ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

क्या आप जानते हैं

रेलवे ने शुरू की गोल्डन चेरियट लग्ज़री ट्रेन - एक यात्रा और कई स्थान
यात्रा में मैसूर, हम्पी, गोवा, महाबलीपुरम और बांदीपुर, हलेबिदु, चिकमंगलूर आदि स्थान शामिल

आकाश श्रीवास्तव

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़ नेटवर्क

नई दिल्ली, 9 मार्च 2021

रेल मंत्रालय की यात्रा, पर्यटन और  अतिथि सेवा  में अग्रणी कम्पनी आईआरसीटीसी ने पहले से ही लग्ज़री ट्रेन पर्यटन के क्षेत्र में अपनी छाप छोड़ते हुए, अब अपनी लग्ज़री ट्रेनों के समूह में गोल्डन चैरिएट ट्रेन को शामिल किया है, कर्नाटक पर्यटन के स्वामित्व वाली ट्रेन गोल्डन चैरिएट को आईआरसीटीसी फिर से नए स्वरूप में यात्रियों को रोमांचक यात्रा का अनुभव कराएगी। कर्नाटक की शान गोल्डन चैरिएट ट्रेन दक्षिण भारत के महत्वपूर्ण पर्यटन स्थलों के लिए अपनी पहली यात्रा दिनांक 14 मार्च 2021 को 6 रात/7 दिन के यात्रा कार्यक्रम के अवसर पर बांदीपुर, मैसूर, हलेबिदु, चिकमंगलूर, हम्पी, ऐहोल, पट्टडकल और गोवा को कवर करते हुए कर्नाटक से आरंभ होकर बंगलुरू में ही समाप्त हो जाती है।


एक ओर दिनांक 21 मार्च 2021 को 3 रात/4 दिन की यात्रा की योजना जो मैसूर, हम्पी और महाबलीपुरम कवर करते हुए बंगलुरू से आरंभ और बुंगलुरू में समाप्त हो जाएगी। नवीनीकृत ट्रेन में निःशुल्क वाई-फाई और ऑनबोर्ड ओटीटी स्ट्रीमिंग, मानार्थ हाउस पोर्स  और वाइन, अंतरराष्ट्रीय और भारतीय पसंद के व्यंजन, एक अनुभवी टूर निर्देशक की सेवाएं, सभी स्मारकों के प्रवेश टिकट, ट्रेन में सांयकाल का भोजन और सांस्कृतिक कार्यक्रम द्वारा ट्रेन में यात्रा के अनुभव को पूरी तरह से अविस्मरणीय बनाना है। 

दक्षिणी प्रायद्वीप की अद्वितीय स्थिति, पश्चिम में अरब सागर से घिरा, दक्षिण में हिंद महासागर और पूर्व में बंगाल की खाड़ी में पश्चिम और पूर्व दोनों के साथ कई राजवंशों के व्यापार और राजनीतिक संबंध थे। इस क्षेत्र की वास्तुकला, संस्कृति और इतिहास को प्रदर्शित करने के लिए स्वर्ण रथ मार्ग पर गंतव्य चुने गए हैं। कर्नाटक पर्यटन के स्वामित्व वाली ट्रेन गोल्डन चैरिएट को आईआरसीटीसी ने जनवरी 2020 में  परिचालन, विपणन और रखरखाव के लिए संभाला था। हालांकि, कोविड-19 महामारी के कारण निर्धारित यात्राएं परिचालित नहीं की जा सकी।


गोल्डन चैरिएट अतिथि ट्रेन का नाम उन राजवंशों के नाम पर रखा गया जिन्होंने कई शताब्दियों तक दक्षिण भारत पर शासन किया। प्रत्येक अतिथि गाड़ी में डबल और ट्िवन बेड की सुविधा के साथ चार केबिन हैं। अतिथि केबिन में 13 डबल बेड, 30 ट्िवन बेड केबिन और 01 केबिन विशेष रूप से विकलांगों के लिए है। ट्रेन में दो प्रसिद्ध रेस्तरां ‘‘रूचि और नालपका’’ प्रत्येक प्रकार के पेय पदार्थ (कॉकटेल एवं मॉकटेल) और व्यंजनों की सुविधा प्रदान करते हैं। ‘‘आरोग्य द स्पा’’ सह  फिटनेस सेंटर अपने आधुनिक व्यायाम  मशीनों के साथ पारंपरिक आयुर्वेदिक स्पा उपचारों की भी सुविधा उपलब्ध कराती है।




जरा ठहरें...
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
चीन मुद्दे पर क्या सरकार ने जितने जरूरी कठोर कदम उठाने थे, उठाए कि नहीं?
हां
नहीं
पता नहीं
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.