ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

क्या आप जानते हैं

बच्चे की मुहं में 32 नहीं 526 दांत निकले...!!!
दंत चिकित्सकों ने मोबाइल टावर द्वारा होने वाले रेडिएशन को बताया कारण!

चेन्नई

१ अगस्त २०१९

तमिलनाडु की राजधानी चेन्नै में सात साल के एक बच्चे के मुंह से 526 दांत निकाले गए हैं। हैरानी की बात यह है कि ये दांत जबड़े की हड्डी में इस कदर लगे हुए थे कि बाहर से दिखाई ही नहीं देते थे। डेंटिस्ट्स ने सर्जरी करके कुल 526 दांत निकाले, अब इस बच्चे के मुंह में 21 दांत बचे हैं। सर्जरी के बाद बच्चे के जबड़े और पूरे मुंह में होने वाला दर्द भी खत्म हो गया है। सात साल के रवींद्रनाथ के दाएं गाल पर सूजन देखकर उसके माता पिता को लगा कि दांत सड़ गया है। हालांकि, बाद में पता चला कि रवींद्र के जबड़े के नीचे 526 दांत छिपे हुए थे।


सात साल के बच्चे के जबड़े से निकला 526 दांत।

बुधवार को रवींद्र ने मीडिया के सामने अपने चेहरे को छूकर बताया कि अब उसके दांत और जबड़ों में दर्द नहीं है। थोड़ी बहुत सूजन जरूर है लेकिन वह भी धीरे-धीरे ठीक हो जाएगी।  सविता डेंटल कॉलेज के डॉक्टरों ने बताया कि रवींद्र के पैरंट्स को सर्जरी के लिए मनाने में कुछ ही मिनट लगे लेकिन बच्चे को सर्जरी के लिए मनाने में कई घंटे लग गए। बच्चे को मनाने के बाद सर्जरी शुरू हुई, इस सर्जरी में पांच घंटे लगे। कॉलेज के डॉक्टर सेंथिलनाथन ने बताया, 'यह सर्जरी के क्षेत्र में महज उपलब्धि भर नहीं है।' हालांकि, सर्जरी के बाद भी डॉक्टर नहीं बता पाए कि किस कारण यह बीमारी हुई। डॉक्टरों ने कहा कि मोबाइल टावर के रेडिएशन और अनुवांशिक कारणों से ऐसा हो सकता है।

जानकारी के मुताबिक, रवींद्र जब तीन साल का था, तब उसके परिजन ने उसके दाएं गाल पर सूजन देखी। रवींद्र के पिता एस प्रभुदौस बताते हैं, 'हम उसे एक सरकारी अस्पताल लेकर गए लेकिन वहां के लोग रवींद्र को सर्जरी के लिए मना नहीं पाए। हमने भी इसपर ज्यादा जोर नहीं दिया क्योंकि तब वह छोटा सा बच्चा ही था।'  बाद में सूजन बढ़ने पर रवींद्र को लेकर उसके घरवाले सविता डेंटल कॉलेज पहुंचे। यहां एक्स-रे और सीटी स्कैन जैसे टेस्ट के बाद पता चला कि जबड़े के नीचे कई सारे छोटे-छोटे दांत हैं। रवींद्र के परिवार को सर्जरी के लिए तैयार करने के बाद 11 जुलाई का समय सर्जरी के लिए तय किया गया।


डॉ. सेंथिलनाथन कहते हैं, 'सर्जरी करना जरूरी था। हमने बगल से हड्डी को तोड़ने की बजाय ऊपर से ड्रिल किया। अच्छी बात यह है कि रवींद्र के जबड़े की मरम्मत के लिए कुछ करने की जरूरत नहीं है।' इस सर्जरी के बारे में डॉक्टर प्रतिभा रमानी ने कहा कि उन्होंने कभी एक इंसान के मुंह में इतने दांत नहीं देखे। रिपोर्ट्स के मुताबिक, साल 2014 में मुंबई के एक लड़के के मुंह से 232 दांत निकाले गए थे। डॉक्टरों ने बताया कि उम्र के मुताबिक, रवींद्र के मुंह में भी स्थायी दांत आ रहे थे। डॉ. प्रतिभा ने कहा कि हो सकता है कि रवींद्र के दाहिने जबड़े के निचले हिस्से में दो मोलर्स ना आएं लेकिन इसके लिए वह 16-17 साल की उम्र होने पर इम्प्लांट का सहारा ले सकता है।


फिलहाल दोबारा दांत निकलने की संभावना बहुत कम ही है लेकिन डॉक्टर यह नहीं बता पा रहे हैं कि किस कारण से ऐसा हुआ है। एक स्टडी के तहत इस कॉलेज ने मोबाइल टावर के आसपास रह रहे 250 लोगों के दांत की जानकारी जुटाई है। डॉ. प्रतिभा ने कहा कि कम से 10 पर्सेंट लोग ऐसे हैं, जिनकी सेल्स में बदलाव देखे गए हैं। ये बदलाव कई तरह की बीमारियों को जन्म दे सकते हैं। साभार, समाचार एजेंसी।



जरा ठहरें...
चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ होने से हमारी रक्षा क्षमता बढ़ेगी - अमित शाह
देश के किसानों के लिए आज से शुरू हुई ''किसान पेंशन योजना''
भारत ने धारा ३७० खत्म किया, पाक ने भारत से संबंध खत्म किया
एक अस्पताल की 36 नर्सें एक साल में गर्भवती हुई...!
अमेरिकी अखबार ने कहा अब तक ११ हजार बार झूठ बोल चुके हैं अमेरिकी राष्ट्रपति
गोवा कांग्रेस में बगावत, १० विधायक भाजपा में शामिल, आज आएंगे दिल्ली...!
अन्य राज्यों के दिल्ली में प्रवेश पर दिल्ली सरकार लगाएगी प्रतिबंध
मंगला एक्सप्रेस में गंदे पानी से बनाया जाता है सूप और अन्य चीज
बिना इंजन की ट्रेन-18 जल्द मिलेगी लोगों को सफर करने के लिए!
वैज्ञानिकों ने माना रामसेतु मानव निर्मित है
30 किलो से ज्यादा वजन के कुत्ते को घोड़ा मानता है रेलवे!
मानव मांस का शौकीन था ब्रिटिश राजघराना
२०५ साल के बाबा, १०५ साल से नहीं खाया एक अन्न भी!
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.