ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

क्या आप जानते हैं

डीडीए ने सिर्फ मस्जिदों और मजारों को ही नहीं, मंदिरों को भी तोड़ा

आकाश श्रीवास्तव

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़ नेटवर्क

नई दिल्ली, 13 फरवरी 2024

डीडीए ने सिर्फ मस्जिदों और मजारों को ही नहीं बल्कि मंदिरों को भी तोड़ा
दिल्ली के  संजय वन में अतिक्रमण हटाओ अभियान के तहत 30 जनवरी को एक मस्जिद और 77 कब्रों के अलावा 4 मंदिरों को भी ध्वस्त किया गया है। संजय वन महरौली के पास स्थित है। डीडीए द्वारा तोड़े गए इन मंदिरों में एक काली मंदिर, एक हनुमान मंदिर और दो शिव मंदिर थे। महरौली में 780 एकड़ क्षेत्र में फैले संजय वन के अंदर ये 82 संरचनाएं 16 स्थानों पर फैली हुई थीं।’ डीडीए के अधिकारी के मुताबिक, ‘संजय वन एक आरक्षित वन क्षेत्र है, जो दक्षिणी रिज का एक हिस्सा है। रिज प्रबंधन बोर्ड ने रिज क्षेत्र को सभी प्रकार के अतिक्रमण से मुक्त रखने का आदेश दिया है, जिसके बाद यह विध्वंस अभियान चलाया गया। बताया गया कि किसी की धार्मिक आस्था को ठेस न पहुंचे, इसलिए मंदिरों पर बुलडोजर एक्शन से पहले ही डीडीए के अधिकारियों ने मूर्तियों को हटाकर एक सुरक्षित जगह पर रखवा दिया था। मंदिरों और मस्जिद-मजारों पर बुलडोजर एक्शन से पहले सुरक्षाबलों के साथ मौजूद डीडीए की टीम ने लोगों की धार्मिक भावनाओं का ख्याल रखा।

डीडीए का कहना है कि करीब दो साल पहले हिंदू और मुस्लिम निकायों को संजय वन के भीतर मौजूद धार्मिक निर्माणों की एक सूची प्रस्तुत करने के लिए कहा गया था और जब उन्हें ध्वस्त करने का निर्णय लिया गया तो बैठक के दौरान किसी भी धार्मिक निकायों द्वारा आपत्ति दर्ज नहीं की गई थी। वहीं, धार्मिक समितियों के साथ 27 जनवरी 2024 को हुई बैठक में भी उन अवैध संरचनाओं को हटाने के लिए सर्वसम्मति से मंजूरी दे दी गई थी. इसके बाद ही डीडीए ने 30 जनवरी को इन अवैध संरचनाओं को ध्वस्त किया, जिसमें कुछ मस्जिद, मजार और मंदिर भी थे।

कथित तौर पर अवैध मंदिर और मस्जिद पर जब बुलडोजर एक्शन हो रहा था, तब उस ओर किसी को भी जाने की इजाजत नहीं थी। पूरी तरह से बैरिकेडिंग कर दी गई थी और भारी संख्या में सुरक्षाबल तैनात थे। जबकि 30 जनवरी के बुलडोजर कार्रवाई पर बवाल जारी है। डीडीए ने अतिक्रमण हटाओ अभियान के तहत संजय वन क्षेत्र में 600 साल पुरानी अखूंदजी मस्जिद और 900 साल पुरानी बाबा हाजी रोजबीह की मजार को ध्ववस्त कर दिया। इसके बाद डीडीए यानी दिल्ली विकास प्राधिकरण के बुलडोजर एक्शन को एतरफा और संदेह की नजरों से देखा जाने लगा। ऐसे आरोप लगाए गए कि डीडीए ने केवल मस्जिद, मजार और कब्रों पर ही बुलडोजर चलाया है. मगर हकीकत तो यह है कि डीडीए ने केवल मस्जिद-मजार ही नहीं, बल्कि अवैध मंदिरों पर भी बुलडोजर चलाया।

दरअसल, महरौली इलाके के संजय वन स्थित आशिक अल्लाह की दरगाह, बाबा हाजी रोजबीह की मजार और अखंदूजी मस्जिद समेत कई दर्जनों कब्रों पर 30 जनवरी को डीडीए का बुलजोजर चला। डीडीए की नजर में ये सभी ध्वस्त की गईं संरचनाएं अवैध थीं। मगर इसका मामला कोर्ट तक पहुंच गया। हालांकि, इन सबके बीच मंदिरों पर डीडीए के बुलडोजर एक्शन की खबरें गायब दिखीं. लेकिन हकीकत तो यह है कि संजय वन में ही स्थित ऐतिहासिक ज्वाला काली मंदिर को भी ढहा दिया गया. डीडीए ने जिन मंदिरों पर बुलडोजर चलाया, उनमें एक काली मंदिर, एक हनुमान मंदिर और दो शिव मंदिर शामिल थे।




सांकेतिक तस्वीर।





जरा ठहरें...
मुख्यमंत्री की विधानसभा में की गई घोषणा से सैकड़ों ग्रामवासियों को सिहोरा जिला की लगी आश
कटीले तारों में फंसा मिला तेंदुआ, रेस्क्यू के दौरान फंदे छूटकर गांव मे घुसा
खुर्जा और रेवाड़ी के बीच समर्पित मालगाड़ी गलियारा राष्ट्र को मिला
पूरा राम मंदिर विज्ञान की कसौटी पर कसा गया है - जितेंद्र सिंह
दिल्ली के इस मार्ग का नाम बदलकर अयोध्या मार्ग करने की मांग
अयोध्या में पहली बार अलग रंग के शूट-बूट में दिखेंगे उ.प्र. के पुलिस
केजरीवाल सरकार ने कहा राम लला की प्राण प्रतिष्ठा से पहले पूरी दिल्ली में होगा सुंदर कांड
इस कंपनी की तूती ऐसी ही नहीं बोलती
दिल्ली मेट्रो को पूरी तरह निजी हाथों में देने की तैयारी
रेल मंत्रालय के शीर्ष पर पहुंचने वाली जया सिन्हा पहली महिला बनीं
प्रतापगढ़ रेलवे स्टेशन, भ्रष्टाचार की नट बोल्ट से कसी चादर, हवा की एक झोंके में उड़ गयी
जब ईरान में बहाई धर्म अपनाने वाली 10 महिलाओं को फांसी की सजा दे दी गयी
गुड़ का सेवन करना कई मामले में सेहत के लिए रामबाण!
सनातन की जीत? वैज्ञानिकों ने माना रामसेतु मानव निर्मित है...!
30 किलो से ज्यादा वजन के कुत्ते को घोड़ा मानता है रेलवे!
२०५ साल के बाबा, १०५ साल से नहीं खाया एक अन्न भी!
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
चीन मुद्दे पर क्या सरकार ने जितने जरूरी कठोर कदम उठाने थे, उठाए कि नहीं?
हां
नहीं
पता नहीं
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.
Design & Developed By : AP Itechnosoft Systems Pvt. Ltd.