ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

बातें मीडिया की

टीवी अखबार की जगह शोसल मीडिया पर खबरें ज्यादा देखी जाने लगी है

नई दिल्ली

२४ जुलाई २०१७

महानगरों में अब लोग अखबार पढ़ने और टीवी देखने में 3-4 साल पहले की तुलना में ज्यादा वक्त बिता रहे हैं। फेसबुक, वाट्सएप और इंस्टाग्राम सहित सोशल प्लेटफार्म लोगों की पढ़ने और देखने की आदत तेजी से बदल रहे हैं और इनका असर खासतौर से युवा पीढ़ी पर ज्यादा है।  एसोचैम द्वारा किए गए एक सर्वेक्षण के निष्कर्ष में कहा गया है, "यह सही है कि भारतीय समाचार उद्योग अच्छी हालत में है और करीब 6.2 करोड़ अखबार प्रकाशित हो रहे हैं और आम घरों में अभी भी सुबह-सुबह अखबार खरीदा जा रहा है।

लेकिन परिवारों में अखबार पढ़ने के वक्त में तेजी से कमी आई है और फेसबुक पर लोग ज्यादा वक्त बिता रहे हैं। खासतौर से युवा पीढ़ी में यह चलन तेजी से उभरा है।" एसोचैम के महासचिव डी. एस. रावत ने कहा, "विडंबना यह है कि सोशल मीडिया पर ढेरों फर्जी खबरें और झूठ भी बड़े पैमाने पर प्रसारित हो रहे हैं। हालांकि जैसे-जैसे नई मीडिया परिपक्वता की तरफ विकसित होगी, उम्मीद है कि यूजर्स भी इंटरनेट से जानकारी हासिल करने के मामले में ज्यादा समझदार बनेंगे।" रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत में अभी इंटरनेट की पहुंच महज 40-45 फीसदी आबादी तक ही है। वहीं, टीवी की पहुंच 90 फीसदी आबादी तक है। लेकिन सरकार डिजिटल इंडिया अभियान चला रही है और भारत नेट के तहत गांव-गांव तक इंटरनेट पहुंचाने में जुटी है। इससे सोशल मीडिया का और विस्तार होगा तथा लोगों का खबरों, विचारों आदि तक पहुंचने का जायका बदलेगा। फिलहाल 6.2 करोड़ अखबार छप रहे हैं और टीवी देखने वालों की संख्या भी 78 करोड़ के आस-पास है।

लेकिन बहुत सारा ट्रैफिक खासकर टीवी देखने वाले दर्शकों का स्मार्टफोन, टैब की तरफ जा रहा है, जहां नेटफ्लिक्स, यूट्यूब, अमेजॉन जैसे कई विकल्प हैं जो युवाओं को खासतौर से लुभा रहे हैं। फेसबुक इसमें सबसे आगे रहने का दावा करता है और भारत में उसके कुल 20 करोड़ यूजर्स हैं, जो फेसबुक के कुल यूजर्स का दसवां हिस्सा है। पूरी दुनिया में फेसबुक के 2 अरब यूजर्स हैं। एसोचैम ने दिल्ली, मुंबई, चेन्नई, हैदराबाद, पुणे, बेंगलुरू में 235 परिवारों पर किए गए सर्वेक्षण में कई दिलचस्प तथ्य एकत्रित किए हैं। करीब 80 फीसदी प्रतिभागियों ने कहा कि सुबह की चाय के साथ अखबार पढ़ने में भारी बदलाव हुआ है।

जहां 50 साल से अधिक उम्र के पुरुष अब भी अखबार पढ़ते हैं, वहीं परिवार के युवा सदस्य विभिन्न सोशल साइटों पर जुटे रहते हैं, जहां उनकी रुचि से संबंधित जानकारियों और खबरों का अथाह भंडार है।








जरा ठहरें...
आखिरकार बिक ही गया एनडीटीवी!
51 राष्ट्रीय और क्षेत्रीय अखबारों को नहीं मिलेगा विज्ञापन
बीट पत्रकारों के साथ सूचना अधिकारियों का सौतेला व्यवहार, पत्रकारों में रोष!
एंबे वैली को बेचने से रोकने की याचिका सर्वोच्च न्यायालय ने खारिज की
पत्रकारों पर लाठीचार्ज करने के मामले में पुलिस निरीक्षक निलंबित
तरूण तेजपाल को नहीं मिलने वाली है कोर्ट से कोई राहत
दुनिया के पत्रकारों ने गौरी शंकर की हत्या की निंदा की
यूसी ब्राउसर की जांच करने में जुटी सरकार
जल्द ही डीटीएच पर भी लागू होगा पोर्टबिलिटी
"जिसकी हिंदी को जर्मनी ने अपनाया, उसी को भारत ने ठुकराया!
एनडीटीवी के मालिक प्रणय रॉय पर वित्तीय धोखे का आरोप, सीबीआई ने मारा छापा
रिपब्लिक चैनल के अर्नब गोस्वामी पर चोरी का आरोप, हाई कोर्ट का नोटिस
सरकार पत्रकारों को पेंशन दे - साक्षी महाराज
पत्रकारों पर मेहरबान हुए हिमाचल के मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह!
बिहार सरकार का पत्रकारों को तोहफा
आने वाला समय डिजिटल मीडिया का : जेटली
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
मोदी सरकार के तीन साल के कार्यकाल से आप खुश हैं?
हां
नहीं
कह नहीं सकते
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें