ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

चर्चा में

वाह रे भारतीय रेल, पहुंचना था गोरखपुर पहुंच गयी उड़ीसा...!
"श्रमिक रेलगाड़िया अपने पहले के निर्धारित समय से दोगुना समय ले रही हैं"

आकाश श्रीवास्तव

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़

नई दिल्ली, २४ मई २०२०

कोरोना वायरस के काल में लॉकडाउन के चलते देश के विभिन्न शहरों में फंसे प्रवासी श्रमिकों को उनके घरों तक पहुंचाने के लिए शुरू की गईं श्रमिक ट्रेनें भी उनके लिए मुसीबत का सबब बन ही हैं। श्रमिक स्पेशल न सिर्फ देरी के साथ रास्ता भी भटक रही हैं। इन विशेष ट्रेनों की दशा और दिशा दोनों ही बिग़़डी दिखाई दे ही हैं। रेलवे की चुस्ती का आलम यह है कि पश्चिम रेलवे के मुंबई स्थित वसई रोड स्टेशन से 21 मई की शाम 7.20 बजे श्रमिक स्पेशल ट्रेन गोरखपुर के लिए रवाना हुई। लेकिन यह ट्रेन गोरखपुर के बजाय 23 मई को दोपहर ओडिशा के राउरकेला होते हुए झारखंड के गिरिडीह पहुंच गई।


संग्रहित तस्वीर।

जबकि मुंबई से गोरखपुर के सीधे मार्ग में न ओडिशा पड़ता है और न ही झारखंड। इस ट्रेन से यात्रा कर रहे विशाल सिंह कहते हैं कि ट्रेन के मार्ग में बदलाव के बारे में यात्रियों को कोई जानकारी तक नहीं दी गई। गंतव्य तक पहुंचने में चार-चार दिन का समय लग रहा है। खानपान की व्यवस्था भी दुरस्त नहीं होने की वजह से बच्चों से लेकर ब़़डों तक को बूंद-बूंद पानी को तरसना पड़ रहा है। रेलवे के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ कि चलती ट्रेन का रूट बदल दिया गया और यात्रियों को उसकी सूचना तक नहीं दी गई। रूट में बदलाव के अलावा इन विशेषष ट्रेनों को अपने गंतव्य तक पहुंचने में भी समान्य से बहुत ज्यादा समय लग रहा है। मध्य रेलवे के ही मुंबई के लोकमान्य तिलक टìमनस से जौनपुर के लिए 20 मई की शाम 7.30 बजे निकली विशेष ट्रेन आज, यानी 23 मई को दोपहर पौने दो बजे जौनपुर से आगे जाकर अकबरपुर में समाप्त हुई। वहां तक पहुंचने में इसे लगभग 67 घंटे लग गए। जबकि सामान्य दिनों में ट्रेनें यह दूरी 30 घंटे में पूरी कर लेती हैं।

21 मई को लोकमान्य तिलक टìमनस से ही सिद्धार्थनगर के लिए निकली एक अन्य विशेषष ट्रेन ने 23 मई को दोपहर बाद तीन बजे झांसी स्टेशन पार किया था। इस ट्रेन को मुंबई से भुसावल पहुंचने में 24 घंटे लग गए थे। जबकि सामान्य दिनों में पुष्पक एक्सप्रेस मुंबई के छत्रपति शिवाजी टìमनस से 24 घंटे में लखनऊ पहुंचा देती है। श्रमिकों की तकलीफ का आलम यह है कि किस्मत मेहरबान हो गई तो किसी स्वयंसेवी संस्था या आइआरसीटीसी की व्यवस्था में रास्ते में कुछ खाने को मिल जाता है। नहीं तो श्रमिकों के साथ चल रहे बच्चे बूंद–बूंद पानी को भी तरस रहे हैं।


पश्चिम मध्य रेलवे के सूत्रों का कहना है कि इन दिनों ट्रेनों की आवाजाही का व्यस्ततम रूट इटारसी और इसके आसपास के स्टेशन बन गए हैं। श्रमिक विशेषष ट्रेनें बिना टाइम टेबल के चल रही हैं। महाराष्ट्र ही नहीं, गुजरात से भी उत्तर प्रदेश और बिहार की ओर जानेवाली कई ट्रेनों को इटारसी होकर भेजा जा रहा है। इसके कारण इटारसी रूट का बोझ और ब़़ढ गया है। इसलिए भी इटारसी जैसे जंक्शन को जाम की स्थिति का सामना करना प़़ड रहा है। जिसके कारण कुछ ट्रेनों के रूट बदलने पडे़ हैं।




जरा ठहरें...
कोरोना काल का महासंकट:, जानिए चौथे लॉकडाऊन की प्रमुख बातें!
भारतीय वैज्ञानिक का दावा वायरस को नष्ट कर सकते हैं नई तकनीक से बने मास्क
स्वयं सेवकों ने स्थिति को विस्फोटक होने से बचाया
कोरोना वायरस से निपटने के लिए उत्तर रेलवे ने कसी कमर
घोर लापरवाही: विदेशों से आए 15 लाख लोग, सभी की जांच नहीं हुई - कैबिनेट सचिव
कोरोना से डरे नहीं बचाव करें - प्रधानमंत्री
तेज-तर्रार और सख्त आईपीएस अधिकारियों में गिने जाते हैं एस एन श्रीवास्तव
दिल्ली हिंसा को लेकर गृहमंत्री ने दिल्ली के मुख्यमंत्री के साथ की बैठक
देश के हर महानगर में काऊ हास्टल की जरूरत - रूपाला
दिल्ली में मतदाताओं की संख्या में रिकार्ड बढोत्तरी
दिल्ली का तापमान 1.7 डिग्री पर पहुंचा
बदले की भावना से की गयी कार्रवाई न्याय नहीं - मुख्य न्यायाधीश
अनुच्छेद 370 हटाकर केन्द्र सरकार ने कश्मीरियत और जमूरियत दोनों का दिल जीता
मुस्लिम पक्ष ने माना कि अयोध्या में भगवान राम का जन्म हुआ!
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी में इतिहास बदलने की क्षमता है - मेजर जनरल (रि) जे के एस परिहार
एक ऐसी दूरबीन जो १०० प्रकाश वर्ष दूर तक देख सकेगी!
प्रतिदिन 25-प्रतिशत बच्चे भूखे रह जाते हैं
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.