ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

प्रापर्टी समाचार

अवैध निर्माणों पर होगी अब इसरो की नजर

नई दिल्ली

२२ जुलाई २०१८

दिल्ली में अब अवैध निर्माण करना किसी के लिए भी आसान नहीं होगा। यहां नियमित या अवैध कॉलोनियों में किसी भी तरह के अवैध निर्माणों पर पल-पल की नजर रखने के लिए इंडियन स्पेस रिसर्च ऑर्गनाइजेशन (इसरो) ऐसे निर्माणों की डिजिटल मैपिंग करेगा। सुप्रीम कोर्ट ने यह काम करने के लिए हाउजिंग ऐंड अर्बन अफेयर मंत्रालय को भी आदेश दिया है।


इतना ही नहीं, अवैध निर्माणों की डिजिटल मैपिंग तैयार करने के लिए नैशनल इंफॉर्मेशन सेंटर (एनआईसी) की मदद भी ली जाएगी। डिजिटल मैपिंग के अलावा एसटीएफ को अवैध निर्माणों के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए और मजबूत बनाने के लिए टास्क फोर्स में भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग के अफसरों को भी शामिल करने पर विचार किया जा रहा है। एमसीडी के एक सीनियर अफसर के अनुसार भारत में ग्रीनरी को सुरक्षित रखना एक मुश्किल काम था।

हर साल ग्रीनरी खत्म हो रही थी और भारत सरकार के पास उसका कोई डेटा भी नहीं था। ऐसे में सरकार ने ग्रीनरी पर नजर रखने के लिए इसरो से ही बायो-डायवर्सिटी इन्फॉर्मेशन सिस्टम तैयार कराया था, जिसे इसरो ने अक्टूबर 2002 सैटलाइट मैपिंग और ग्राउंड वर्क कर तैयार किया था। इसी तरह से ही दिल्ली के नियमित और अवैध कॉलोनियों में अवैध निर्माणों को पुख्ता डेटा तैयार करने के लिए सुप्रीम कोर्ट ने मंत्रालय को इसरो की मदद लेने के लिए कहा गया है।


मकसद यह है कि एक-एक अवैध निर्माण पर हर पल नजर रखी जा सके और दिल्ली में कोई भी नया अवैध निर्माण होता है तो उसके खिलाफ तुरंत कार्रवाई की जा सके।




जरा ठहरें...
सरकार ने अब तक 87 रीयल एस्टेट कंपनियों के खिलाफ कार्रवाई की!
यूनीटेक की यूपी और तमिलनाडु की संपत्तियों को नीलाम करने का दिया आदेश
सर्वोच्च न्यायालय ने जेपी एसोसिएट को दो सौ करोड़ रूपए जमा करने का आदेश दिया
सुप्रीम कोर्ट ने आम्रपाली से कहा, प्लैट समय पर दो नहीं तो जेल जाओ!
बिल्डरों पर नियंत्रण के लिए रेरा पहले आ जाना चाहिए था - मोदी
आधार का इस्तेमाल बेनामी संपत्ति वालों के खिलाफ होगा - पीएम
वाजिब कीमत पर ग्राहकों को मकान उपलब्ध कराएगा ओमकार रियल्टर्स एंड डेवलपर्स
कांग्रेस ने कहा सरकार पेट्रोल और रीयलस्टेट को भी जीएसटी के दायरे में लाए
बिल्डरों की मनमानी पर सरकार कड़ा कदम उठाएगी
आम्रपाली समूह से खरीददार परेशान
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.