ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

क्या आप जानते हैं

पूरा राम मंदिर विज्ञान की कसौटी पर कसा गया है - जितेंद्र सिंह

आकाश श्रीवास्तव

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़ नेटवर्क

नई दिल्ली, 21 जनवरी 2024

केंद्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा है कि अयोध्याधाम में नवनिर्मित भव्य और दिव्य श्रीराम मंदिर के निर्माण में विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी का अद्भुत समावेश है। इसमें चार संस्थानों ने महत्वपूर्ण योगदान दिया है। डॉ. सिंह के हवाले से कहा गया है कि इन चार संस्थानों में वैज्ञानिक एवं औद्योगिक अनुसंधान परिषद (सीएसआईआर) से संबद्ध सेंट्रल बिल्डिंग रिसर्च इंस्टीट्यूट रुड़की, राष्ट्रीय भू-भौतिकीय अनुसंधान संस्थान हैदराबाद, इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ एस्ट्रोफिजिक्स बेंगलुरु और इंस्टीट्यूट ऑफ हिमालयन बायोरिसोर्स टेक्नोलॉजी पालमपुर शामिल हैं।

केंद्रीय मंत्री डॉ. सिंह ने कहा है कि रुड़की के संस्थान ने श्रीराम मंदिर निर्माण में प्रमुख योगदान दिया है। हैदराबाद के संस्थान ने नींव डिजाइन और भूकंपीय सुरक्षा पर महत्वपूर्ण इनपुट दिए हैं। बेंगलुरु के संस्थान ने सूर्य तिलक के लिए सूर्य पथ पर तकनीकी सहायता प्रदान की है। पालमपुर के संस्थान ने 22 जनवरी को अयोध्या में दिव्य श्रीराम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा समारोह के लिए ट्यूलिप खिलाए है।

उन्होंने कहा कि रोजमर्रा की जिंदगी में सीएसआईआर की प्रौद्योगिकी का भरपूर उपयोग किया जा रहा है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में आज प्रौद्योगिकी भारतीय अमृतकाल के दौरान आत्मनिर्भर और विकसित भारत@2047 के रूप में उभरने के शिखर पर है। डॉ. सिंह ने कहा कि श्रीराम मंदिर का मुख्य भवन राजस्थान के बंसी पहाड़पुर से निकाले गए बलुआ पत्थर से बना है। इसके निर्माण में कहीं भी सीमेंट या लोहे और इस्पात का उपयोग नहीं किया गया है। यह तीन मंजिला मंदिर भूकंपरोधी है। यह 2,500 वर्षों तक रिक्टर पैमाने पर 8 तीव्रता के मजबूत भूकम्पीय झटकों को बर्दाश्त कर सकता है।

रुड़की का संस्थान प्रारंभिक चरण से ही मंदिर के निर्माण में शामिल है। संस्थान ने मुख्य मंदिर के संरचनात्मक डिजाइन, सूर्य तिलक तंत्र को डिजाइन करने, मंदिर की नींव के डिजाइन की जांच और मुख्य मंदिर की संरचनात्मक देखभाल की निगरानी में योगदान दिया है। इस भव्य भवन के निर्माण में भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) की अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी का भी उपयोग किया गया है।

डॉ. सिंह ने कहा कि श्रीराम मंदिर की अनूठी विशेषता इसका सूर्य तिलक तंत्र है। इसे इस तरह से डिजाइन किया गया है कि हर वर्ष श्रीराम नवमी के दिन दोपहर 12 बजे लगभग 6 मिनट के लिए सूर्य की किरणें भगवान राम के विग्रह के माथे पर पड़ेंगी। विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री ने कहा कि भारतीय खगोल भौतिकी संस्थान बेंगलुरु ने सूर्य पथ पर तकनीकी सहायता प्रदान की। डॉ. सिंह ने कहा कि प्राण प्रतिष्ठा समारोह में सीएसआईआर भी शामिल होगा।








जरा ठहरें...
मुख्यमंत्री की विधानसभा में की गई घोषणा से सैकड़ों ग्रामवासियों को सिहोरा जिला की लगी आश
डीडीए ने सिर्फ मस्जिदों और मजारों को ही नहीं, मंदिरों को भी तोड़ा
कटीले तारों में फंसा मिला तेंदुआ, रेस्क्यू के दौरान फंदे छूटकर गांव मे घुसा
खुर्जा और रेवाड़ी के बीच समर्पित मालगाड़ी गलियारा राष्ट्र को मिला
दिल्ली के इस मार्ग का नाम बदलकर अयोध्या मार्ग करने की मांग
अयोध्या में पहली बार अलग रंग के शूट-बूट में दिखेंगे उ.प्र. के पुलिस
केजरीवाल सरकार ने कहा राम लला की प्राण प्रतिष्ठा से पहले पूरी दिल्ली में होगा सुंदर कांड
इस कंपनी की तूती ऐसी ही नहीं बोलती
दिल्ली मेट्रो को पूरी तरह निजी हाथों में देने की तैयारी
रेल मंत्रालय के शीर्ष पर पहुंचने वाली जया सिन्हा पहली महिला बनीं
प्रतापगढ़ रेलवे स्टेशन, भ्रष्टाचार की नट बोल्ट से कसी चादर, हवा की एक झोंके में उड़ गयी
जब ईरान में बहाई धर्म अपनाने वाली 10 महिलाओं को फांसी की सजा दे दी गयी
गुड़ का सेवन करना कई मामले में सेहत के लिए रामबाण!
सनातन की जीत? वैज्ञानिकों ने माना रामसेतु मानव निर्मित है...!
30 किलो से ज्यादा वजन के कुत्ते को घोड़ा मानता है रेलवे!
२०५ साल के बाबा, १०५ साल से नहीं खाया एक अन्न भी!
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
चीन मुद्दे पर क्या सरकार ने जितने जरूरी कठोर कदम उठाने थे, उठाए कि नहीं?
हां
नहीं
पता नहीं
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.
Design & Developed By : AP Itechnosoft Systems Pvt. Ltd.