खिलाफ हर जिले में अधिकारी नियुक्त हो
बाबा राम रहीम की गिरफ्तारी के बाद हिसंक प्रदर्शन, कोर्ट ने कहा बल प्रयोग करें
एनसीआर के बैंकों में कामकाज ठप्प, 10 लाख से ज्यादा कर्मचारी हड़ताल पर!
१० साल की बच्ची द्वारा बच्ची को जन्म देने का मामला सर्वोच्च न्यायालय पहुंचा
चीन ने फिर कहा भारत से युद्ध होकर रहेगा
"भाजपा अध्यक्ष के अपराधी बेटे को बचा रहा है गृहमंत्रालय"
आधार कार्ड के सर्वर सुरक्षित हैं - रवि शंकर प्रसाद
अमित शाह ने कहा सांसद सदन में मौजूद रहें
'सत्ता हथियाने का भाजपा के मुंह में खून लग चुका है'
उत्तर कोरिया से मिसाइल परीक्षण से अमेरिका चिंतित
१० साल की लड़की को गर्भपात कराने की इजाजत नहीं - न्यायालय
केंद्र ने माना निजता का मामला मौलिक का है लेकिन शर्त के साथ
देश चीन की धमकी और गतिविधियों को गंभीरता से ले - भारतीय सेना
काग्रेंस ने वेंकैय्या नायडू के ईनामदारी पर प्रश्न लगाए
भारी फजीहत के बाद जागा रेलवे, खान-पान की गुणवत्ता पर विशेष ध्यान
चीन को लेकर भारत चौकन्ना है - सुषमा स्वराज
जीता तो पद की गरिमा बनाए रखूंगा - नायडू
विद्यार्थियों को छात्रावास में रहने के लिए कर नहीं देना पड़ेगा
कुलभूषण की मौत की सज़ा पर लगी रोक
तीन साल मोदी सरकार कश्मीर सबसे बड़ी असफलता है!
तीन तलाक सबसे घटिया तरीका है - सुप्रीम कोर्ट
जब से मुख्यमंत्री बने योगी आदित्यनाथ तीन बार नाम बदले गए!
रेलवे के इतिहास में 'गतिमान' सुनहरे पन्नों में दर्ज - अनिल सक्सेना
सरकार एक साल में मंदिर निर्माण का रास्ता साफ करे - विहिप
नेताजी १९४५ के बाद तक जीवित थे!
एक ऐसी दूरबीन जो १०० प्रकाश वर्ष दूर तक देख सकेगी!
प्रतिदिन 25-प्रतिशत बच्चे भूखे रह जाते हैं
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
मोदी सरकार के तीन साल के कार्यकाल से आप खुश हैं?
हां
नहीं
कह नहीं सकते
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें