ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

धर्म/तीज़-त्यौहार

सर्वोच्च न्यायालय ने रामजन्म भूमि विवाद की सुनवाई पूरा होने का समय निर्धारित किया

आकाश श्रीवास्तव

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़

नई दिल्ली, १८ जुलाई २०१९

सर्वोच्च न्यायालय में अयोध्या में रामजन्म भूमि विवाद पर नियमित सुनवाई कर रही है। सर्वोच्च न्यायालय भी सैकड़ों साल से चले आ रहे इस विवाद पर अपना फैसला सुनाने के लिए अब और देरी करने के पक्ष में नहीं दिखाई देता है। यही कारण है कि अदालत जल्द से जल्द  अपना ऐतिहासिक फैसला सुनाने के लिए 18 अक्टूबर का वक्त मुकर्रर किया है। शीर्ष अदालत के इस कदम से 130 साल से भी अधिक पुराने अयोध्या विवाद में नवंबर के मध्य तक फैसला आने की संभावना बढ़ गयी है। संविधान पीठ ने बुधवार को सुनवाई शुरू होते ही कहा, ‘‘इससे संबंधित एक मुद्दा है। हमें एक पत्र मिला है कि कुछ पक्षकार इस मामले को मध्यस्थता के माध्यम से सुलझाना चाहते हैं।


पीठ ने यह भी कहा कि पक्षकार ऐसा कर सकते हैं और मध्यस्थता समिति के समक्ष होने वाली कार्यवाही गोपनीय रह सकती है। पीठ ने कहा कि भूमि विवाद मामले की छह अगस्त से रोजाना हो रही सुनवाई ‘काफी आगे बढ़ चुकी है’ और यह जारी रहेगी। शीर्ष अदालत ने इस विवाद का सर्वमान्य हल खोजने के लिये गठित मध्यस्थता समिति के प्रयास विफल हो जाने के बाद छह अगस्त से अयोध्या प्रकरण पर रोजाना सुनवाई करने का निश्चय किया था। न्यायालय ने न्यायमूर्ति (सेवानिवृत्त) कलीफुल्ला की अध्यक्षता वाली मध्यस्थता समिति की इस रिपोर्ट का संज्ञान लिया था कि मध्यस्थता की कार्यवाही विफल हो गयी है और इसके अपेक्षित नतीजे नहीं निकले हैं। शीर्ष अदालत ने इस विवाद को सर्वमान्य समाधान के उद्देश्य से आठ मार्च को मध्यस्थता के लिये भेजा था और इसे आठ सप्ताह में अपनी कार्यवाही पूरी करनी थी। समिति में धर्म गुरू श्री श्री रविशंकर और मध्यस्थता कराने में दक्ष वरिष्ठ अधिवक्ता श्रीराम पांचू को शामिल किया गया था। समिति की कार्यवाही फैजाबाद में बंद कमरे में हुयी और इस दौरान उसने संबंधित पक्षों से विस्तार से बातचीत भी की। समिति को आशा थी कि इस विवाद का समाधान निकल आयेगा, इसलिए न्यायालय ने इसका कार्यकाल 15 अगस्त तक के लिये बढ़ा दिया था।

शीर्ष अदालत ने समिति की 18 जुलाई तक की कार्यवाही की प्रगति के बारे में रिपोर्ट का अवलोकन किया और इसके बाद ही नियमित सुनवाई करने का निश्चय किया। शीर्ष अदालत इस समय अयोध्या में 2.77 एकड़ विवादित भूमि को सुन्नी वक्फ बोर्ड, निर्मोही अखाड़ा और राम लला के बीच बराबर-बराबर बांटने के इलाहाबाद उच्च न्यायालय के सितंबर, 2010 के फैसले के खिलाफ दायर अपीलों पर सुनवाई कर रही है।


इस प्रकरण में हिन्दू और मुस्लिम पक्षकारों की दलीलें पूरी करने की समय सीमा निर्धारित किया जाना काफी महत्वपूर्ण है क्योंकि अयोध्या विवाद की सुनवाई कर रही पांच सदस्यीय संविधान की अध्यक्षता कर रहे प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई 17 नवंबर को सेवानिवृत्त हो रहे हैं। शीर्ष अदालत ने यह भी कहा कि पक्षकार चाहें तो मध्यस्थता के माध्यम से इस विवाद का सर्वसम्मत समाधान कर सकते हैं परंतु उसने दोनों ही पक्षों के वकीलों से कहा कि वह चाहती है कि इस मामले की रोजाना हो रही सुनवाई 18 अक्टूबर तक पूरी की जाये ताकि न्यायाधीशों को फैसला लिखने के लिये करीब चार सप्ताह का समय मिल सके।


संविधान पीठ के अन्य सदस्यों में न्यायमूर्ति एस ए बोबडे, न्यायमूर्ति धनन्जय वाई चन्द्रचूड, न्यायमूर्ति अशोक भूषण और न्यायमूर्ति एस अब्दुल नजर शामिल हैं। पीठ ने मंगलवार को हिन्दू और मुस्लिम पक्षकारों के वकीलों से उनकी बहस पूरी करने के लिये अनुमानित समय के बारे में जानकारी मांगी थी। संविधान पीठ ने यह भी कहा कि उसे इस प्रकरण में मध्यस्थता के लिये बनायी गयी समिति के अध्यक्ष पूर्व न्यायाधीश एफ एम आई कलीफुल्ला से एक पत्र मिला है जिसमें कहा गया है कि कुछ पक्षकारों ने मध्यस्थता प्रक्रिया फिर से शुरू करने के लिये उन्हें खत लिखा है।



जरा ठहरें...
विहिप द्वारा 6 दिवसीय चतुर्वेद महायज्ञ का हुआ आयोजन, उमड़ा जनसैलाब
प्रधानमंत्री ने पहली बार लालकिले की जगह दिल्ली के द्वारका में रावण दहन किया!
माँ दुर्गा की पूजा व उपवास करने वाले भक्तों को नवरात्रों का बहुत बेसबरी से इंतजार होता है
भारत से रोजाना करतारपुर साहिब के दर्शन के लिए ५ हजार श्रद्धालु जा सकेंगे
सर्वोच्च न्यायालय में अयोध्या मामले की हफ्ते में तीन दिन रोजाना सुनवाई!
विश्व की सबसे ऊंची और भव्य प्रतिमा होगी भगवान राम की, योगी सरकार ने दी मंजूरी!
अयोध्या मामला: मध्यस्थता समिति रिपोर्ट एक अगस्त तक पेश करे - सर्वोच्च न्यायालय
कांवड यात्रा को देखते हरिद्वार तक बढ़ाई गई कई रेलगाड़ियां
अयोध्या मामले की सुनवाई जल्दी हो सुप्रीम कोर्ट में अर्जी
भगवान बुद्ध ने बौद्ध धर्म की शिक्षा से विश्व में अमन शांति का सँदेश दिया - अलोक कुमार
प्रधानमंत्री बाबा केदारनाथ के दर्शन के बाद, ध्यान साधना के लिए गुफा में गए
विहिप ने राम जन्मभूमि अयोध्या में भव्य मंदिर निर्माण संकल्प सभा का आयोजन किया
देश में हर्षोल्लास के साथ मनाई गयी होली
राममंदिर विवाद, मध्यस्थता का मौका देते हुए फैसला सुरक्षित
पुलवामा शहीदों को साधु संतों ने यज्ञ
शाही स्नान के साथ प्रयागराज में शुरू हुआ महापर्व कुंभ
महामण्डलेश्वर बोले हनुमान जी मुसलमानों के भी पूर्वज हैं!
अध्यात्म के माध्यम से व्यक्ति अपनी क्षमताओं को बढ़ा सकता है - सद्गुरू जग्गी वासुदेव
दिल्ली में जुटे लाखों लोग, एक स्वर में की राममंदिर निर्माण की मांग
श्रीराम मंदिर के लिए सरकार संसद में कानून लाए - विहिप
राम जन्मभूमि पर विश्वविद्यालय बनाने की बात कहने वाले सिसौदिया माफी मांगे - तिवारी
रविवार को दिल्ली में उमड़ेगा राम भक्तो का जनसैलाब : डॉ सुरेंद्र जैन
अध्यादेश की नौबत आयी तो काशी मथुरा भी लेंगे - संत समाज
राम मंदिर के निर्माण को लेकर विहिप का प्रतिनिधि मंडल हर्ष वर्धन से मिला
मंदिर निर्माण से कम कुछ भी स्वीकार नहीं - साधु संत
राममंदिर के लिए जो किया कांग्रेस ने किया! भाजपा सिर्फ राम"-राम" गाती रही?
दिल्ली के गुरूद्वारों के खाने सरकारी मापदंड पर उम्दा उतरे
आखाड़ा परिषद ने दो और बाबाओं को फर्जी घोषित किया
सरकार ने कहा रामसेतु को नष्ट नहीं किया जाएगा
पतांजलि के बाद श्रीश्री तत्वा बाजार में जल्द
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.