ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

सेहत की बातें

बाबा की कोरोना की दवा के विज्ञापन पर केंद्र की रोक, बाबा बोले सारे जवाब दे दिए गए हैं!
बाबा ने कोरोना की दवा लांच की, बोले 14 दिन में कोरोना के रोगी होंगे निरोगी

आकाश श्रीवास्तव

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़ नेटवर्क

नई दिल्ली, 24 जून 2020

बाबा रामदेव ने आज कोरोना को पराजित करने के लिए कोरोनिल दवा को आज लांच कर दिया है। उधर दवा लांच हुई उधर केंद्र सरकार का आयुष मंत्रालय ने बाबा की दवा के विज्ञापन पर रोक लगा दिया है। बाबा रामदेव की कंपनी पतंजलि की दवा कोरोनिल के प्रचार-प्रसार पर केंद्र ने रोक लगा दी है। सरकार ने पहले इस दवा के लिए किये जा रहे दावों की जांच करने का फैसला किया है। आयुष मंत्रालय ने पतंजलि को चेतावनी दी है कि ठोस वैज्ञानिक सबूतों के बिना कोरोना के इलाज का दावे के साथ दवा का प्रचार-प्रचार किया गया तो उसे ड्रग एंड रेमेडीज (आपत्तिजनक विज्ञापन) कानून के तहत संज्ञेय अपराध माना जाएगा। उधर बाबा रामदेव ने कहा है कि सरकार ने जो सवाल खड़ा किए हैं उनके सारे जवाब दे दिए गए हैं।


कोरोना की दवा लांच करते हुए बाबा रामदेव।

आयुष मंत्रालय के एक अधिकारी का कहना है कि जब पूरी दुनिया कोरोना के इलाज खोजने के लिए जूझ रही है और कोई रास्ता नजर नहीं आ रहा है। ऐसे में बिना वैज्ञानिक सबूत के किसी दवा से इलाज का दावा खतरनाक साबित हो सकता है और करोड़ों लोग इस भ्रामक प्रचार के जाल में फंस सकते हैं। इसलिए इस दवा के प्रचार-प्रसार वाले विज्ञापनों पर तत्काल रोक लगाने के साथ ही पतंजलि को जल्द-से-जल्द कोरोनिल दवा में इस्तेमाल किये गए तत्वों का विवरण देने को कहा गया है। बाबा रामदेव ने जैसे ही मंगलवार को कोरोना को सात दिन में पूरी तरह ठीक करने के दावे के साथ दवा को लॉन्च किया, आयुष मंत्रालय हरकत में आ गया। इसके बाद आयुष मंत्रालय ने तत्काल पतंजलि को दवा के प्रचार-प्रसार के विज्ञापनों पर रोक लगाने को कह दिया। मंत्रालय ने स्पष्ट कर दिया कि यदि इसके बाद दवा का विज्ञापन जारी रहा, तो उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी। आयुष मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि पतंजलि ने ऐसी किसी दवा के विकसित करने और उसके ट्रायल की कोई जानकारी मंत्रालय को नहीं दी है। उन्होंने कहा कि मंत्रालय की अनुमति से कई आयुर्वेदिक दवाओं का कोरोना के इलाज में ट्रायल किया जा रहा है, लेकिन उनमें पतंजलि की दवा शामिल नहीं है।

पतंजलि को यह भी बताना होगा कि इस दवा का ट्रायल किन-किन अस्पतालों में और कितने मरीजों पर किया गया। ट्रायल शुरू करने के क्लिनिकल ट्रायल रजिस्ट्री ऑफ इंडिया (सीटीआरआइ) में दवा का रजिस्ट्रेशन कराना जरूरी होता है। पतंजलि को सीटीआरआइ के रजिस्ट्रेशन के साथ-साथ ट्रयल के परिणाम का पूरा डाटा देने को कहा गया है। वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि पूरी पड़ताल और तथ्यों के सही पाए जाने के बाद ही इस दवा को कोरोना के इलाज में इस्तेमाल की अनुमति दी जाएगी। दरअसल आयुर्वेदिक दवा को विकसित करने और बेचने से पहले आयुष मंत्रालय से इजाजत लेने की जरूरत नहीं है, लेकिन जिस राज्य में इस दवा का उत्पादन किया जा रहा है, वहां के लाइसेंसिंग अथॉरिटी से इसके लिए अनुमति लेना अनिवार्य है।


आयुष मंत्रालय ने उत्तराखंड के राज्य लाइसेंसिंग अथॉरिटी से इस दवा को दी गई मंजूरी और लाइसेंस की प्रति देने को कहा है। आपको बता दें कि योग गुरु स्वामी रामदेव ने कोरोना वायरस की दवा कोरोनिल को मंगलवार को बाजार में उतारा और दावा किया कि आयुर्वेद पद्धति से जड़ी-बूटियों के गहन अध्ययन और शोध के बाद बनी यह दवा शत- प्रतिशत मरीजों को फायदा पहुंचा रही है। यहां पतंजलि योगपीठ में संवाददाताओं से बातचीत करते हुए बाबा रामदेव ने कहा कि पतंजलि पूरे विश्व में पहला ऐसा आयुर्वेदिक संस्थान है, जिसने जड़ी-बूटियों के गहन अध्ययन और शोध के बाद कोरोना महामारी की दवाई प्रामाणिकता के साथ बाजार में उतारी है। उन्होंने कहा कि यह दवाई शत-प्रतिशत मरीजों को फायदा पहुंचा रही है।


उन्होंने कहा कि 100 मरीजों पर नियंत्रित क्लिनिकल ट्रायल किया गया, जिसमें तीन दिन के अंदर 69 प्रतिशत और चार दिन के अंदर शत-प्रतिशत मरीज ठीक हो गये और उनकी जांच रिपोर्ट पॉजिटिव से नेगेटिव हो गयी।



जरा ठहरें...
भारत में जून माह में कोरोना नें सारे रिकार्ड तोड़ दिए
राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद सहित पूरा देश योग दिवस मनाया!
कोविड संक्रमण के बचाव के लिए, गुवाहाटी हिंदुस्तान और एंटीबायोटिक्स के बीच करार
मॉस्क आवश्यक सूची में शामिल, कालाबजारी और अधिक दाम लेने पर सरकार सख्त!
कोरोना पर स्वास्थ मंत्रालय ने धीरे धीरे, नियमित प्रेस कांफ्रेंस क्यों बंद कर दी?
देश में कोरोना से संक्रमित लोगों की संख्या ८६ हजार के पास पहुंची
एम्स निदेशक ने कहा भारत में जून-जुलाई में कोरोना वायरस चरम पर होंगे
जन औषधि केंद्र निभा रहे हैं महत्वपूर्ण भूमिका - मनसुख मंडाविया
महत्वपूर्ण दवाओं की उपलब्धता के लिए 20 राज्यों के साथ केंद्र की बैठक
कोरोना वायरस के मरीजों के लिए वैज्ञानिकों ने बनाए बिशेष बिस्कुट
कोरोना से निपटने के लिए भविष्य की रणनीतियां बनानी होगी - डॉ. मेजर जनरल जे. के. एस परिहार (सेवानिवृत्ति)
“भारत अपनी जरूरतों के बाद देगा मित्र देशों को हाइड्रोक्सीक्लोरीनक्वीन”
कोरोना के खतरे को देखते हुए स्वास्थ मंत्रालय ने नई एडवाइजरी जारी की
कोरोना वायरस के खतरे को सरकार ने राष्ट्रीय आपदा घोषित किया
प्रधानमंत्री जन औषधि के अंतर्गत देशभर में 6200 जनऔषधि केंद्र का संचालन
ट्रांस फैट सबसे घातक हर साल ५१ लाख लोगों की मौतें!
देश में बनाए गए नए आयुष अस्पताल, सरकार की है विस्तार योजना
सेंधा और काला नमक में आयोडीन नहीं, आयोडीन वाला ही नमक खाएं!
लोकसभा अध्यक्ष ने फिट इंडिया के तहत संसद भवन परिसर में दिए फिट इंडिया का संदेश
बेहिचक पीजिए रेलनीर, गुणवत्ता और स्वास्थ्य से नहीं होता कोई समझौता
मेजर जनरल (रि) जे.के. एस परिहार एअर मार्शल बोपाराय पुरस्कार से सम्मानित
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
चीन मुद्दे पर क्या सरकार ने जितने जरूरी कठोर कदम उठाने थे, उठाए कि नहीं?
हां
नहीं
पता नहीं
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.