ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

चर्चा में

कैट ने फ्लिपकार्ट के बैलेंस शीट पर उठाया सवाल

आकाश श्रीवास्तव

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़

नई दिल्ली, ८ नवंबर २०१९

केंद्रीय वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल को भेजे गए एक पत्र  में कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट ) ने फ्लिपकार्ट प्राइवेट लिमिटेड की बैलेंस शीट का हवाला देते हुए उस पर  कानून को दरकिनार करने के गंभीर आरोप लगाए हैं जिसके कारण  सरकार को जीएसटी और आयकर में भारी राजस्व की हानि हुई है। फ्लिपकार्ट द्वारा इन्वेंट्री को नियंत्रित करने के लिए सकल जोड़तोड़, सरकार की एफडीआई नीति को दरकिनार करना और खुले और पारदर्शी तरीके से कारोबार करने के बजाय कंपनी के मूल्यांकन को बढ़ाने जैसे आरोप कैट ने लगाए हैं ।


कैट ने कहा है कि यह ई कॉमर्स बाजार को विषाक्त करने का खुला मामला है और श्री गोयल को पहले कदम के रूप में फ्लिपकार्ट ई कॉमर्स व्यवसाय को बंद करने के लिए आदेश देना चाहिए और कर विशेषज्ञों, चार्टर्ड एकाउंटेंट और वरिष्ठ अधिकारियों की एक उच्च स्तरीय समिति का गठन करना चाहिए जो एक समयबध्द सीमा में फ्लिपकार्ट, उसकी मूल कंपनी और अन्य सहयोगी या संबंधित कंपनियों की बैलेंस शीट, आय और व्यय खाते का गहराई से अध्ययन कर सरकार को अपनी रिपोर्ट सौंपे। गोयल को दिए अपने पत्र में कैट ने कहा कि हमने लगातार जोरदार तरीके से यह कहा है कि ये कंपनियां हर साल हजारों करोड़ रुपये का नुकसान कर रही हैं, लेकिन फिर भी वे बिना किसी समस्या के अपने व्यवसायों को जारी रखने में सक्षम हैं, जो कि अर्थशास्त्र के बुनियादी सिद्धांतों के खिलाफ है। हालांकि, मीडिया के एक हिस्से में फ्लिपकार्ट के बारे में सही तथ्यों का चौंकाने वाला खुलासा हुआ है, जिसने फ्लिपकार्ट की बैलेंस शीट का विश्लेषण किया है और उसका निष्कर्ष हमारे आरोपों की पुष्टि करता है कि फ्लिपकार्ट कोई मार्केटप्लेस नहीं है बल्कि  वास्तविक रूप में यह देश की सबसे बड़ी खुदरा कंपनी है जो एफडीआई नीति का घोर उल्लंघन है।

एक मीडिया रिपोर्ट का हवाला देते हुए कैट ने कहा कि देश के पांच शीर्ष कॉर्पोरेट खुदरा विक्रेताओं  ने  वित्तीय वर्ष 2018-19 में 43,374 करोड़ रुपये का माल ख़रीदा जबकि फ्लिपकार्ट की सिंगापुर मूल कंपनी फ्लिपकार्ट प्राइवेट लिमिटेड के वित्तीय स्टेटमेंट से पता चलता है कि अकेले फ्लिपकार्ट ने इस वर्ष 39,514 करोड़ रुपये का सामान खरीदा, जोकॉर्पोरेट खुदरा विक्रेताओं द्वारा खरीदे गए कुल माल का 90% है। प्रासंगिक सवाल यह है कि एक मार्केटप्लेस को इतने बड़े पैमाने पर सामान खरीदने और बेचने की आवश्यकता क्यों है?


कैट ने कहा की उसी वित्तीय वर्ष में फ्लिपकार्ट ने उन सामानों की बिक्री के कारण रु .4431 करोड़ का नुकसान उठाया जिसमें बिक्री के लिए खर्च किए गए आकस्मिक खर्चे शामिल नहीं हैं । 2019 में समाप्त होने वाले वित्तीय वर्ष में भारी डिस्काउंट देने की वजह से घाटा 170% तक बढ़ा है। एक अनुमान के अनुसार फ्लिपकार्ट हर दिन 110 करोड़ रुपये का सामान खरीद रहा है और प्रति दिन 39 करोड़ रुपये के नुकसान पर बेच रहा है।




जरा ठहरें...
सीआरपीएफ आतंकवादियों और नकस्लियों के खिलाफ निर्णायक कार्रवाई करे - गृहमंत्री
पीओके को भारत के नक्शे में दिखाए जाने से बौखलाया पाकिस्तान
सरकार का प्याज और टमाटर की बढ़ती दामों पर अंकुश लगाने के लिए नीदरलैंड और मिश्र से आयात करने का फैसला
अनुच्छेद 370 हटाकर केन्द्र सरकार ने कश्मीरियत और जमूरियत दोनों का दिल जीता
...परमाणु युद्ध हुआ तो १० करोड़ से ज्यादा लोग मारे जाएंगे...!
मुस्लिम पक्ष ने माना कि अयोध्या में भगवान राम का जन्म हुआ!
सिंगल यूज प्लास्टिक की उपयोगिता पर सरकार भ्रम दूर करे - कैट
दिल्ली में लगी प्रदूष जांच के लिए लंबी-लंबी लाइन लोग परेशान - तिवारी
लंदन में पाकिस्तानियों द्वारा भारतीय दूतावास पर हमला
उन्नाव कांड: सीबीआई नार्को जांच कराने पर कर रही है विचार
"भगवान राम अयोध्या में पैदा हुए, इससे आगे न्यायालय न जाए"…!!!
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी में इतिहास बदलने की क्षमता है - मेजर जनरल (रि) जे के एस परिहार
जम्मू कश्मीर से धारा ३७० खत्म हुई, लोकसभा ने पास किया विधेयक
धारा 370 पर अधीर रंजन के बयान पर कांग्रेस असहज!
अभूतपूर्व मोदी सरकार: जम्मू कश्मीर पुनर्गठन विधेयक राज्यसभा से पास!
भाजपा ने अपने हत्यारे बलात्कारी विधायक को अब निकाला
ऐसी बिछी बिसात की आराम से पास हो गया तीन तलाक विधेयक
देश के नए गृहमंत्री की प्राथमिकताएं और चुनौतियां...?
प्रजातंत्र में कोई पक्ष शत्रु अथवा विचारधारा अस्प्रश्य नहीं होती है - मेजर जनरल परिहार
एफ-16 का मलबा आया सामने, पाकिस्तान का झूठ पकड़ा गया!
दिल्ली मेट्रो में एक साल में 8 करोड़ यात्रियों की कमी हुई
एक ऐसी दूरबीन जो १०० प्रकाश वर्ष दूर तक देख सकेगी!
प्रतिदिन 25-प्रतिशत बच्चे भूखे रह जाते हैं
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.