ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

चर्चा में

...परमाणु युद्ध हुआ तो १० करोड़ से ज्यादा लोग मारे जाएंगे...!

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़

नई दिल्ली

३ अक्टूबर २०१९

जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटाए जाने के बाद से भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव बना हुआ है। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कई बार भारत को परमाणु हमले की धमकी तक दे दी है। पाकिस्तान की गीदड़भभकी का जवाब देते हुए भारत ने भी साफ कर दिया है कि अगर पाकिस्तान किसी भी तरह का दुस्साहस करने की कोशिश करता है, तो उसे बख्शा नहीं जाएगा। दोनों देशों के बीच पिछले कुछ समय से चले आ रहे तनाव के बीच अमेरिका की एक रिपोर्ट ने काफी डराने वाले आंकड़े पेश किए हैं।


प्रतीकात्मक तस्वीर। फाइल उपयोग के लिए।

इस रिपोर्ट में कहा गया है अगर भारत और पाकिस्तान के बीच परमाणु युद्ध होता है तो 10 करोड़ से अधिक लोग मारे जाएंगे। ‘साइंस एडवांस’ की एक रिपोर्ट के मुताबिक भारत और पाकिस्तान के बीच अगर परमाणु युद्ध की स्थिति बनती है, तो दोनों ही देशों को काफी बड़ा नुकसान उठाना पड़ सकता है। रटगर्स यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर एलन रोबॉक और अन्य वैज्ञानिकों के मुताबिक युद्ध के दौरान जो नुकसान होगा, उसके बारे में तो सभी जानते हैं। लेकिन युद्ध के बाद भी लाखों लोग मारे जाते रहेंगे। वैज्ञानिकों के मुताबिक दोनों देशों के बीच परमाणु युद्ध की स्थिति में पृथ्वी पर पहुंचने वाली सूरज की रोशनी की मात्रा में काफी कमी आ जाएगी, जिसकी वजह से बारिश में भी गिरावट आएगी।

इन सबका सीधा असर जमीन पर पड़ेगा और खेती तबाह हो जाएगी और महासागरीय उत्पादकता में भयानक गिरावट आएगी। शोधकर्ताओं के मुताबिक, भारत और पाकिस्तान के पास 400-500 परमाणु हथियार मौजूद हैं। युद्ध की स्थिति में अगर इन हथियारों का इस्तेमाल किया गया, तो इसका प्रभाव वैश्विक पर्यावरण के लिए विनाशकारी होगा। रिपोर्ट के मुताबिक दक्षिण एशिया पर परमाणु युद्ध का प्रभाव तीन तरह से होगा। इस रिपोर्ट में वैज्ञानिकों ने बताया है कि अगर भारत और पाकिस्तान के बीच परमाणु युद्ध होता है तो जिस तरह के परिणाम होंगे, उससे उबरने में दुनिया को 10 साल से ज्यादा का समय लगेगा।



पहला– परमाणु युद्ध की स्थति में विस्फोटो से निकलने वाला धुआं 16 से 36 मिलियन टन काला कार्बन छोड़ सकता है। इस कार्बन की तीव्रता इतनी तेज होगी कि कुछ ही हफ्तों में दुनिया भर में इसका असर देखने को मिलेगा। ऐसी स्थिति में जिन देशों का इस युद्ध से कोई लेना-देना नहीं है, वहां भी लोगों को गंभीर परिणाम भुगतने होंगे।


दूसरा– परमाणु विस्फोट के बाद वायुमंडल में कार्बन भारी मात्रा में सोलर रेडिएशन को इकट्ठा कर लेगी। इससे हवा में अधिक गर्मी आ जाएगी और धुंआ आगे नहीं निकल पाएगा। इसके परिणाम ये होगा कि पृथ्वी तक पहुंचने वाली धूप में 20 से 35 प्रतिशत की गिरावट आएगी। इसके कारण बारिश में कम होगी।

तीसरा– वायुमंडल में कार्बन की मात्रा बढ़ जाने के कारण सूरज की रोशनी जमीन तक नहीं पहुंचेगी और बारिश भी न के बराबर होगी। ऐसे में गर्मी की तपिश से जमीन सूख जाएगी और खेती पूरी तरह से बर्बाद हो जाएगी। इस वजह से वनस्पति विकास और महासागर उत्पादकता पर गंभीर प्रभाव पड़ेगा।



जरा ठहरें...
मुस्लिम पक्ष ने माना कि अयोध्या में भगवान राम का जन्म हुआ!
सिंगल यूज प्लास्टिक की उपयोगिता पर सरकार भ्रम दूर करे - कैट
दिल्ली में लगी प्रदूष जांच के लिए लंबी-लंबी लाइन लोग परेशान - तिवारी
लंदन में पाकिस्तानियों द्वारा भारतीय दूतावास पर हमला
उन्नाव कांड: सीबीआई नार्को जांच कराने पर कर रही है विचार
"भगवान राम अयोध्या में पैदा हुए, इससे आगे न्यायालय न जाए"…!!!
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी में इतिहास बदलने की क्षमता है - मेजर जनरल (रि) जे के एस परिहार
जम्मू कश्मीर से धारा ३७० खत्म हुई, लोकसभा ने पास किया विधेयक
धारा 370 पर अधीर रंजन के बयान पर कांग्रेस असहज!
अभूतपूर्व मोदी सरकार: जम्मू कश्मीर पुनर्गठन विधेयक राज्यसभा से पास!
भाजपा ने अपने हत्यारे बलात्कारी विधायक को अब निकाला
ऐसी बिछी बिसात की आराम से पास हो गया तीन तलाक विधेयक
देश के नए गृहमंत्री की प्राथमिकताएं और चुनौतियां...?
प्रजातंत्र में कोई पक्ष शत्रु अथवा विचारधारा अस्प्रश्य नहीं होती है - मेजर जनरल परिहार
एफ-16 का मलबा आया सामने, पाकिस्तान का झूठ पकड़ा गया!
दिल्ली मेट्रो में एक साल में 8 करोड़ यात्रियों की कमी हुई
एक ऐसी दूरबीन जो १०० प्रकाश वर्ष दूर तक देख सकेगी!
प्रतिदिन 25-प्रतिशत बच्चे भूखे रह जाते हैं
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.