ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

अपराध जगत

सरकार गुड़ग्राम के लुटेरे पंचतारा ‘मेदांता’ अस्पताल पर कब कार्रवाई करेगी?

आकाश श्रीवास्तव

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़

नई दिल्ली। ९ दिसंबर २०१७

देश के बड़े-बड़े निजी पंचतारा अस्पताल लोगों के इलाज के लिए नहीं बल्कि लुटेरों और कसाइंयों का अड्डा बनते जा रहे हैं। यही नहीं इन पंचतारा अस्पतालो में लापरवाही के किस्से आम होते जा रहे हैं। इलाज के नाम पर मरीजों से लाखों रूपए मनमानी तरीके से वसूल लिए जाते हैं। मरीज के परिजन कुछ नहीं कर पाते। अभी हाल में दिल्ली से सटे गुड़ग्राम के फोर्टिज अस्पताल में 7 साल की बच्ची का डेंगू के इलाज के नाम पर लगभग 16 लाख के बिल बना दिए जाते हैं। बच्ची को भी नहीं बचा पाते उसकी मौत हो जाती है। परिजन तड़प के रह जाते हैं। दिल्ली में शालीमार बाग का मैक्स अस्पताल जिंदा बच्ची को मरा घोषित करके परिजन को पैक करके दे देते हैं। मां बाप तड़प के रह जाते हैं। जांच के बाद दिल्ली सरकार को मैक्स अस्पताल का लाइसेंस रद्द कर देना पड़ता है। यह चंद अस्पताल की कहानी नहीं है ज्यादातर निजी अस्पतालों का यही हाल है। मरीज को दरकिनार करके उनसे इलाज के नाम पर मनमाना पैसा वसूला जा रहा है।


अब दिल्ली से सटे गुडग्राम के मेदांता अस्पताल की कहानी है। कहने के लिए तो बड़ा अस्पताल है लेकिन किसी कसाई घर से कम नहीं है जो मरीज के जेब को काटने में कोई कसर नहीं छोड़ता। अभी कुछ दिन पहले यहां भी 7 साल की बच्ची का डेंगू का इलाज किया गया। अस्पताल बच्ची को बचा नहीं पाया लेकिन परिजन से 15 लाख से ज्यादा का धन वसूली कर ली। बच्ची के माता-पिता को अपना घर बेचने तक का नौबत आ गयी है। सवाल है हरियाणा सरकार मेदांता पर कब कार्रवाई करेगी? यही नहीं जाने माने मेदांता अस्पताल में मरीजों के साथ धोखाधड़ी करने के कई मामले आए हैं। आगे की कहानी अब उन मरीजों की जुबानी सुनिए जिन्होंने यहां इलाज की। हम यह भी बता दें ये दो कहानी मात्र उदाहरण के तौर पर है न जाने मेदांता जैसे निजी अस्पतालों ने कितने घरों को उजाड़ा, कितने मरीजों को गुमराह किया, कितने मरीजों के परिवारों को उजाड़ा है।

आइए सुनते हैं उन मरीजों की आपबीती जो मेदांता में इलाज करवाने आएं- जिसमें मरीजों ने अपनी आपबीती सुनाई है कि किस तरह पैसे लूटने के लिए मरीजों को गुमराह किया डॉक्टरों ने। कर्नल आर के राहुल और नंदिनी सिन्हा इस अस्प्ताल में धोखेबाजी के शिकार हुए तो अपनी आपबीती को फेसबुक के जरिये साझा करके के औरों को आगाह किया।


कर्नल आर के राहुल अपने फेसबुक वॉल पर लिखते हैं - 


बड़े-बड़े नामी अस्पतालों का तो बुरा हाल है। मैं फरवरी, 2015 में गुड़ग्राम के एक बहुत बड़े मल्टी स्पेशियलिटी हॉस्पिटल 'मेदांता - दी मेडिसिटी' में अपनी हार्ट प्रॉब्लम को लेकर डॉक्टर नरेश त्रेहान से मिला। मैंने 800/- उनकी कंसल्टेशन फ़ीस जमा की। डॉक्टर त्रेहान ने मेरे लखनऊ के रिकॉर्ड्स और पुरानी रिपोर्ट्स को देखते हुए कहा कि आपके 3 वाल्स ख़राब हैं। इन्हें रिप्लेस  करना होगा। खर्चा बताया 7.5 लाख रुपये। मेरा 2डी इको टेस्ट भी किया गया और तब भी यही बताया गया।

मेदांता के ही एक और डायरेक्टर हैं डॉक्टर कासलीवालl  हम लोग उनसे लखनऊ के एक उनके परिचित के रेफरेंस से मिले। तब  डॉक्टर कासलीवाल ने डॉक्टर त्रेहान से बात की और हमें 5.75 लाख जमा करने को कहा। हम लोगों ने जमा कर दिए और एडमिट हो हो गए। चेकअप स्टार्ट हो गया।12 मार्च की डेट दे दी गयी सर्जरी की। 11 मार्च की रात में जो लिस्ट रिलीज की की गयी, उसमें मेरा नाम नहीं था। अगली सुबह जब डॉक्टर्स राउंड पर आये तो पता चला कि आपके यूरिन में इंफेक्शन है, उसका ट्रीटमेंट होगा तब सर्जरी होगी। ट्रीटमेंट में सुबह-शाम एंटीबायोटिक इंजेक्शन्स लगने थे। 6 दिन का कोर्स था। मेदांता का रूम 8000/- रोज का था।  हम लोगों ने डिस्चार्ज ले लिया और बाहर गेस्ट हाउस में रहकर इलाज करवाने लगे।


5 दिन बाद मेरे एक दिल्ली के मित्र ने कहा कि एक बार क्रॉस चेक के लिए कहीं और भी इको करा लो। हम दिल्ली के नेशनल हार्ट इंस्टीट्यूट में गए और वहां 2डी इको कराया 3000/- में। उन लोगों ने बताया कि आपका 1 valve खराब है। उसकी सर्जरी करके रिप्लेस की कोस्ट बतायी 3.75 लाख। हम लोग बहुत कन्फ्यूज्ड हो गए क्योंकि मेदांता में हमारा 5.75 जमा था। हम लोग डॉक्टर कासलीवाल से दोबारा मिले और उनको नेशनल हार्ट इंस्टीट्यूट की इको रिपोर्ट दिखाई।

डॉक्टर कासलीवाल सर पकड़ कर बैठे रहे, उनका पूरा स्टाफ, (करीब 8-9) लोग उस समय उनके चैम्बर में थे, डॉक्टर करीब 30-40 सेकेंड के पॉज के बाद बोले कि - 'यार मैं तो त्रेहान से पहले दिन से कह रहा हूं, आपका एक ही वॉल्व खराब है, लेकिन क्या करें, हम लोगों पर इतना प्रेशर रहता है।'  मैं यह सुनकर काफी शॉक्ड हुआ। उनका सारा स्टाफ उनकी और हमारी शक्ल देख रहा था। उनके चेहरे पर शर्मिंदगी और मेरे चेहरे पर असंतोष के भाव थे।

मैंने कहा डॉक्टर साहब मैं आपके पास फला व्यक्ति के रेफरेंस से आया था। कम से कम आप उसी का सोच कर मेरे से ईमानदारी रखते। खैर, हम लोगों ने बाद में अपने पैसे वहां से वापस लिए तो 80000/- काट कर हमको पैसे वापस किये गए। 80000/- हॉस्पिटल ने अपने एक्सपेंसेज के काट लिए, जो हमारी जांचें हुई थी और 4 दिन हम लोग 8 स्टार हॉस्पिटल में रहे थे। फाइनली, हमने अपनी सर्जरी दूसरे हॉस्पिटल में कराई । इस प्रकार से बड़े हॉस्पिटल मरीज़ को चित करते हैं। यह मेरा अपना व्यक्तिगत अनुभव रहा जो कि अत्यन्त दुखदायी है। इतना बड़ा अस्प्ताल इतने बड़े नाम वाला डॉक्टर और ये हाल है।

नंदिनी शर्मा का मामला भी राहुल जैसा ही है। अपनी मां के इलाज के लिए गई नंदिनी को यहां फ्रॉड का शिकार होना पड़ा -  

नंदिनी सिन्हा ने अपनी मां को मेदांता - दी - मेडिसिटी में वाल्व रिप्लेसमेंट सर्जरी के लिए एडमिट कराया। भर्ती करने के 2 दिन बाद अचानक से हॉस्पिटल स्टाफ ने 4 लाख जमा करवाने के लिए कहा नंदिनी को बताया गया की मां की बाइपास सर्जरी होगी, लेकिन जब डॉक्टर से बात की तो उन्हें पता चला कि उनकी मां को किसी बाइपास सर्जरी की ज़रूरत नहीं है यह सिर्फ नर्सिंग स्टाफ़ की ग़लती है।

नंदिनी की मां का इलाज हुआ, लेकिन एक महीने बाद उनकी मां को फिर से वही परेशानी होने लगी। उन्हें फिर से एडमिट किया गया तो इस बार डॉक्टर्स ने उन्हें वेंटिलेटर पर रखा। इसी दौरान नंदिनी और कुछ रिश्तेदार उनकी मां को देखने पहुंचे तो उन्होंने देखा कि उनके हाथ-पांव ठंडे पड़े हैं, ऐसा लग रहा था कि उनमें जान ही न बची हो। जब डॉक्टरों को बताया गया तो उन्होंने नंदिनी की मां को थ्रोम्बोलिसिस नाम का एक ड्रग दिया जो एक लाख रूपए का था। इसके बावजूद भी उन्हें बचाया नही जा सका। मेदांता जैसा अस्पताल मृत हो चुके मरीजों को भी वेंटीलेटर पर डालकर लाखों रूपए वसूलते हैं। न इनका कोई ईमान है धर्म है।

सिर्फ पैसे के लिए ये निजी पंचतारा अस्पताल इतने नीचे गिर जाते हैं कि कोई सोच भी नहीं सकता है। सवाल है सरकार निजी अस्पतालों पर नज़र क्यों नहीं रखती। मेदांता द्वारा किए मनमाने पन की बहुतेरी कहानियां हैं सवाल है सरकार मेदांता पर कब कार्रवाई करेगी?


जरा ठहरें...
कुंभमेला यूनेस्को के सांस्कृतिक विरासत में शामिल, मोदी बोले गर्व की बात!
दिल्ली के क्नॉट प्लेस में दिन दहाड़े महिला के साथ छेड़खानी
अपराध के मामले में देश में दिल्ली शीर्ष पर
दुष्कर्म मामले में तीन को मौत की सजा
पूर्व नौसेना प्रमुख ने न्यायाधीश की मौत की जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट को लिखी चिट्ठी!
लालू सहित कई व्यक्तियों की सुरक्षा स्तर घटाई गयी
सरकार महिलाओं के लिए ''सुरक्षित नगर योजना'' ला रही है
पंबाज के मोस्टवांटेड अपराधियों को दिल्ली में गिरफ्तार किया गया
सीबीआई ने रिश्तेदार को भेजा सम्मन
दिल्ली में अतिथि अध्यापक की सरेआम हत्या
एनआईए ने बयान दर्ज किया!
रेल सिग्नल बाधित कर चोरी करने वाले गिरोह का पर्दाफाश
बीएसएफ और पाकिस्‍तान रेंजर्स के महानिदेशकों के बीच कई अहम मुद्दों पर चर्चा हुई
प्रदयुम्न हत्याकांड मामले में ११वीं का छात्र गिरफ्तार
सर्वोच्च न्यायालय ने कहा नोटबंदी का विरोध करने वाले संविधान पीठ के पास जाएं
नेताओं के खिलाफ आपराधिक मामलों के लिए विशेष अदालत गठन हो - सुप्रीम कोर्ट
दिल्ली में दिवाली की रात युवक की पीट-पीटकर हत्या
यदि पत्नी की उम्र १८ साल से कम है तो यौन संबंध बनाने पर सजा!
दुनिया भर के जासूस दिल्ली में इक्टठा हो रहे हैं
पुलिस के हत्थे चढ़ गयी हनीप्रीत
आरपीएफ ने मनाया पूरे जोश के साथ स्थापना दिवस!
केजरीवाल मेरे ऊपर हमला करवा रहे हैं - स्वामी ओमजी
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
मोदी सरकार के तीन साल के कार्यकाल से आप खुश हैं?
हां
नहीं
कह नहीं सकते
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें