ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

क्या आप जानते हैं

दिसंबर में आ रही है कोरोना की वैक्सीन....!
भारत ने भी दिए डेढ़ अरब खुराक खरीदने के आर्डर...?

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़ नेटवर्क

नई दिल्ली, 21 नवंबर 2020

दुनिया के कई देशों में कोरोना वैक्सीन के ट्रायल अंतिम चरण में हैं। ऐसे में मॉडर्ना और फाइजर दावा करते हुए कहा है कि क्रिसमस से पहले बाजारों में कोरोना वैक्सनी आ सकती है। वैक्सनी निर्माता कंपनी फाइजर इंक और जर्मनी की बायोएनटेक ने दावा किया है कि COVID-19 की दवा क्रिसमस से पहले मार्किट में आ जाएगी। जानकारी के लिए बता दें कि अमेरिका भी दिसंबर तक आपातकालीन उपयोग को मंजूरी देगा। जर्मनी की बायोएनटेक ने किया दावा मिली जानकारी के मुताबिक, कंपनी ने दावा करते हुए कहा है कि अब दावा का ट्रायल अंतिम चरण में चल रहा है। ऐसे में उम्मीद है कि दवा रिजल्ट के मुताबिक सही साबित हो रही है।
हमने इस दवा का परीक्षण हर उम्र के लोगों पर किया है। अगर अंतिम चरण पूरा होता है तो उसको क्रिस्मस डे से पहले ही बाजार में ला दिया जाएगा। भारत ने कोरोना वैक्सीन खरीदने के दिए ऑर्डर वहीं दूसरी तरफ भारत समेत दुनिया के कई देशों में कोरोना की वैक्सीन के ट्रायल चल रहे हैं। इसी को देखते हुए भारत ने भी 150 करोड़ से अधिक डोज खरीदने के लिए एडवांस बुकिंग का ऑर्डर कर दिया है। मॉडर्ना और फाइजर ने तो वैक्सीन ट्रायल के पूरे होना का दावा भी कर दिया है। इस वैक्सीन को 95 फीसदी सफल बताया है।


दुनिया के कई देशों में वैक्सीन को खरीदने के लिए ऑर्डर दिया जा रहे हैं। एक रिपोर्ट के मुताबिक, कोरोना वैक्सीन खरीदने के मामले में भारत तीसरे नंबर पर है। कोरोना वायरस वैक्सीन को इमर्जेंसी में इस्तेमाल की इजाजत के लिए Pfizer ने अमेरिका के नियामक प्राधिकरण को आवेदन दिया है। माना जा रहा है कि यह प्रक्रिया पूरी होने पर अगले महीने सीमित संख्या में वैक्सीन की खुराकें तैयार हो सकती हैं। माना जा रहा है कि महामारी खत्म करने के लिए बड़ी आबादी तक वैक्सीन पहुंचाने में लंबा वक्त लग सकता है। इससे पहले Moderna Inc की वैक्सीन के भी 94% असरदार होने का ऐलान किया गया था। फिजर ने कुछ दिन पहले ही इस बात का ऐलान किया है कि उसकी वैक्सीन 95% असरदार है। कंपनी ने कहा है कि वायरस से सुरक्षा के साथ गंभीर साइड इफेक्ट न होने से वैक्सीन इस्तेमाल के लिए फूड ऐंड ड्रग ऐडमिनिस्ट्रेशन (FDA) की इजाजत के लिए आवेदन कर सकती है। इसके बाद इसकी फाइनल टेस्टिंग भी की जा सकती है। अमेरिका के अलावा यूरोप और ब्रिटेन में भी आवेदन दिए जाने की तैयारी है। Pfizer के ऐलान पर अमेरिका के टॉप डिजीज एक्सपर्ट डॉ. ऐंथनी फाउची ने कहा है, 'मदद मिलने जा रही है लेकिन अभी मास्क और दूसरे कदम बंद करना जल्दबाजी है। हम जैसे मदद का इंतजार कर रहे हैं, हमें पब्लिक हेल्थ के कदमों को दोगुना करना होगा।' गौरतलब है कि शुक्रवार को आवेदन देने के बाद इस बात पर बहस शुरू हो गई है कि क्या खुराकें तैयार है? अगर ऐसा है तो एक और सरकारी समूह को फैसला करना होगा कि सीमित सप्लाई को बांटा कैसे जाएगा। माना जा रहा है कि 2.5 करोड़ खुराकें दिसंबर तक उपलब्ध हो सकती हैं, 3 करोड़ जनवरी में और 3.5 करोड़ फरवरी और मार्च में मिल सकती है। इसकी दो खुराकें तीन-तीन हफ्ते के अंतर पर देनी होंगी।

Moderna की वैक्सीन भी उसी mRNA तकनीक पर आधारित है जिस पर Pfizer की वैक्सीन। कंपनी ने दावा किया है कि आखिरी चरण के शुरुआती डेटा में उसकी वैक्सीन 94.5% असरदार पाई गई है। युवाओं के साथ-साथ ज्यादा उम्र के लोगों में Moderna की वैक्सीन ने ऐंटीबॉडी पैदा की जिसने वायरस के खिलाफ ऐक्शन किया। जल्द ही ऐसे समूहों पर इमर्जेंसी में इस्तेमाल करने की इजाजत के लिए आवेदन किया जाएगा जिन्हें इन्फेक्शन का ज्यादा खतरा होगा। माना जा रहा है कि अमेरिका के लिए साल के अंत तक 2 करोड़ खुराकें तैयार हो जाएंगी। ऑक्सफर्ड यूनिवर्सिटी और AstraZeneca के वैक्सीन ट्रायल के लीडर प्रफेसर ऐंड्रू पोलार्ड का कहना है कि टीम को उम्मीद है कि क्रिसमस तक वैक्सीन को मंजूरी मिल जाएगी। उनका कहना है कि यह Pfizer से 10 गुना सस्ती होगी। दरअसल, Pfizer की वैक्सीन को -70 डिग्री सेल्सियस के तापमान पर रखना होगा और कुछ हफ्ते के अंतर पर दो इंजेक्शन लगाने होंगे। ऑक्सफर्ड की वैक्सीन को फ्रिज के तापमान पर रखना होगा।





जरा ठहरें...
बिखरा हुआ खत्री समाज एकजुट हो – खत्री जयंत मलहोत्रा
गुड़ का सेवन करना कई मामले में सेहत के लिए रामबाण!
आसुतोष गंगल बने उत्तर रेलवे के नए महाप्रबंधक
देश की पहली निजी क्षेत्र को दी गयी ट्रेन तेजस 17 अक्टूबर से दौडेगी..!
चीन के साथ तनातनी के बीच भारत ने आपात हथियारों की खरीद की मंजूरी दी
ATM से सुरक्षित निकासी के लिए SBI देश भर में लागू करेगा ओटीपी नियम
अगले महीने 5 और राफेल पहुंच रहे हैं हिंदुस्तान की आकाश की ताकत बनने
करेंसी नोट कोरोना सहित विभिन्न बीमारियां फैला रहे हैं - कैट
प्रणब मुखर्जी: भारतीय इतिहास और राजनीति के अजातशत्रु…!
संसद भवन के नवनिर्माण का ठेका गुजरात की कंपनी को..!
भारतीय सेना के जवान ने शंख बजाकर बनाया विश्व रिकार्ड...!
वैज्ञानिकों ने माना रामसेतु मानव निर्मित है
30 किलो से ज्यादा वजन के कुत्ते को घोड़ा मानता है रेलवे!
२०५ साल के बाबा, १०५ साल से नहीं खाया एक अन्न भी!
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
चीन मुद्दे पर क्या सरकार ने जितने जरूरी कठोर कदम उठाने थे, उठाए कि नहीं?
हां
नहीं
पता नहीं
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.