ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

सेहत की बातें

तीज त्यौहार के मौसम में शहनाज का महिलाओं को सौंन्दर्य टिप्स

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़

नई दिल्ली

१३ अगस्त २०१८

गर्मियों के मौसम के बाद महिलाएं वर्षा ऋतु का तीज उत्सव मनाकर स्वागत करती हैं। हरियाली तीज उत्तर भारत की महिलाओं का धार्मिक त्यौहार ही नहीं बल्कि प्राकृतिक उत्सव मानाने का खास दिन माना जाता है जब महिलाएं दुल्हन की तरह सजती और संवरती हैं यह त्यौहार राजस्थान, हरियाणा, दिल्ली, पंजाब, हिमाचल प्रदेश सहित उत्तरी राज्यों में काफी धूम-धाम से मनाया जाया जाता है। हरियाली तीज में महिलायें ब्रत रखती हैं तथा झूला झूलती हैं / हर साल सावन के महीने के शुक्ल पक्ष की तृतीय तिथि को मनाये जाने बाले इस उत्सव को श्रावणी तीज या कजरी तीज भी कहते हैं


इस त्यौहार में विवाहित महिलाऐं उपवास रखकर अपने पति के चिरआयू तथा समृद्धि की कामना करती है। इस त्यौहार में महिलाएं मेंहदी, चूड़ियां, बिंदी तथा सुन्दर परिधानों से सुसज्जित होती है तथा सौंदर्य इस त्यौहार का मार्मन्त अंग है। हालाँकि महिलाओं की ख्वाहिश हमेशा से सुन्दर दिखने की रहती है लेकिन हरे रंग की चादर ओढे प्राकृतिक बाताबरण में मेकअप के दौरान कुछ उपायों को अपना कर आप न केवल सुन्दर बल्कि सवसे अलग भी दिख सकती हैं इस त्यौहार में कुछ प्राकृति आर्युवेदिक प्रसाधनों का प्रयोग करने से आपके सौंदर्य को चार चांद लग सकते है।

प्राचीन समय में शारीरिक सौंदर्य के लिए घरेलू उबटन का प्रयोग किया जाता था। उबटन मुख्यतः चोकर, बेसन, दही, मलाई तथा हल्दी के मिश्रण से बनाया जाता था। इन सबको पीसकर मिश्रण को नहाने से पहले शरीर पर लगाया जाता था। इसे नहाने के समय ताजे पानी से धोया जाता था जिससे शरीर की मृतक कोशिकाऐं हटाने में मदद मिलती थी जिससे शारीरिक त्वचा कोमल तथा मुलायम बन जाती है। सबसे पहले शरीर की तिल के तेल से मालिश की जाती थी तथा उसके बाद उबटन लगाया जाता था जिसे आधे धंटे के अन्तराल के बाद नहाकर धो डाला जाता था। इस उबटन में विद्यामन विभिन्न तत्वों को रगड़ने तथा धोने से त्वचा की मृतक कोशिकाओं से छुटकारा पाने में मदद मिलती थी तथा त्वचा में कोमलता तथा निर्मलता का निखार आ जाता था।


मैं महिलाओं को सलाह दूंगी कि तीज के त्यौहार में आप आज के समय में भी प्राकृतिक घरेलू आर्युवैदिक पदार्थो का सहारा लेकर उबटन तैयार कर अपने सौंदर्य को चमका सकती है। अपने चेहरे को सुन्दरता के लिए आप घर बैठे सौंदर्य प्रसाधन बना सकती है। आप दो चम्मच चोकर में एक चम्मच बादाम तेल, दही, शहद तथा गुलाब जल मिश्रित कर लीजिए। इसमें आप सूखे पुदीने की पत्तियों का पाऊडर मिला लीजिए। (इसके चेहरे पर लगाने से चेहरे में प्राकृतिक आभा तथा चमक दमक आ जाएगी) इन सब तत्वों को मिश्रित कर के पेस्ट बना लीजिए तथा आंखों तथा होठों को छोड़कर बाकी पूरे चेहरे पर लगा लीजिए। इसे चेहरे पर 30 मिनट तथा लगा रहने दीजिए तथा बाद में स्वच्छ जाते पानी से धो डालिए।


तीज के त्यौहार में बालों की सुन्दरता के लिए शुद्ध नारियल तेेल को गर्म करके इसे बालों तथा सिर की खाल पर लगा लीजिए इसके बाद एक तौलिए को गर्म पानी में डुबोकर गर्म पानी को निचोड़ दीजिए तथा उस तोलियें को पगड़ी की तरह 5 मिनट तक सिर पर लपेट लीजिए। इस प्रक्रिया को 3-4 बार दोहराइए। इस प्रक्रिया से बालों तथा सिर की खाल को तेल को थामें रखने में मदद मिलती है। इस तरह तेल को एक घंटा तक बालों में लगाने के बाद बालों को साफ पानी से धो डालिए। निर्जिव तथा थकी आंखों के लिए काटनवुल पैड को गुलाब जल में भीगो दीजिए तथा इसे आंखें बंद करके आई पैड की तरह प्रयोग करके 10 मिनट तक नीचे लेटकर आराम कीजिए। इससे आंखों की थकान मिटती है तथा आंखों में प्राकृतिक चमक आ जाती है। गुलाब की सुगन्ध का मस्तिक पर शन्तिवर्धक प्रभाव पड़ता है।



जरा ठहरें...
पर्रिकर को दिल्ली के एम्स में भर्ती कराया गया!
आयुष्मान भारत की विश्व स्वास्थ्य संगठन के महानिदेशक ने तारीफ की!
कोलंबिया एशिया अस्पताल बना लापरवाही और वसूली का अड्डा!
इस बार हेल्थ मेले में ‘‘किफायती स्वास्थ्य देखभाल‘‘ विषय पर होगा फोकस
दुनिया में पांच में से तीन बच्चों को मां का दूध नसीब नहीं,
दिल्ली के अस्पताल में सिर्फ दिल्ली के लोगों को मिलेगा मुफ्त इलाज
आयुर्वेद को लेकर आईआईटी दिल्ली एआईआईए के बीच समझौता
वीएलसीसी इंस्टीट्यूट ऑफ ब्यूटी एंड न्यूट्रिशन का 17वां दीक्षांत समारोह संपन्न
संक्रमण की वजह से बढ़ रही हैं बीमारियां
निजी अस्पतालों में २५ फीसदी गरीबों की मुफ्त में इलाज करें नही तो लीज होगी रद्द -
मोदी ने एम्स में रखी नेशनल सेंटर फॉर एजिंग की आधारशिला!
आखिर प्रधानमंत्री ने जारी की अपनी सेहत की राज!
निपाह विषाणु से देश में फैला दहशत, सरकार ने जारी की चेतावनी!
देश के हर तीन जिलों के बीच में एक मेडिलकल कॉलेज खोला जाएगा
दिल की बीमारियों की ये हैं निशानियां और इनसे ऐसे बचें, और बर्तें सावधानियां!
मधुमेह के रोगियों के लिए नई खोज आशा की किरण बनी
डॉक्टर अग्रवाल ने कहा स्टेंट की कीमत का सीमा निर्धारित करना मरीजों के लिए सही नहीं!
भारत में गुर्दे की बीमारी भयानक रूप ले रही है
दिल्ली सरकार बेहतर स्वास्थ्य के लिए 1 हजार मोहल्ला क्लीनिक खोलेगी
भारत में फिर पाए गए पोलियो के विषाणु!
दिनचर्या में बदलाव करके ह्रदय रोग से बचें
मेजर जनरल (रि) जे.के. एस परिहार एअर मार्शल बोपाराय पुरस्कार से सम्मानित
एम्स में पाँच सौ तक टेस्ट मुफ्त में होंगे
कई बीमारियों में लाभाकारी है दालचीनी
मां बनने की कोई उम्र सीमा नहीं होती है!
मधुमेह, दिल की बीमारी ने बढ़ाई जैतून तेल की मांग
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.