ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

सेहत की बातें

देश में जहरीला और मिलावटी शहद बेच रहे हैं डाबर, पतांजलि जैसी बड़ी कंपनियां
देश के लोगों के स्वास्थ के साथ बड़ा खिलवाड़, क्या सरकार लेगी संज्ञान में?

आकाश श्रीवास्तव

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़ नेटवर्क

नई दिल्ली, 3 अगस्त 2023

बाजार में असली और शुद्ध का दावा करने वाली देश की जानी मानी आयुर्वेदिक कंपनियां जिसमें बाबा रामदेव की पतांजलि से लेकर डाबर जैसी कंपनियां शामिल हैं मुनाफे के चक्कर में देश के लोगों के स्वास्थ्य के खिलाफ बड़ा खिलवाड़ कर रही हैं। बाबा रामदेव का पतांजलि शहद, डॉबर शहद, बैद्यनाथ, झंडू, हितकारी जैसे प्रमुख कंपनियों के शहद हैं जो स्वास्थ्य के लिए बेहद खतरनाक हैं। जबकि आम लोग इन कंपनियों की शहद को अभी तक शुद्ध और सेहत के लिए जिसे हितकारी समझते थे वह बेहद खतरनाक साबित हुआ है।
हम यह जो खबर आपको दे रहे हैं वह एक एनजीओ की रिपोर्ट और मीडिया खबरों पर आधारित है।
दिसंबर 2020 में NGO, Centre For Science And Environment यानी CSE ने भारत में बिकने वाले ब्रांडेड शहद को लेकर एक बड़ा खुलासा किया था। CSE ने दावा किया था कि डाबर सहित भारत में 13 प्रमुख ब्रांड द्वारा बेचे जाने वाले शहद में चीनी सिरप की मिलावट पाई गई है। CSE के शोधकर्ताओं ने शुद्धता की जांच के लिए, उन 13 Brands को चुना था जो भारत में पैकेट वाला शहद बेचते हैं। अध्य्यन में पाया गया था कि 77 प्रतिशत सैंपल्स में चीनी सिरप की मिलावट थी। CSE की अध्ययन में कहा गया है कि डाबर, पतंजलि, बैद्यनाथ, झंडू, हितकारी जैसे प्रमुख ब्रांड्स के शहद के नमून जांच में फेल रहे। 

अब तो आप भी मानेंगे कि बाजार में मिलने वाला शहद, जो आप सेहतमंद बनने की इच्छा से खाते हैं, वो आपकी सेहत के लिए कितना नुकसानदायक साबित हो सकता है। इसके बावजूद हमारे देश में डाबर और पतांजलि जैसे बड़े ब्रांड भी शुद्ध शहद का दावा करके मिलावटी शहद बेच रहे हैं और इसकी एक बड़ी वजह ये भी है कि हमारे देश में शहद की क्वालिटी चेक करने का जो Mechanism है, वो इतना कारगर नहीं है कि शहद में मिलावट को 100 फीसदी पकड़ पाए।  
शहद में चीनी सिरप का मिलावट कितना खतरनाक हो सकता है यह इसी से समझा जा सकता है कि इसमें  HMF की ज्यादा मात्रा से कैंसर होने का कारण भी बन सकता है। कई शोध में ये पता चला है कि इंसान, रोजाना 30 से 150 मिलीग्राम HMF ही पचा सकते हैं। रोजाना HMF की इससे ज्यादा मात्रा का सेवन करने से कैंसर हो सकता है।   खासतौर पर आंतों, लिवर और किडनी को HMF बहुत नुकसान पहुंचा सकता है। HMF, Neo-Plasticity पैदा कर सकता है।  यानी ये शरीर के Healthy Cells को Tumor वाले Cells में बदल सकता है। HMF की ज्यादा मात्रा, Gene Mutation कर सकती है यानी आपकी आनुवांशिक संरचना को बदल सकती है। इतना ही नहीं, लगातार HMF का जरूरत से ज्यादा सेवन इंसान के DNA को भी नुकसान पहुंचाने की ताकत रखता है। 

दिलचस्प बात ये है कि इन ब्रांड के नमूने का जांच सबसे पहले भारत की प्रयोगशाला में किया गया था और लगभग सभी सैंपल शुद्धता के परीक्षण में पास भी हो गये थे, लेकिन जब इन सैंपल्स का CSE ने जर्मनी की Bruker Biospin लैब में Advance Test करवाया तो Branded शहर में मिलावट पकड़ में आई। भारत में शहद के नमूने  की जांच करने वाली प्रयोगशाला की विश्वसनीयता तभी से संदेह के घेरे में है,  जो शहद में मिलावट को पकड़ ही नहीं पा रही हैं। हम बता दें कि तीन साल पहले जब CSE ने शहद में मिलावट का खुलासा किया था। तब भी डाबर ने ये मानने से इंकार कर दिया था कि उसके शहद में कोई मिलावट है। अब तीन साल बाद एक समाचार चैनल ने इस पूरे गोरखधंधे को बेनकाब किया है। अब देखना है कि जिन कंपनियों के ऊपर ये आरोप लगे हैं अब वह क्या कहती हैं। कुल मिलाकर मुनाफे के खेल और बाजारवाद में एक दूसरे से बढ़त की प्रतिस्पर्धा में जुटी पंताजलि जैसी कंपनियां शुद्धता की चाहे जितना दावे कर लें लेकिन सच्चाई यही है कि इन कंपनियों के उत्पादों के सेवन से बेहतर स्वास्थ्य की न तो कोई गारंटी है और न कोई वारंटी। 




सांकेतिक तस्वीर।





जरा ठहरें...
खराब केक बेचने पर निक बेकर्स (Nik Bakers) को लगाया गया भारी जुर्माना
भारत सरकार और गायत्री परिवार मिलकर देश को करेंगे नशा मुक्ति!
रेलवे स्टेशनों पर खोले जाएंगे प्रधानमंत्री जनऔषधि केंद्र
सरकार ने चिकित्सा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए रोड मैप तैयार किया
योग आज वैश्विक पर्व बन गया है - उपराष्ट्रपति
पट्टी सामुदायिक अस्पताल बना अव्यवस्थाओं और नर्क का अड्डा, मुख्यमंत्री के निर्देशों की पूरी अनदेखी
CGHS लाभार्थियों के लिए बड़ी खबर, अब देश के एम्स में मिलेगी कैशलेस सुविधा
चिकित्सा वैज्ञानिकों ने दो दवाईयों को मिलाकर बनायी गठिया की कारगर दवा
कोरोना से संक्रमित मरीजों की संख्या में आयी कमी
देश में कोरोना से संक्रमित होने वालों लोगों की संख्या में आयी कमी
प्रधानमंत्री की मन की बात ने आयुष को दिया एक दिशा
डिब्रूगढ़ में हजारों लोगों ने योग दिवस में लिया भाग
100 दिन पहले पूरे देश में शुरू हुआ योग महोत्सव
देश को नशा मुक्ति बनाने के लिए सरकार का बड़ा फैसला 25 नशा मुक्ति केंद्र देश को समर्पित
उत्तर पश्चिम रेलवे के चिकित्सकों ने किया अत्यंत जटिल आपरेशन
दिल्ली के एम्स को तंबाकू मुफ्त जोन घोषित किया गया
सीजीएचएस में अव्यवस्था से मरीज और उनके सहयोगी परेशान
कोलेस्ट्राल कम करने के ये घरेलू उपाय हैं बहुत उपयोगी
इन उपायों से स्वस्थ रह सकेंगी आखें, मोतियाबंद से हो सकेगा बचाव...!
मेजर जनरल (रि) जे.के. एस परिहार एअर मार्शल बोपाराय पुरस्कार से सम्मानित
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
चीन मुद्दे पर क्या सरकार ने जितने जरूरी कठोर कदम उठाने थे, उठाए कि नहीं?
हां
नहीं
पता नहीं
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.
Design & Developed By : AP Itechnosoft Systems Pvt. Ltd.