ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

धर्म/तीज़-त्यौहार

दिल्ली के गुरूद्वारों के खाने सरकारी मापदंड पर उम्दा उतरे

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़

नई दिल्ली

१९ जून २०१८

दिल्ली के गुरूद्वारों का खाना सरकारी मापदंड पर खरे उतरे हैं। इन गुरुद्वारों के लंगर स्वच्छता, गुणवत्ता, पौष्टिकता और शुद्धता के मामले में केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के संगठन फूड सेफ्टी स्टैंडर्ड आथॉरिटी आफ इंडिया के सख्त मापदंडों पर खरे उतरे हैं। इन गुरुद्वारों में विभिन्न साधनों के उपयोग से आम जनमानस को प्रदान किए जाने वाले लंगर प्रसाद को ज्यादा स्वास्थ्यवर्धक और पौष्टिक बनाया गया है ताकि समाज के श्रमिक वर्ग को सेहतमंद बनाया जा सके, जोकि अपने आहार के लिए मुख्यत: गुरुद्वारों के लंगर पर निर्भर रहते हैं।


दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के अध्यक्ष मंजीत सिंह जीके ने बताया, "सभी लंगर रसोइयों को पीला एप्रॉन, दस्ताने और पगड़ी पहनना अनिवार्य किया गया है ताकि सभी प्रकार के प्रदूषण को रोका जा सके। उन्होंने कहा कि लंगर रसोइये का शारीरिक, मानसिक रूप से दृढ़ होना अनिवार्य है और किसी भी संक्रमण रोगी को लंगर बनाने की कतई अनुमति प्रदान नहीं की जाती।" उन्होंने बताया कि प्रत्येक लंगर परिसर पूरी तरह वायु प्रवाहक है और रसोई परिसर की संगमरमर टाइलों को दिन में बार-बार धोया जाता है। मंजीत सिंह जीके ने बताया कि लंगर में चपाती बनाने के लिए आधुनिक मशीन लगाई गई है। उन्होंने कहा कि बचे हुए भोजन, फलों आदि को बड़ी ट्रालियों में ढक कर रखा जाता है। उन्होंने कहा कि स्थानीय निकायों से नजदीकी समन्वय स्थापित करके सभी प्रकार के रोगों की रोकथाम और बचाव के समयबद्ध तरीके से उचित प्रबन्ध किए जाते हैं।

जी हां  दिल्ली के 10 ऐतिहासिक गुरुद्वारों में रोजाना लगभग एक लाख लोग लंगर प्रसाद ग्रहण करते हैं। इसमें चपाती, दाल, सब्जी, खीर, सलाद आदि पूर्ण डाइट शामिल होती है. जबकि गुरुपर्व होली, दीपावली तथा सप्ताह के अंतिम दिनों में इनकी संख्या बढ़कर लगभग पांच लाख तक पहुंच जाती है। नई दिल्ली के बंगला साहिब गुरुद्वारे में देश के विभिन्न हिस्सों से अपनी शिकायतों, मांगों को लेकर आने वाले आंदोलनकारियों, धरना-प्रदर्शनकारियों को नियमित रूप से 'घर का खाना' मुहैया कराया जाता है।


लंगर श्रद्वालुओं को स्वच्छ पेयजल प्रदान करने के लिए गुरुद्वारा परिसर में आर.ओ. लगाए गए हैं। उन्होंने कहा कि प्रबन्धक समिति ने लंगर रसोइयों को खाना बनाने की नवीनतम तकनीक, उपकरणों तथा परंपराओं के प्रति कार्य कुशल बनाने के उद्देश्य से प्रशिक्षण प्रदान करने के लिए एक गैर सरकारी संगठन का सहयोग लिया है। गुरुद्वारा के लंगर की गुणवत्ता, महक, स्वाद तथा पौष्टिकता में पिछले कुछ समय से महत्वपूर्ण सुधार दर्ज किया गया है।


यहां जाति, धर्म, क्षेत्र एवं राजनैतिक भेदभाव के बिना लंगर प्रदान किया जाता है।गुरुद्वारों में लंगर की गुणवत्ता, स्वच्छता, पौष्टिकता आदि सुधारने के लिए प्रबंधक समितियों का गठन किया गया है। इसके अंतर्गत देशी घी, खाद्य तेल आदि को प्रयोग से पहले सरकारी प्रयोगशाला में जांच परखा जाता है जबकि सब्जियों की ताजगी तथा पौष्टिकता को सुनिश्चित करने के लिए सीधे आजादपुर मंडी से खरीदा जाता है।



जरा ठहरें...
पूरे देश में भगवान श्रीकष्ण जन्माष्टमी धूमधाम से मनायी गयी
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी कैलाश मानसरोवर यात्रा के लिए निकले
रामदेव ने उ.प्र. में फूड प्रोसेसिंग पार्क रद्द कर दिया
अमरनाथ यात्रा के लिए पंजीकरण शुरू लगभग पौने दो लाख लोगों ने कराया पंजीकरण
दिल्ली भाजपा ने मनाई महावीर जयंती
हरीनगर जेल रोड पर नवरात्रि मेला उत्सव का आयोजन
आखाड़ा परिषद ने दो और बाबाओं को फर्जी घोषित किया
सरकार ने कहा रामसेतु को नष्ट नहीं किया जाएगा
धर्म संसद में दावा एक साल के अंदर राममंदिर निर्माण शुरू हो जाएगा!
अब एक दिन में ५० हजार ही वैष्णव देवी के दर्शन करेंगें
पतांजलि के बाद श्रीश्री तत्वा बाजार में जल्द
विश्व हिंदू परिषद का ऐलान ६ दिसंबर तक ५१ लाख बंजरगी शामिल किए जाएंगे
रोमामिया में ११वीं में पढ़ाया जाता है रामायण और महाभारत के अंश
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.