ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

अपराध जगत

जबलपुर के पाटन का लेखपाल कैसे बना करोड़ों की संपत्ति का मालिक?
लेखपाल की मनमानी के आगे आम जनता है परेशान, अधिकारी भी हुए नतमस्तक?

मनीष श्रीवास

जबलपुर, म.प्र.

6 अक्टूबर 2022

जबलपुर जिले के पाटन विधानसभा क्षेत्र शासकीय कार्यालय में अंगद की तरह पैर जमाए अधिकारियों-कर्मचारियों का ट्रांसफर नहीं होने की वजह से पाटन क्षेत्र की भोली भाली जनता इन दिनों भ्रष्टाचारियों से बेहद परेशान है। यहाँ आलम ऐसा बना हुआ हैं कि बिना रिश्वत दिए कोई काम नहीं होता है। हम आपको जिले की पंचायत पाटन में लगभग सन 1980-82 से  दैनिक वेतन भोगी कर्मचारी के रूप में काम करने वाले कर्मचारी ने जनपद पंचायत में अपनी सेवा देना शुरू की और फिर दुबारा कभी पलट कर पीछे नही देखा। आज उस कर्मचारी की दहशत के आगे जनपद सीईओ भी पानी भरते नजर आते है। हम बात कर रहे है पाटन विधानसभा के जनपद में अपनी सेवा शुरू करने वाले दैनिक वेतन भोगी कर्मचारी बी पी सोनी की जो मूलतःपाटन के निवासी है और 1980-82 के दशक में पाटन जनपद में दैनिक वेतन भोगी कर्मचारी के रूप में भर्ती होकर चंद वर्षीय में स्थाई कर्मचारी बन कर आज पाटन जनपद में लेखापाल के पद पर आसीन होकर अपनी सेवा दे रहे है।

इनका जुगाड़ मेंट इतना तगड़ा था कि चंद वर्ष में ही स्थाई कर्मचारी बन गए। लेखपाल की सेटिंग का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि सर्विस जॉइनिंग दिनांक से आज तक सिर्फ दो माह के लिए मझौली जनपद पंचायत में इनका ट्रांसफर हुआ था उसके बाद तगड़ी सैटिंग की दम पर दो माह बाद पुनःजनपद पंचायत पाटन में अपनी पदस्थापना कराकर शान के साथ अंगद के पैर की तरह जमे हुये है। आप सभी को ये बताते हुये आचार्य होगा कि जहाँ युवा पीढी रोजगार पाने के लिये दिन रात एक कर रही हैं वही आज  रिश्वतखोरी का बेताज बादशाह लेखपाल:-चुकी मूलतः पाटन का निवासी होने के कारण पाटन की तासीर से भली भांति परिचित है लेखपाल वीपी सोनी, वे यह बात अच्छे से जानते है कि किससे कैसे सम्बन्ध बना कर रखना है। और किसको अपनी उंगलियों पर नाचना है। लेखपाल की कार्य गुजारियो की फेरलिस्ट बहुत लंबी है। इनके द्वारा सरपंच सचिव से कार्य योजना की लागत की रकम पर 5-6% कमीशन का पैसा लिए बिना इनकी टेबिल से फाइल आगे ही नहीं बढ़ती इनके द्वारा जनपद पंचायत की मुख्य मार्ग पर भूमि एवं भवन जिनका बाजार मूल्य करोड़ो रूपए में है।

मामूली से किराए पर जनपद की प्रापर्टी अपने चहेतों में बदर बाट कर लाखों रूपये की रिश्वत लेकर भ्रष्टाचार किया गया है। साथ ही जनपद में भी फर्जी बिलो के माध्यम से भी लाखों रू का भुगतान किया गया है। पाटन की पंचायत में होने वाले भ्रष्टाचार की मुख्य वजह वीपी सोनी लेखपाल है। यदि लेखपाल पर पूरी ईमानदारी से जांच शुरू की जाय तो और भी तथ्य चौकाने वाले सामने आ सकते है।
इतना ही नहीं इनके साथी ज्ञान विजय ग्रुप के बिल्डर पाण्डे बंधुओ से लेखपाल की मित्रता:- पाण्डे बंधु जिनकी साईट कटंगी रोड पर ज्ञान विजय परिसर के नाम से चल रही है और सभी विभागों से एनओसी प्राप्त कर प्लाटिंग की गई है।लेखापाल की मेहरबानी के कारण जनपद पंचायत की जमीन पर बिल्डर से मोटी रकम लेकर शासकीय जनपद पंचायत की जमीन पर रोड बनाने की अनुमति दे दी गई। रोड़ भी तत्काल बनकर तैयार हो गई और पाटन एवं आस पास के रिटायर,कर्मचारी,किसान,आमजनों ने प्लाट खरीद लिए। इसी मामले में पाटन एसडीएम से शिकायत भी की गई है और मामला एसडीएम न्यायलय में विचाराधीन बना हुआ हैं। बिल्डर को प्लाट बेचने की अनुमति देने में शासन के प्रायः सभी विभाग दोषी है। क्योंकि इनके द्वारा सही तथ्य को दरकिनार कर बिल्डर को अनुमति दे दी गई। अब जिन लोगों ने अपनी जमा पूजी से प्लाट खरीदे है। उनका क्या होगा यदि शासन का फैसला बिल्डर के पक्ष में नहीं आता है तो यह प्लाट मालिक किस रोड़ के सहारे अपने प्लाट तक पहुंच पाएंगे।,क्या बिल्डर के इस फर्जीवाड़े पर 420 का प्रकरण दर्ज होगा। क्या जिन लोगों ने प्लाट खरीदे है उनको न्याय मिलेगा। सूत्रो से मिली जानकारी अनुसार कुछ प्लाटो को लेखपाल और अन्य लोगों को उपहार स्वरूप देने की जानकारी है। दबी जुबान में कुछ लोग कहते है। इस पूरी हेराफेरी के मास्टर माइंड वीपी सोनी लेखपाल है। जनपद की जमीन पर रोड़ की अनुमति देने पर इस प्रोजेक्ट में कुछ परसेंट की पार्टनरशिप बिल्डर के द्वारा लेखपाल को दी गई है। उक्त जमीन घोटाले का फैसला आने के बाद ही स्थिति स्पष्ट हो पाएगी।

जिले में हैं इनके नाम से कई मकान व प्लांट - लेखापाल करोड़ो की संपत्ति का मालिक कैसे बना:लेखपाल वीपी सोनी आखिर मामूली सी सैलरी में भर्ती होकर आज लगभग 60 से 65 हजार रुपए की सैलरी पाने वाले आज कैसे करोड़ो रुपए की प्रापर्टी के मालिक बन गये । लेखपाल के ठाटबाट तो निराले है। कार,विजय नगर जबलपुर में करोड़ो रूपये की लागत से बना आलीशान बंगला, साथ ही लग्जरी फर्नीचर,भोग विलास के सभी साधन बंगले में उपलब्ध इसके अलावा एक और मकान विजय नगर में साथ ही कई प्लाट,एवं दुकानों का मालिक कैसे बना लेखपाल,साथ ही पाटन के बनवार में 10-12 एकड़ का कृषि फार्म हाउस जिसका बाजार मूल्य ही करोड़ रुपए के आसपास है।,पाटन में प्लाट एवं कई मकान है। सूत्र से मिली जानकारी अनुसार कोटा एवं भोपाल में भी फ्लैट का मालिक है जहां इसकी बेटियां डॉक्टरी की पढ़ाई कर रही है। जिसका महीने का खर्च ही लाखों रूपये में होता है। साथ की करोड़ो रुपए की लागत से उड़ना में हॉस्पिटल निर्माणाधीन है जो अपनी बेटी के लिए बनवाई जा रही है। आखिर इतनी सैलरी में आज के इस कठिन समय में कैसे संभव है। यह जांच का विषय है आखिर करोड़ों रुपए प्रॉपर्टी का मालिक कैसे बने लेखपाल,और भी कई बेनामी संपत्ति के मालिक है वीपी सोनी। यदि शासन के द्वारा लेखपाल की संपति की जांच होती है तो और भी तथ्य चौकाने वाले सामने आने की उम्मीद हम कर सकते है।

जनपद पंचायत पाटन में 42 वर्ष से जमे अंगद:-लेखपाल वीपी सोनी आखिर लगभग 42 वर्ष से पाटन जनपद में अपनी सेवा दे रहे है। इतने वर्ष के सेवाकाल में इनका ट्रांसफर न होने की क्या वजह है। शायद 1995 में एक बार इनकी सैटिंग फैली होने की वजह से इनको मात्र 2 महीने के लिए मझौली में सेवा देने जाना पड़ा था। लेकिन तगडे जुगाड़मेन्ट के चलते पुनः 2 माह में ही पाटन वापिस आकर जम गए। आखिर नौकरी तो कही भी की जा सकती है। फिर पाटन जनपद ही क्यों..? इसकी प्रमुख वजह यह है कि लेखपाल ने रिश्वतखोरी करके अपनी गहरी जड़े पाटन जनपद पंचायत में जमा ली है। और रिश्वतखोरी का धंधा पाटन में इनके कारण ही भली भांति फल फूल रहा है। अब देखना होगा वरिष्ठ अधिकारी कब तक इस सेटिंगबाज लेखपाल पर सक्त कार्यवाही करते है। और इनके विरुद्ध विभागीय जांच शुरू करते है या खेल फिर इसी प्रकार से चलता रहेगा और आम नागरिक परेशान होती रहेगी।
नोट- थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़ डॉट कॉम इस खबर की सत्यता की पुष्टि नहीं करता।



लेखपाल वीपी सोनी, फाइल फोटो।





जरा ठहरें...
गृह मंत्रालय ने कंझावाला मामले में पुलिस वालों पर कार्रवाई के निर्देश दिए
शक की सूई निधि पर क्यों जा रही है?
देश की राजधानी आम लोगों के लिए सुरक्षित नहीं - कांग्रेस
दिल्ली में दिल दहला देने वाली घटना, युवती को कार सवार युवकों ने 4 किमी तक घसीटा
एनआईए की देश भर में पीएफआई और एसडीपीआई के ठिकानों पर छापे
प्रयागराज में हिंसा उकसाने के आरोपी का घर जमींदोज किया गया
उ.प्र. में शुक्रवार की नमाज के बाद हिंसक प्रदर्शन करने वाले 3 सौ से ज्यादा गिरफ्तार
ईडी ने फारुख अब्दुल्ला को पूछताछ के लिए बुलाया
आतंकी नेता यासिन मलिक दोषी, 25 मई को सुनाई जाएगी सजा
आजम खां को अब आएंगे जेल से बाहर, सर्वोच्च न्यायालय से मिली जमानत
शिवराज के राज में नंगे किए गए पत्रकार, थानेदार का बेहूदा जवाब कपड़े नहीं उतरवाते तो फांसी लगा लेते
CISF ने नोएडा इलेक्ट्रॉनिक सिटी मेट्रो स्टेशन से यात्री को देशी पिस्तौल के साथ पकड़ा
डोभाल ने राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकारों की बैठक की अध्यक्षता की
पाकिस्तानी आतंकी 15 साल से दिल्ली में रह रहा था, पुलिस ने किया गिरफ्तार
सावधान! इस मेल आईडी से आई मेल पर कोई जानकारी साझा न करें!
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Third Eye World News: वीडियो
इन खूबियों से लैस है...
Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
चीन मुद्दे पर क्या सरकार ने जितने जरूरी कठोर कदम उठाने थे, उठाए कि नहीं?
हां
नहीं
पता नहीं
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.