ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

बातें मीडिया की

गुजरात चुनाव में सोशल मीडिया पर फीका है भाजपा का प्रचार

नई दिल्ली

२९ नवंबर २०१७

सन् 2014 के लोकसभा चुनाव में सोशल मीडिया के खेल में बाजी मारने वाली भाजपा का सोशल मीडिया कैंपेन इस बार ठंडा है। इस मामले में कांग्रेस इस बार भारी पड़ रही है। दरअसल सोशल मीडिया पर विकास की कहानी कहने की जगह राहुल गांधी का मजाक उड़ाने वाले वीडियो वायरल करने और उनकी हकीकत सामने आने के बाद से भाजपा बैकफुट पर आ गई है। पार्टी के प्रचार में सोशल मीडिया के हर प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल करने की रणनीति बनाने वाले युवाओं की टीम में भी इस बार हताशा सी दिख रही है।


पिछले चुनाव में सोशल मीडिया कैंपेन की बदौलत भाजपा की हवा बना देने वाले और मोदी लहर का कमाल दिखाने वाले एक प्रमुख कार्यकर्ता नाम न छापने की शर्त पर बताते हैं कि इस बार हमारी टीम में कुछ नया करने को लेकर उत्साह नहीं है। बल्कि हो ये रहा है कि नए रचनात्मक कंटेट तैयार करने की बजाय कॉपी, पेस्ट और फॉरवर्ड करने का ही काम हो रहा है। पिछली बार हमने व्हाट्सएप, फेसबुक और ट्विटर के कम से कम 500 ऐसे ग्रुप बनाए थे जहां नई-नई सोच के साथ मैसेज, कार्टून और विजुअल्स तैयार किए जाते थे।

लेकिन इस बार ऐसा कुछ नहीं है। इस युवा नेता ने बताया कि इसके लिए पिछली बार भारत रक्षा मंच, नरेंद्र मोदी विचार मंच, वंदेमातरम ग्रुप के साथ-साथ हिंदू सेना, नमो सेना जैसे कई नामों से कई मंच बनाए गए थे। स्वदेशी जागरण मंच, विश्व हिंदू परिषद और संघ से जुड़े तमाम संगठन भी सक्रिय थे, लेकिन इस बार भाजपा मीडिया सेल के लोग ही सोशल मीडिया में तमाम संदेश फॉरवर्ड कर रहे हैं। इसीलिए इनमें कई गलतियां भी हो रही हैं और पार्टी को बदनामी भी उठानी पड़ रही है।


दूसरी तरफ राजस्थान से जामनगर आए एक युवा कार्यकर्ता पिछले 6 महीने से यहां मोदी एप डाउनलोड करवाने का काम कर रहे हैं। उनका दावा है कि करीब 4 लाख लोगों ने ये ऐप डाउनलोड किया है, लेकिन सोशल मीडिया कैंपेन को लेकर इस कार्यकर्ता में भी ज्यादा उत्साह नहीं है। उनका कहना है कि पार्टी ने हमें सिर्फ मोदी एप डाउनलोड करवाने का काम दिया है, वो मैं कर रहा हूं। अब ये ऐप कौन देख रहा है, कौन नहीं, ये नहीं पता। दूसरी तरफ भाजपा मीडिया सेल ने गुजरात गौरव के नाम से एक व्हाट्सएप ग्रुप बनाया है जो खास तौर से गुजरात में भाजपा नेताओं के भाषणों और चुनावी कैंपेन से जुड़ी सूचनाएं और खास बातें प्रचारित करता है।




जरा ठहरें...
देश भर के पत्रकारों को राहत देने की सरकार की तैयारी!
भारत में इंटरनेट की रफ्तार बदतर, दुनिया में 109 वां स्थान!
रेल टिकट की खरीदारी अब भीम से शुरू
आतंकवाद का केंद्र न बनने पाए साइबर स्पेस - मोदी
मीडिया को धमकाने पर कांग्रेस ने गंभीर मुद्दा बताया
आखिरकार बिक ही गया एनडीटीवी!
51 राष्ट्रीय और क्षेत्रीय अखबारों को नहीं मिलेगा विज्ञापन
बीट पत्रकारों के साथ सूचना अधिकारियों का सौतेला व्यवहार, पत्रकारों में रोष!
जल्द ही डीटीएच पर भी लागू होगा पोर्टबिलिटी
"जिसकी हिंदी को जर्मनी ने अपनाया, उसी को भारत ने ठुकराया!
एनडीटीवी के मालिक प्रणय रॉय पर वित्तीय धोखे का आरोप, सीबीआई ने मारा छापा
रिपब्लिक चैनल के अर्नब गोस्वामी पर चोरी का आरोप, हाई कोर्ट का नोटिस
सरकार पत्रकारों को पेंशन दे - साक्षी महाराज
पत्रकारों पर मेहरबान हुए हिमाचल के मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह!
आने वाला समय डिजिटल मीडिया का : जेटली
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
मोदी सरकार के तीन साल के कार्यकाल से आप खुश हैं?
हां
नहीं
कह नहीं सकते
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें