ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

बातें मीडिया की

रिपब्लिक चैनल के अर्नब गोस्वामी पर चोरी का आरोप, हाई कोर्ट का नोटिस

नई दिल्ली

३१ मई २०१७

दिल्ली हाई कोर्ट ने अर्नब गोस्वामी को नोटिस जारी किया है। यह नोटिस एंप्लॉयमेंट कॉन्ट्रैक्ट के उल्लंघन और न्यूज चैनल टाइम्स नाउ की बौद्धिक संपदा के दुरुपयोग को लेकर जारी हुआ है। गोस्वामी बेनेट, कोलमैन ऐंड कंपनी लिमिटेड (बीसीसीएल) के मालिकाना हक वाले चैनल टाइम्स नाउ के पूर्व एडिटर हैं। भारत का सबसे बड़ा मीडिया हाउस बीसीसीएल टाइम्स ऑफ इंडिया, द इकॉनमिक टाइम्स, नवभारत टाइम्स अखबारों के अलावा कई मशहूर पत्रिकाएं प्रकाशित करता है। बीसीसीएल ने गोस्वामी के खिलाफ आपराधिक मुकदमा दर्ज कराया था।


फाइल फोटो।

कंपनी की ओर से दर्ज कराई गई शिकायत के मुताबिक, हाल ही में रिपब्लिक चैनल पर सुनंदा पुष्कर केस और लालू प्रसाद यादव से जुड़ीं खबरों में चलाए गए ऑडियो टेप गोस्वामी और प्रेमा श्रीदेवी ने उस वक्त हासिल किए, जब वे दोनों टाइम्स नाउ के कर्मचारी थे। प्रेमा टाइम्स नाउ की रिपोर्टर रह चुकी हैं। अर्नब ने बीते साल टाइम्स नाउ छोड़ने के बाद इसी महीने 'रिपब्लिक टीवी' लॉन्च किया है। 6 मई को लॉन्चिंग के दिन रिपब्लिक टीवी ने आरजेडी प्रमुख लालू यादव पर खुलासा करने का दावा किया था। इसमें बिहार के पूर्व सीएम लालू और जेल के अंदर बंद शहाबुद्दीन के बीच फोन पर हुई बातचीत प्रसारित की गई थी। रिपब्लिक टीवी ने दूसरा 'खुलासा' 8 मई को चलाया था। इसमें प्रेमा श्रीदेवी और सुनंदा पुष्कर और उनके नौकर नारायण की बातचीत का टेप चलाया गया था।

बीसीसीएल की आंतरिक जांच में इस बात के संकेत मिलते हैं कि दोनों ही 'खुलासों' में उन सामग्रियों का इस्तेमाल किया गया, जिन्हें गोस्वामी और श्रीदेवी ने टाइम्स नाउ के कर्मचारी रहते हुए हासिल किया था। दोनों ने ही यह कबूल किया था कि दिवंगत सुनंदा पुष्कर और उनके नौकर से बातचीत का ऑडियो दो साल से उनके पास था। टाइम्स नाउ के सीईओ एम. के. आनंद ने बताया, 'मैनेजमेंट को इन चोरियों के बारे में उस वक्त पता चला, जब उन्हें रिपब्लिक टीवी पर टेलिकास्ट किया गया। यह दुखद है कि उनके (अर्नब) कद का कोई शख्स चोर बन गया और अपना चैनल लॉन्च करने के लिए टाइम्स नाउ का कॉन्टेंट चुराया। जाहिर सी बात है कि इसकी सुनियोजित योजना बनाई गई, क्योंकि उन्होंने इन दोनों ही स्टोरीज का इस्तेमाल लॉन्च के तीन दिन के अंदर ही किया।'


बीसीसीएल ने अर्नब और प्रेमा पर आरोप लगाया है कि दोनों ने जानबूझकर टाइम्स नाउ की बौद्धिक संपदा का इस्तेमाल किया। कंपनी ने इंडियन पीनल कोड ( आईपीसी) की धारा 403 और दूसरे की संपदा के आपराधिक दुरुपयोग से जुड़ीं आईपीसी की अन्य धाराओं के अलावा आईटी ऐक्ट तहत केस चलाने की मांग की है। आईटी ऐक्ट की धारा 66बी के मुताबिक, 'कोई खराब नीयत से किसी कम्प्यूटर या अन्य कम्युनिकेशन डिवाइस से सूचनाएं हासिल करता या चुराता है और इसके विश्वास करने योग्य वाजिब कारण हो तो तीन साल तक की जेल या एक लाख रुपये तक का जुर्माना या दोनों की सजा का प्रावधान है।' नभाटा, साभार।




जरा ठहरें...
मीडिया को धमकाने पर कांग्रेस ने गंभीर मुद्दा बताया
आखिरकार बिक ही गया एनडीटीवी!
51 राष्ट्रीय और क्षेत्रीय अखबारों को नहीं मिलेगा विज्ञापन
बीट पत्रकारों के साथ सूचना अधिकारियों का सौतेला व्यवहार, पत्रकारों में रोष!
एंबे वैली को बेचने से रोकने की याचिका सर्वोच्च न्यायालय ने खारिज की
पत्रकारों पर लाठीचार्ज करने के मामले में पुलिस निरीक्षक निलंबित
तरूण तेजपाल को नहीं मिलने वाली है कोर्ट से कोई राहत
दुनिया के पत्रकारों ने गौरी शंकर की हत्या की निंदा की
यूसी ब्राउसर की जांच करने में जुटी सरकार
जल्द ही डीटीएच पर भी लागू होगा पोर्टबिलिटी
टीवी अखबार की जगह शोसल मीडिया पर खबरें ज्यादा देखी जाने लगी है
"जिसकी हिंदी को जर्मनी ने अपनाया, उसी को भारत ने ठुकराया!
एनडीटीवी के मालिक प्रणय रॉय पर वित्तीय धोखे का आरोप, सीबीआई ने मारा छापा
सरकार पत्रकारों को पेंशन दे - साक्षी महाराज
पत्रकारों पर मेहरबान हुए हिमाचल के मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह!
बिहार सरकार का पत्रकारों को तोहफा
आने वाला समय डिजिटल मीडिया का : जेटली
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
मोदी सरकार के तीन साल के कार्यकाल से आप खुश हैं?
हां
नहीं
कह नहीं सकते
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें