ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

चर्चा में

वंदेभारत के नए विकल्प की तलाश में जुटी भारतीय रेलवे?

आकाश श्रीवास्तव

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़ नेटवर्क

नई दिल्ली

भारतीय रेलवे साधारण सवारी रेलगाड़ी और वंदेभारत के बीच नई रेलगाड़ी की विकल्प की तलाश कर रही है। रेलवे सूत्रों के अनुसार वंदेभारत रेलगाड़ियों का किराया इतना महंगा है कि वंदेभारत से यात्रा आम आदमी के लिए उपयोगी सिद्ध नहीं हो पा रहा है। देश के विभिन्न मार्गों में चल रही 25 वंदेभारत को कई मार्गों में पूरे यात्री नहीं मिल रहे हैं। यही कारण है कि रेलवे को दो दिन पहले ही वंदेभारत और कुछ अन्य रेलगाड़ियों में बैठ कर सफर करने वाले वातानुकूलित श्रेणी के किराए में कटौती करने के लिए मजबूर होना पड़ा।

एक तरफ कहा जा रहा है कि भारतीय रेलवे की तरफ से यात्रिनयों की सुविधाओं को ध्याठन में रखकर लगातार कदम उठाए जा रहे हैं। रेलवे की तरफ से लगातार सेमी हाईस्पीतड ट्रेन वंदेभारत का संचालन किया जा रहा है। रेलवे सूत्रों के अनुसार आम रेल यात्रियों को वंदेभारत जैसी सुविधा देने के लिए रेलवे नए विकल्प पर काम कर रही है। आम यात्रियों का सफर आरामदायक और किफायती बनाने के लिए रेलवे द्वारा कहा गया है कि जल्द स्लीपर और जनरल सुविधा के साथ गैर-एसी वंदे साधारण ट्रेन की शुरुआत की जाएगी। सूत्रों के अनुसार, नॉन-एसी वंदे साधरण ट्रेनों का निर्माण आईसीएफ चेन्न-ई में 65 करोड़ की अनुमानित लागत से शुरू किया जा रहा है उम्मीद जतायी जा रही है कि वंदेभारत की विकल्प के तौर पर पहली नानएसी साधारण वंदेभारत ट्रेन की पहली रेक नवंबर दिसंबर तक आने की उम्मीद है। 
बता दें कि चेयर कार की सुविधा से लैस एसी वंदे भारत ट्रेन का निर्माण आईसीएफ चेन्नकई में किया जा रहा है। अब तक 25 मार्ग पर इस ट्रेन का संचालन हो रहा है। एक ट्रेन को तैयार करने में करीब 100 करोड़ रुपये की लागत आती है। जबकि साधारण वंदेभारत ट्रेन के बारे में कहा जा रहा है कि इसका एक रैक तकरीबन 65 करोड़ रूपए में तैयार होने की उम्मीद है। इस नई ट्रेन में वंदे साधरण ट्रेन में कुल 24 एलएचबी कोच और दो लोकोमोटिव होंगे।
कहा जा रहा है कि वंदेभारत के विकल्प के रूप में आ रही यह ट्रेन कई विशेषताओं से लैस है। वंदे साधरण ट्रेन में यात्रि यों को आधुनिक सुविधा की उम्मी द है। ट्रेन में बायो-वैक्यूम टॉयलेट, यात्री सूचना प्रणाली, और चार्जिंग प्वापइंट जैसी सुविधाएं होंगी। यात्रि यों की सुरक्षा को बढ़ाने के लिए हर कोच में सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएंगे। वंदे साधारण ट्रेन वंदे भारत एक्सप्रेस की तरह स्वचालित दरवाजा प्रणाली से युक्त होगी। ऐसा पहली बार है जब रेलवे की तरफ से नॉन ऐसी ट्रेनों में सीसीटीवी कैमरे, बायो-वैक्यूम टॉयलेट और स्वचालित दरवाजा प्रणाली जैसी सुविधाएं देने की योजना बनायी जा रही है। 

हम बता दें कि रेलवे को वंदे भारत ट्रेनों के किराए को लेकर आलोचना का सामना करना पड़ा है। नई शुरू होने वाली वंदे साधारण में साधारण किराया होने की उम्मीद है। इससे लाखों यात्रियों के लिए सुविधाजनक यात्रा करना आसान होगा। यानि वंदेभारत की नई विकल्प जल्द भारतीय रेल यात्रियों को मिलने वाली है।




कुछ इस तरह से होगी साधारण वंदेभारत नई ट्रेन।





जरा ठहरें...
राम का विरोध करने वाले संत नहीं हो सकते - बाबा रामदेव
योगी बोले अयोध्या में अब गोली नहीं चलती, बल्कि दीपोत्सव होता है
दालों की कीमतों पर इस तरह से अंकुश लगाने की तैयारी
सरकार रेलवे की सुरक्षा को लेकर गंभीर है, जिसमें सुधार जारी है - अर्जुन मुंडा
मध्य प्रदेश पेशाब कांड पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पीड़ित के धोए पैर
भ्रष्टाचार की गारे से तैयार शिवराज की महाकाल लोक की मूर्तियां हवा की एक झोंके भी नहीं सह पायी
जब ईरान में बहाई धर्म अपनाने वाली 10 महिलाओं को फांसी की सजा दे दी गयी
दिल्ली में जी-20 की तैयारियों को लेकर NDMC ने कसी कमर
केंद्रीय अर्धसैनिक बलों के भोजन में मोटे अनाज को शामिल करने का फैसला
इस बार इस तरह से मनाया जाएगा विश्व पर्यावरण दिवस
भारत गौरव विशेष पर्यटक रेल गाड़ी पहुंची बनारस
अखिल भारतीय आयुर्वेद संस्थान द्वारा G-20 से पहले सी-20 की शानदार मेजबानी की गयी
कश्मीर में रेलवे ने सुरंग आर-पार करके हासिल की बड़ी उपलब्धि
मुख्य समाचार इस वजह से भोपाल दिल्ली वंदेभारत एक्सप्रेस अन्य वंदेभारत एक्सप्रेस से है अलग
रेलवे की घोषणा दिल्ली से वाराणसी के बीच अब वंदे भारत 6 दिन चलेगी
अब रिजर्व बैंक की निगाहें आडानी पर टिकी, देश के बैकों से अडानी को दिए उधारी का लेखा जोखा मांगा
अडानी समूह के बुरे दिन की शुरूआत? अडानी को सबसे बड़ा ठग कहा गया
NDMC ने 2023 और 2024 के लिए बजट किया पेश, बजट में कई विकास कार्यों को मंजूरी
महाप्रबंधक ने उ.रेलवे के स्‍टेशनों पर यात्री सुविधाओं में वृद्धि पर बल दिया
आजादी का अमृत महोत्सव को रेलवे अपनी उपलब्धियों के रूप में मना रहा है
सामाजिक न्यायलय मंत्रालय ने नशा मुक्त रैली का आयोजन किया
सामाजिक न्याय मंत्रालय गरीब अनुसूचित पिछडे वर्ग के कल्याण के लिए समर्पित - डॉ वीरेंद्र कुमार
प्रधानमंत्री ने प्रधानमंत्री संग्रहालय का किया उद्घाटन, बोले यह साझा विरासत है
एक ऐसी दूरबीन जो १०० प्रकाश वर्ष दूर तक देख सकेगी!
प्रतिदिन 25-प्रतिशत बच्चे भूखे रह जाते हैं
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
चीन मुद्दे पर क्या सरकार ने जितने जरूरी कठोर कदम उठाने थे, उठाए कि नहीं?
हां
नहीं
पता नहीं
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.
Design & Developed By : AP Itechnosoft Systems Pvt. Ltd.