ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

बातें मीडिया की

देश भर के पत्रकारों को राहत देने की सरकार की तैयारी!

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़

नई दिल्ली

12 दिसंबर 2017

केंद्र सरकार ने देशभर के पत्रकारों के कल्याण लिए के लिए फरवरी, 2013 में लागू की गई ‘पत्रकार वेलफेयर स्कीम’ में संशोधन कर दिया है, जिसका लाभ अब देश के सभी पत्रकारों को मिल सकेगा। इस स्कीम के तहत पत्रकार के निधन हो जाने पर उस पर आश्रित परिजनों या फिर पत्रकार के विकलांग हो जाने या फिर बीमारी के इलाज के लिए केंद्र सरकार की ओर से 5 लाख रुपए तक की सहायता दी जाएगी।


मिली जानकारी के मुताबिक, इसके लिए एक समिति का गठन भी किया जा चुका है, जिसमें केंद्रीय सूचना और प्रसारण मंत्री संरक्षक (पैट्रोन) हैं। विभाग के सचिव अध्यक्ष, प्रधान महानिदेशक (M&C), एएस एंड एएफ (AS&FA), संयुक्त सचिव (पी), सदस्य हैं। सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के उप सचिव/निदेशक सदस्य संयोजक हैं। यह समिति ही पीड़ित पत्रकार अथवा उनके परिजन के आवेदन पर विचार करेगी। हालांकि इसमें केंद्र अथवा राज्य सरकार से अधिस्वीकृत (एक्रीडेटेड) पत्रकार होने का कोई बंधन नहीं है, लेकिन यह स्कीम पत्रकारों से सम्बंधित 1955 के एक अधिनियम (Working Journalists and other Newspaper Employes (Condition of service) And Miscellaneous Provision Act 1955) के तहत पत्रकार की श्रेणी में आने वाले देश के सभी पत्रकारों के लिए लागू किया गया है। 

इनके अलावा टीवी और वेब जर्नलिज्म के माध्यम से सेवाएं देने वालों को भी इस योजना का लाभ दिया जाएगा। साथ ही समाचार पत्रों के संपादक से लेकर उपसंपादक, रिपोर्टर, फोटोग्राफर, कैमरामैन, फोटो जर्नालिस्ट के अलावा फ्रीलान्स जर्नालिस्ट, अंशकालिक संवाददाता और उनके आश्रितों को इसके दायरे में रखा गया है। इसके लिए कम से कम पांच वर्षों की पत्रकार के रूप में सेवा में होना अनिवार्य है। इस स्कीम के तहत यह भी बताया गया है कि एक से पांच लाख की सहायता किन परिस्थितियों में पीड़ित पत्रकार अथवा उनके परिजनों दी जाएगी।


अधिक जानकारी के लिए आप नीचे दिए लिंक पर क्लिक कर पढ़ सकते हैं। पीड़ित पत्रकार अथवा उनके परिजन इसके लिए विहित फॉर्म पर अपने आवेदन नीचे दिए पते पर भेज सकते हैं। तीन पृष्ठों के इस फॉर्म का नमूना प्रेस इन्फॉर्मेशन ब्यूरो (पत्र सूचना ब्यूरो) के वेबसाइट (pib.nic.in) से डाउनलोड किया जा सकता है।


इस लिंक पर क्लिक करें- http://pib.nic.in/prs/JWSguidelinesEnglish.pdf?Sel=17&PSel=2




जरा ठहरें...
ट्रिब्यून संवाददाता के साथ एकजुट हुआ मीडिया जगत
भारत में इंटरनेट की रफ्तार बदतर, दुनिया में 109 वां स्थान!
रेल टिकट की खरीदारी अब भीम से शुरू
गुजरात चुनाव में सोशल मीडिया पर फीका है भाजपा का प्रचार
आतंकवाद का केंद्र न बनने पाए साइबर स्पेस - मोदी
मीडिया को धमकाने पर कांग्रेस ने गंभीर मुद्दा बताया
आखिरकार बिक ही गया एनडीटीवी!
51 राष्ट्रीय और क्षेत्रीय अखबारों को नहीं मिलेगा विज्ञापन
बीट पत्रकारों के साथ सूचना अधिकारियों का सौतेला व्यवहार, पत्रकारों में रोष!
जल्द ही डीटीएच पर भी लागू होगा पोर्टबिलिटी
"जिसकी हिंदी को जर्मनी ने अपनाया, उसी को भारत ने ठुकराया!
एनडीटीवी के मालिक प्रणय रॉय पर वित्तीय धोखे का आरोप, सीबीआई ने मारा छापा
रिपब्लिक चैनल के अर्नब गोस्वामी पर चोरी का आरोप, हाई कोर्ट का नोटिस
सरकार पत्रकारों को पेंशन दे - साक्षी महाराज
पत्रकारों पर मेहरबान हुए हिमाचल के मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह!
आने वाला समय डिजिटल मीडिया का : जेटली
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
मोदी सरकार के तीन साल के कार्यकाल से आप खुश हैं?
हां
नहीं
कह नहीं सकते
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें