ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

अपराध जगत

एक आईपीएस के रूप में सदैव ईमान रहा, सरकार ने न्याय का गला घोंट दिया- आलोक वर्मा, पूर्व सीबीआई निदेशक
सीबीआई के पूर्व निदेशक ने कहा मेरे ४० साल का आईपीएस का कैरियर बेदाग रहा!

आकाश श्रीवास्तव

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़

नई दिल्ली

केंद्रीय जांच के पूर्व निदेशक आलोक वर्मा ने भारतीय पुलिस सेवा से इस्तीफा दे दिया हैय़ अपने इस्तीफे में उन्होंने सरकार और वर्तमान व्यवस्था की ताने बाने पर उन्होंने बड़ा आरोप लगाते हुए कहा कि उनके साथ स्वाभा‍विक न्याय नहीं किया गया और अपनी बात रखने का मौका भी नहीं दिया गया। व्यवस्था से इतने नाखुश लगे आलोक वर्मा ने डीजी फायर सर्विसेज ऐंड होमगार्ड के पद को भी संभालने से इनकार कर दिया था। इस्तीफा देने के बाद सीबीआई वर्मा ने कहा, 'यह भी गौर करने की बात है कि मैं 31 जुलाई, 2017 को ही रिटायर हो चुका हूं और 31 जनवरी, 2019 तक की अवधि के लिए सीबीआई के डायरेक्टर पद पर काम कर रहा था, जो कि निश्चित अवधि की एक भूमिका थी मैं अब सीबीआई डायरेक्टर नहीं हूं और मैं डीजी फायर सर्विसेज, सिविल डिफेंस एवं होमगॉर्ड पद के लिए रिटायरमेंट की उम्र पार कर चुका हूं।


इसलिए मुझे आज से ही रिटायर मान लिया जाए।गुरुवार को जब सीबीआई के डायरेक्टर की नियुक्ति करने वाली चयन समिति की बैठक हुई थी तो इसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस ए के सीकरी और कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे शामिल थे। उन्होंने कहा, 'मुझे सीबीआई के निदेशक पद से हटा दिया गया और इस प्रक्रिया में स्वाभाविक न्याय का गला घोंटा गया और पूरी प्रक्रिया को उलट-पुलट दिया गया। चयन समिति ने इस तथ्य पर विचार नहीं किया कि सीवीसी की पूरी रिपोर्ट एक ऐसे शिकायतकर्ता के आरोपों पर आधारित थी जो खुद सीबीआई जांच के घेरे में है। ' उन्होंने कहा, संस्थाएं हमारे लोकतंत्र की सबसे मजबूत और दृश्यवान प्रतीक हैं और यह कहना अतिशयोक्ति नहीं होगी कि सीबीआई आज भारत के सबसे महत्वपूर्ण संगठनों में से है। कल का निर्णय इस बात का सबूत है कि एक संस्था के रूप में सीबीआई के साथ सरकार किस तरह का सुलूक कर रही है।

वर्मा ने अपने इस्तीफे में लिखा है, 'एक अफसरशाह के रूप में मेरे चार दशक के करियर में मैं हमेशा ईमानदारी के रास्ते पर चला हूं। आईपीएस के रूप में भी मेरा रेकॉर्ड बेदाग रहा है. मैंने अंडमान-निकोबार, पुडुच्चेरी, मिजोरम, दिल्ली में पुलिस बलों की अगुवाई की और दिल्ली कारागार तथा सीबीआई की भी अगुवाई की. मुझे इन सब बलों से अमूल्य समर्थन मिला है। गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता वाली चयन समिति ने उन्हें सीबीआई चीफ के पद से हटा दिया था और उनका तबादला बतौर डीजी फायर सर्विसेज ऐंड होमगार्ड कर दिया था। कार्मिक एवं प्रशि‍क्षण विभाग को लिखे अपने पत्र में वर्मा ने कहा है कि चयन समिति ने उन्हें हटाने का निर्णय लेने से पहले अपनी बात ब्योरेवार ढंग से रखने का मौका नहीं दिया, जैसा कि सीवीसी में रिकॉर्ड हुआ था।





जरा ठहरें...
हर हालात से निपटने के लिए तैयार हैं हम - महानिदेशक सीआईएसएफ
किडनी कांड में दिल्ली के दो डॉक्टरों के नाम सामने आए
दिल्ली पुलिस भ्रामक फोन कॉल के खिलाफ कार्रवाई करे
वाड्रा और ईडी आमने सामने: पूछताछ की गोपनीयता भी है कोई..?
ऋषि शुक्ला सीबीआई के नए मुखिया बने
नागेश्वर राव की नियुक्त गैरकानूनी - कांग्रेस
सर्वोच्च न्यायालय के वरिष्ठ न्यायाधीश पर लगा आरोप!
Exclusive: उ.प्र. पुलिस के महानिदेशक ओपी सिंह होंगे सीबीआई के नए निदेशक...?
दिल्ली के शेल्टर होम के बच्चियों के साथ क्रूरता की हदें पार, मिर्च डाली जाती थी
दिल्ली से सटे गुरूग्राम में सिपाही को सरेआम अगवा किया गया
एसएसबी ने पूर्वोत्तर में चौकसी बढ़ाने के लिए 18 नई चौकियां बनाई!
रेलवे सुरक्षा बल ने तेलंगाना एक्सप्रेस से लगभग पौने तीन कुंतल चांदी ले जाने वाले गिरोह को पकड़ा
सीबीआई का सरकार पर बड़ा आरोप, नीरव मोदी की जांच रोकने के लिए हुआ स्थानांतरण
दिल्ली में सेना के मेजर पर बलात्कार का आरोप
रेल सुरक्षा बल ने अनधिकृत टिकट बुकिंग एजेंट को पकड़ा
उत्कृष्ट सेवा के लिए 29 CISF अधिकारियों को राष्ट्रपति पुलिस पदक
सरकार ने माना आधार के जरिए धोखाधड़ी हुई और बैंक से पैसे निकाले गए!
सरकार गुड़ग्राम के लुटेरे पंचतारा ‘मेदांता’ अस्पताल पर कब कार्रवाई करेगी?
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.