ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

क्या आप जानते हैं

दुनिया की सबसे बड़ी वैक्सीन निर्माता कंपनी में आग लगने से सकते में हैं दुनिया
हादसे में 5 से ज्यादा लोगों की मौत की ख़बर, करोड़ों के नुकसान की संभावना

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़ नेटवर्क

पुणे, 21 जनवरी 2021

महाराष्ट्र के पुणे स्थित वैक्सीन बनाने वाली कंपनी सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया के मंजरी प्लांट में गुरुवार को आग लग गई। हादसे में 5 कर्मचारियों की जान चली गई। आग लगने से इंस्टिट्यूट को हुए कुल नुकसान के बारे में अभी जानकारी नहीं है। सीरम इंस्टिट्यूट दुनिया की सबसे बड़ी वैक्सीन निर्माता कंपनी है। यहां बनने वाली वैक्सीन के सबसे ज्यादा डोज दुनिया भर में बेचे जाते हैं। जानकारी के मुताबिक, 1.5 बिलियन से भी ज्यादा वैक्सीन के डोज दुनिया भर में सीरम इंस्टिट्यूट से बिकने के लिए जाते हैं। इनमें पोलियो, आर-हिपेटाइटिस बी, टिटनस, डिप्थीरिया, टीबी आदि बीमारियों के वैक्सीन शामिल हैं। सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया की स्थापना साल 1966 में साइरस पूनावाला ने की थी। फिलहाल, यह संस्थान भारत का नंबर एक बायो-टेक्नॉलजी कंपनी है।


भारत में कोरोना वायरस की दो वैक्सीन को मंजूरी दी गई है। एक भारत बायोटेक की कोवैक्सीन और दूसरी सीरम इंस्टिट्यूट की कोविशील्ड है जो ऑक्सफोर्ड-एक्स्ट्राजेनेका की वैक्सीन का ही भारतीय संस्करण है। दोनों वैक्सीन ने पहले चरण के वैक्सिनेशन के लिए टीका डिलिवर कर दिया है। देश के कई हिस्सों में वैक्सिनेशन शुरू भी हो गया है। टीका लगाए जाने की प्रक्रिया जारी है। सीरम इंस्टिट्यूट के CEO अदार पूनावाला के मुताबिक, भारत सरकार को कोविशील्ड की पहली 10 करोड़ डोज 200 रुपये प्रति डोज के हिसाब से दी गई है। मार्केट में यह एक हजार रुपये प्रति डोज के हिसाब से उपलब्ध है। पूनावाला ने दावा किया है कि उनकी कंपनी हर महीने पांच से छह करोड़ वैक्सीन की डोज तैयार कर रही है। बताया जाता है कि दुनिया की तकरीबन 65 प्रतिशत बच्चों की आबादी को सीरम इंस्टिट्यूट में बनी कम से कम एक वैक्सीन लगाई जा चुकी है। दुनिया के कई देशों के राष्ट्रीय इम्युनाइजेशन प्रोग्राम्स में सीरम इंस्टिट्यूट के वैक्सीन का इस्तेमाल किया जाता है। हालांकि, राहत की बात है कि इस हादसे में कोरोना वायरस की वैक्सीन पर कोई खतरा नहीं है। दरअसल, आग इंस्टिट्यूट के निर्माणाधीन और नए प्लांट में लगी है। जानकारी के अनुसार, सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया के मंजरी प्लांट में यह हादसा हुआ, जो संस्थान के गेट नंबर-1 पर स्थित है।

जिस प्लांट में कोरोना की वैक्सीन बन रही है, वह गेट नंबर- 3, 4 और 5 पर मौजूद है। यहीं स्थित प्लांट में कोरोना वैक्सीन का निर्माण और भंडारण किया जाता है। बताया गया कि यह तीनों गेट हादसे वाली जगह से एकदम उल्टी दिशा में हैं। आग पर काबू पाने की कोशिश की जा रही है। संस्थान के अधिकारियों ने बताया कि हादसे में कोरोना वैक्सीन पूरी तरह से सुरक्षित है लेकिन टीबी की बीमारी में काम आने वाली बीसीजी वैक्सीन को नुकसान पहुंचा है। अधिकारियों ने बताया कि हालांकि, मंजरी प्लांट में बीसीजी का ज्यादा स्टॉक नहीं था, इसकी वजह से बहुत ज्यादा नुकसान नहीं हुआ है।





जरा ठहरें...
दोबारा विश्व के सबसे अमीर शख्स बने जेफ बेजोस
गजब है देश की न्याय प्रणाली, जिंदा मुर्दा हो गया और 20 साल पहले मरे व्यक्ति को सजा मुक्त कर दिया
भारत सरकार ने गोबर से बने पेंट को बाजार में उतार दिया है
55 करोड़ लोगों द्वारा बोली जाने वाली हिंदी संयुक्त राष्ट्र की आधिकारिक भाषा क्यों नहीं..?
इंदिरा गांधी होती नेपाल आज भारत का हिस्सा होता – प्रणब मुखर्जी
गुणों की खान बाजार में आयी लाल भिंडी
भारत का संसद भवन मात्र 92 साल पुराना, क्‍या सच में नई इमारत की जरूरत?
भूकंप के बाद एवरेस्ट की चोटी की उंचाई बढ़ी...!
संयुक्त राष्ट्र में भांग को मिली दवा की मान्यता...!
गुड़ का सेवन करना कई मामले में सेहत के लिए रामबाण!
वैज्ञानिकों ने माना रामसेतु मानव निर्मित है
30 किलो से ज्यादा वजन के कुत्ते को घोड़ा मानता है रेलवे!
२०५ साल के बाबा, १०५ साल से नहीं खाया एक अन्न भी!
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
चीन मुद्दे पर क्या सरकार ने जितने जरूरी कठोर कदम उठाने थे, उठाए कि नहीं?
हां
नहीं
पता नहीं
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.