ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

सिनेमा-मनोरंजन

विवादों में रही पदमावत २५ जनवरी को होगी रिलीज

नई दिल्ली

९ जनवरी २०१८

महीनों की अनिश्चितता के बाद संजय लीला भंसाली की विवादास्पद फिल्म 'पद्मावती' 25 जनवरी को यू/ए प्रमाण पत्र के साथ 'पद्मावत' नाम से रिलीज होगी। इस बहुप्रतीक्षित फिल्म का मुकाबला अक्षय कुमार अभिनीत 'पैडमैन' से है। फिल्म के निर्माता बैनर वायाकॉम 18 मोशन पिक्चर्स ने एक समाचार एजेंसी को बताया कि फिल्म 'पद्मावत' 25 जनवरी को रिलीज होगी। फिल्म को यू/ए सर्टिफिकेट मिला है। 'पद्मावती' पहले 1 दिसंबर को रिलीज होने वाली थी, लेकिन लंबे समय तक चले विवाद के बाद स्टूडियो ने स्वेच्छा से इसे स्थगित कर दिया था। अब नाम और कुछ दृश्यों में काट-छांट के बाद इस 'पद्मावत' नाम से रिलीज किए जाने की अनुमति मिल गई है।


'पद्मावत' मलिक मुहम्मद जायसी का लिखा महाकाव्य है, जिसकी नायिका पद्मावती है। इस फिल्म में दीपिका पादुकोण, रणबीर सिंह और शाहिद कपूर मुख्य भूमिकाएं निभा रहे हैं। राजपूतों का संगठन करणी सेना इस फिल्म का शुरू से विरोध करती रही है। संगठन का दावा है किया कि इस फिल्म में राजपूत समुदाय से संबंधित ऐतिहासिक तथ्यों को सही नहीं, बल्कि गलत रूप में दिखाया गया है। यह संगठन संसदीय समिति के समक्ष भंसाली के स्पष्टीकरण के बावजूद समूह फिल्म पर प्रतिबंध लगाने की अपनी मांग पर अड़ा हुआ है, हालांकि भंसाली का कहना है कि फिल्म पर जारी विवाद सिर्फ अफवाहों पर आधारित था। नवंबर-दिसंबर में गुजरात और हिमाचल प्रदेश में विधानसभा चुनाव के समय भाजपा ने राजपूट वोट पाने की गरज से करणी सेना का खुलकर साथ दिया।

करणी सेना ने जहां अभिनेत्री दीपिका पादुकोण की नाक काटने की धमकी दी, वहीं एक भाजपा सांसद ने कहा था कि संजय लीला भंसाली सिर्फ जूतों की भाषा समझते हैं। भाजपा शासित कई राज्यों के मुख्यमंत्री ने रिलीज होने से पहले ही फिल्म पर प्रतिबंध लगा दिया, जबकि संविधान ऐसा करने का अधिकार नहीं देता। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने तो पद्मावती को 'राष्ट्रमाता' तक घोषित कर दिया और उनके नाम पर एक पुरस्कार की घोषणा तक कर डाली।


भाजपा के ही नेता और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ हालांकि गौमाता को 'राष्ट्रमाता' मानते हैं। इससे पार्टी के अंदर 'राष्ट्रमाता' शब्द को लेकर मंथन शुरू हो गया। पिछले महीने केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड (सीबीएफसी) ने एक विशेष सलाहकार समीति के साथ चर्चा के बाद फिल्म को शीर्षक को बदलने समेत पांच बदलावों के साथ यू/ए प्रमाणपत्र दिया था। निमार्ताओं को डिस्क्लेमर जोड़ने के लिए कहा गया था, जिसमें से एक में सती के अभ्यास की प्रशंसा नहीं करने और 'घूमर' गीत में प्रासंगिक संशोधनों को चित्रित करना शामिल है।




जरा ठहरें...
एक फरवरी से दिल्ली में 'मुगल-ए-आजम' म्यूजिकल का दोबारा मंचन
सूचना प्रसारण मंत्रालय ने हमसे भी दबंगई किया था - निहलानी
मोदी सरकार जो पसंद नहीं उसे उसे तबाह कर सकती है : एस. दुर्गा के निर्देशक
पदमावती के समर्थन में फिल्म उद्योग का ब्लैक आऊट!
पदमावती पर प्रतिबंध नहीं - सुप्रीम कोर्ट
हरियाणा की मानुषी छिल्लर बनी विश्व सुंदरी
पहरेदार पिया की प्रसारण पर लग सकती है ब्रेक!
वीएलसीसी ने 'कूटुर ब्राइडल लुक ऑफ 2017' का अनावरण किया
बच्चे को स्तनपान कराते तस्वीर सार्वजनिक की हेडन ने
झगड़े के बावजूद कपिल ने सुनील को दी बधाई
खाने की जगह सेक्स को तरजीह देना पसंद करूंगी
कपिल शर्मा की तबियत खराब, अस्पताल में भर्ती
भारत में मुझसे बड़ा देशभक्त दूसरा नहीं है : शाहरुख खान
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
मोदी सरकार के तीन साल के कार्यकाल से आप खुश हैं?
हां
नहीं
कह नहीं सकते
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.