ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

चर्चा में

डीजीपी सम्मेलन में प्रधानमंत्री का अत्याधुनिक तकनीक और सुधार पर बल
सम्मेलन में केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाकार अजीज डोभाल भी शामिल हुए

आकाश श्रीवास्तव

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़ नेटवर्क

21 नवंबर 2021

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 20-21 नवंबर को लखनऊ में आयोजित 56वें पुलिस महानिदेशक/महानिरीक्षक सम्मेलन में सम्मिलित हुए। सम्मेलन में विभिन्न राज्यों/केंद्रशासित प्रदेशों तथा CAPF/CPOs के 62 महानिदेशक/महानिरीक्षक लखनऊ में शामिल हुए।  इसके अतिरिक्त, विभिन्न वरिष्ठता के 400 से अधिक अधिकारियों ने देश भर में मौजूद आसूचना ब्यूरो कार्यालयों से वर्चुअल तौर पर इसमें भाग लिया।

प्रधानमंत्री ने सम्मेलन के दौरान इन चर्चाओं में भाग लिया तथा अपने अमूल्य सुझाव दिए। सम्मेलन से पूर्व, कारागार सुधार, आतंकवाद, वामपंथी उग्रवाद, साइबर अपराध, नारकोटिक्स ट्रैफ़िकिंग, NGOs की विदेशी फंडिंग, ड्रोन संबंधी मुद्दे, सीमावर्ती गांवों का विकास इत्यादि जैसे राष्ट्रीय सुरक्षा से संबंधित महत्वपूर्ण विषयों के मुख्य पहलुओं पर चर्चा के लिए पुलिस महानिदेशकों के अनेक कोर ग्रुप गठित किए गए थे। 

प्रधानमंत्री ने इन चर्चाओं में शामिल होकर अपने बहुमूल्य सुझाव दिए।  सम्मेलन से माननीय प्रधानमंत्री ने अपने समापन संबोधन में  सभी पुलिस संबंधित घटनाओं के विश्लेषण तथा सीखने की इस प्रक्रिया को संस्थागत करने पर बल दिया। उन्होने सम्मेलन को हाइब्रिड प्रारूप में करवाने की भरपूर प्रशंसा की और कहा कि इससे विभिन्न स्तर के अधिकारियों के बीच सूचनाओं का प्रवाह सुगम हुआ है। उन्होने देश भर की पुलिस फोर्स के लाभ के लिए तकनीकों के विकास पर ज़ोर दिया।  उन्होने गृह मंत्री के नेतृत्व में एक उच्च शक्ति पुलिस टेक्नालजी मिशन गठित करने के लिए कहा ताकि भविष्य की तकनीकों को जमीनी स्तर की पुलिस आवश्यकताओं के अनुरूप ढाला जा सके।  

सामान्य लोगों के जीवन में तकनीक के महत्व को रेखांकित करने के लिए प्रधानमंत्री ने Cowin, GeM और UPI के उदाहरण दिए।  उन्होने कोविड महामारी के बाद पुलिस के व्यवहार में जनता के प्रति आए सकारात्मक बदलाव की प्रशंसा की।  उन्होने कहा कि ड्रोन तकनीक का उपयोग लोगों के लाभ के लिए किया जाना चाहिए।  उन्होने 2014 में लागू किए गए SMART पुलिसिंग की नियमित समीक्षा के लिए कहा और उसमें लगातार बदलाव लाने और उसे संस्थागत करने पर बल दिया।  पुलिस की रोज़मर्रा के समस्या के समाधान के लिए उन्होने उच्च तकनीकी शिक्षा प्राप्त युवाओं को जोड़ने के लिए कहा ताकि hackathon के माध्यम से तकनीकी समाधान ढूँढे जा सकें।

प्रधानमंत्री ने आसूचना ब्यूरो के कर्मियों को विशिष्ट सेवा के लिए राष्ट्रपति पुलिस पदक प्रदान किए।  पहली बार माननीय प्रधानमंत्री के निर्देश पर अनेक राज्यों के आईपीएस अधिकारियों ने समसामयिक सुरक्षा मुद्दों पर अपने लेख प्रस्तुत किए, जिससे इस सम्मेलन का महत्व और बढ़ गया। 









जरा ठहरें...
सर्दियों को देखते हुए रेलवे ने गाडियों के सुचारू परिचालन के लिए कसी कमर
बीएचईएल ने प्रदूषण से निपटने के लिए बनाए टावर, केंद्रीय मंत्री महेंद्र पांडेय ने किया उद्घाटन
भारतीय नौवहन निगम ने हीरक जयंती मनाई
सावधान! कोरोना से भी खतरनाक डेल्टा प्लस आ चुका है भारत में
चुनाव आयोग पर हत्या का केस चले, उसकी वजह से कोराना का हुआ विस्फोट - उच्च न्यायालय
देश में कोरोना के फिर बढ़ने लगे मामले
उत्तराखंड आपदा , 32 की मौत, युद्ध स्तर पर बचाव कार्य जारी
नए राष्ट्रपति भवन और केंद्रीय गलियारे को सर्वोच्च न्यायालय की मंजूरी
सर्वोच्च न्यायालय ने ‘सेंट्रल विस्टा’ परियोजना की आधार शिला रखने की दी मंजूरी
एक ऐसी दूरबीन जो १०० प्रकाश वर्ष दूर तक देख सकेगी!
प्रतिदिन 25-प्रतिशत बच्चे भूखे रह जाते हैं
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
चीन मुद्दे पर क्या सरकार ने जितने जरूरी कठोर कदम उठाने थे, उठाए कि नहीं?
हां
नहीं
पता नहीं
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.