ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

बातें मीडिया की

ट्रिब्यून संवाददाता के साथ एकजुट हुआ मीडिया जगत

चंदीगढ़

9 जनवरी 2018

पंजाब और चंडीगढ़ में बड़ी संख्या में पत्रकारों ने भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण  द्वारा समाचार पत्र द ट्रिब्यून और इसकी संवाददाता के खिलाफ मामला दर्ज कराने के खिलाफ सोमवार को प्रदर्शन किया। अखबार और संवाददाता ने 'आधार' में दर्ज जानकारियों के अवैध तरीके से लीक होने की खबर की थी। प्रदर्शनों का आयोजन चंडीगढ़ प्रेस क्लब, जालंधर में पंजाब प्रेस क्लब और संगरूर प्रेस क्लब द्वारा किया गया।


चंडीगढ़ में पत्रकारों ने प्रेस क्लब से मार्च निकाला जोकि राज्य सरकार व केंद्र शासित चंडीगढ़ के प्रशासक वी.पी.सिंह बडनोर को ज्ञापन देने के लिए पंजाब राजभवन की तरफ रवाना हुआ। चंडीगढ़ प्रेस क्लब के सचिव जनरल बरिंदर सिंह रावत ने ट्रिब्यून पत्रकार के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराए जाने की निंदा की। रावत ने एक बयान में कहा, "सरकारी एजेंसी ने डाटा अवैध रूप से जारी करने वालों के खिलाफ कार्रवाई करने के बजाए उस संवाददाता के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने को तरजीह दी जिसने व्यवस्था की खामियों को उजागर किया है।" पंजाब और हरियाणा के कई और जगहों पर भी अखबार और संवाददाता के समर्थन में ऐसे ही प्रदर्शन हुए। ट्रिब्यून अखबार ने 3 जनवरी को एक न्यूज रिपोर्ट प्रकाशित की थी जिसमें आधार डाटा की जानकारी आसानी से और अवैध रूप से उपलब्ध होने के बारे में बताया गया था। इसके बाद यूआईडीएआई ने अखबार और रिपोर्टर रचना खरा के खिलाफ एफआईआर दर्ज की। यूआईडीएआई ने 4 जनवरी को कहा था कि शिकायत निवारण के लिए इसकी सर्च सुविधा का 'गलत इस्तेमाल' किया गया होगा लेकिन कोई आधार डाटा लीक नहीं हुआ है।

यूआईडीएआई के कदम का मीडिया जगत ने बड़े पैमाने पर विरोध किया है। पत्रकारों और एडिटर्स गिल्ड जैसी संस्थाओं ने द ट्रिब्यून और इसकी संवाददाता के खिलाफ मामले को तुरंत वापस लेने की मांग की है। द ट्रिब्यून ने कहा है कि वह अपनी रिपोर्ट के साथ मजबूती से खड़ा है। अखबार ने यूआईडीएआई के आरोपों को खारिज करते हुए कहा है कि 'हमें ट्रिब्यून में इस बात का पक्का यकीन है कि हमारी खबरें वैधानिक पत्रकारिता के दायरे में आती हैं।'


ट्रिब्यून के एडिटर इन चीफ हरीश खरे ने कहा, "हमारी स्टोरी बेहद सार्वजनिक महत्व के मामले में नागरिकों द्वारा जताई जाने वाली वाजिब चिंताओं का नतीजा है। हमें अफसोस है कि अधिकारियों ने हमारी ईमानदार पत्रकारिता को गलत तरीके से लिया और मामले को उजागर करने वाले के खिलाफ आपराधिक कार्यवाही की शुरुआत कर दी। हम गंभीर खोजी पत्रकारिता की अपनी आजादी की रक्षा के लिए सभी कानूनी तरीके अपनाएंगे।"




जरा ठहरें...
देश भर के पत्रकारों को राहत देने की सरकार की तैयारी!
भारत में इंटरनेट की रफ्तार बदतर, दुनिया में 109 वां स्थान!
रेल टिकट की खरीदारी अब भीम से शुरू
गुजरात चुनाव में सोशल मीडिया पर फीका है भाजपा का प्रचार
आतंकवाद का केंद्र न बनने पाए साइबर स्पेस - मोदी
मीडिया को धमकाने पर कांग्रेस ने गंभीर मुद्दा बताया
आखिरकार बिक ही गया एनडीटीवी!
51 राष्ट्रीय और क्षेत्रीय अखबारों को नहीं मिलेगा विज्ञापन
बीट पत्रकारों के साथ सूचना अधिकारियों का सौतेला व्यवहार, पत्रकारों में रोष!
जल्द ही डीटीएच पर भी लागू होगा पोर्टबिलिटी
"जिसकी हिंदी को जर्मनी ने अपनाया, उसी को भारत ने ठुकराया!
एनडीटीवी के मालिक प्रणय रॉय पर वित्तीय धोखे का आरोप, सीबीआई ने मारा छापा
रिपब्लिक चैनल के अर्नब गोस्वामी पर चोरी का आरोप, हाई कोर्ट का नोटिस
सरकार पत्रकारों को पेंशन दे - साक्षी महाराज
पत्रकारों पर मेहरबान हुए हिमाचल के मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह!
आने वाला समय डिजिटल मीडिया का : जेटली
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
मोदी सरकार के तीन साल के कार्यकाल से आप खुश हैं?
हां
नहीं
कह नहीं सकते
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें