ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

बातें मीडिया की

सोशल मीडिया का दुरूपयोग रोकने के लिए भारतीय विकल्पों की तलाश ज़रूरी - भंगडिया

आकाश श्रीवास्तव

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़

नई दिल्ली, ७ मार्च २०१९

सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स के अश्लील पोस्ट व वीडियोज़ पर चल रही खबरें काफी चिंताजनक हैं। सोशल मीडिया पर बढ़ती हुयी आपत्तिजनक पोस्ट्स का प्रमुख कारण है की विदेशी मंच हमारी भारतीय परम्पराओं और मूल्यों का सम्मान करने के बजाय अपने मुनाफे पर ही केंद्रित रहेंगे।यह काफी महत्वपूर्ण हो गया है कि हमारे समाज व संस्कृति को दूषित करने वाले ऐसे प्लेटफॉर्म्स को बढ़ावा न दिया जाए। साथ ही साथ यह भी ज़रूरी है की हम सोशल नेटवर्किंग के लिए कोई भारतीय विकल्प चुनें।


भारतीय यूज़र्स की समस्याओं के बारे में बात करते हुए, रोपोसो के सीईओ और को-फाउंडर मयंक भंगडिया ने कहा, "इन विदेशी खिलाड़ियों के बुरे प्रभाव को महसूस किए बिना यूज़र्स इन सोशल मीडिया प्लेटफार्मों के काफी आदी हो रहे हैं। इसका सबसे बड़ा दुष्प्रभाव बच्चों व महिलाओं पर पड़ रहा है और वो अश्लीलता का टारगेट बन रहे हैं। हमारा देश हमें मूल्यों का सम्मान करना और हमारे बुजुर्गों, बच्चों व महिलाओं का सम्मान करना सिखाता है, और यह बात विदेशी कंपनियां नहीं समझ पाती हैं। हम अपने यूज़र्स को एक स्वच्छ मंच प्रदान करते हैं जिसमें कोई पॉर्न शामिल नहीं होता।"

आज कल इंस्टाग्राम, टिकटॉक और हेलो जैसे प्लैटफॉर्म्स को मॉर्फ्ड (नकली) तस्वीरों की भारी समस्या का सामना करना पड़ रहा है। लोग कंप्यूटर की मदद से तस्वीरें बदल कर अश्लील पोस्ट बना देते हैं। क्यूंकि ऐसे मंच हमारे दैनिक जीवन का एक प्रमुख हिस्सा बन गए हैं, जहां पूरे भारत और सभी आयु समूहों के यूज़र्स इन प्लेटफॉर्म्स के माध्यम से अपनी फोटो और वीडियो अपलोड करते हैं, इन प्लेटफ़ॉर्म की यह ज़िम्मेदारी बन जाती है कि गलत व अश्लील वीडियो अपलोड न हों। लेकिन अफ़सोस की बात है की ऐसे कॉन्टेंट को हटाने के बजाय, ये प्लेटफ़ॉर्म अश्लील कॉन्टेंट के बारे में कुछ नहीं करना चाहते हैं।


विदेशी कम्पनी हिंदुस्तान में प्रवेश करती हैं और हमें उनके कंटेंट का आदी बनाती हैं। ऐसा करने के बाद, ये कंपनियां हमारी परंपराओं और मूल्यों पर हमला करती हैं। इसी कारण से हमें सिर्फ अपने देश और देश की कम्पनियो का समर्थन करना चाहिए। सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म की दुनिया में कई भारतीय विकल्प हैं। शेयरचैट और रोपोसो जैसे प्लेटफ़ॉर्म न केवल भारतीय सोशल प्लेटफ़ॉर्म हैं बल्कि ये विदेशी प्लेटफॉर्म्स के कहीं बेहतर विकल्प हैं। भारतीय कंपनियां न केवल भारतीय मूल्यों को समझती व उनपे गर्व करती हैं, बल्कि वे भारत की विभिन्न भाषाओं का भी सम्मान करती हैं। रोपोसो पर जो भी वीडियो अपलोड किया जाता है, उसे पहले अश्लीलता के लिए मशीन द्वारा चेक किया जाता है।


इसके बाद, इस ऐप के विभिन्न भाषा एक्सपर्ट यह तय करते हैं कि किस वीडियो को किस केटेगरी या चैनल (जैसे की म्यूजिक, स्पोर्ट्स, न्यूज़, भक्ति, आदि) पर दिखाया जाना चाहिए। इस प्रकार से एक बार फिर ये देखा जाता है की विडिओ में कुछ अश्लील तो नहीं। इस सख्त प्रारूप के बाद भी, रोपोसो यूज़र्स को किसी भी विडिओ को अनुपयुक्त चिह्नित करने के लिए एक बटन दिया जाता है। रोपोसो, अपने यूज़र्स द्वारा मार्क किये गए कॉन्टेंट को फिर देखता है और अश्लीलता पाए जाने पर ऐसी वीडियो को हटा देता है। रोपोसो अपने मोबाइल ऐप पर अपने यूज़र्स को साफ़ और रचनात्मक वीडियो प्रदान करने के लिए ऐसा करता है।



जरा ठहरें...
म.प्र. में पत्रकारों पर हमले और किसी तरह की उत्पीड़न बर्दाश्त नहीं - मुख्यमंत्री
योगी के उ.प्र. में पत्रकार की जमीन कब्जा करने वाले दंबगों की अंजाम भुगतने की धमकी
मुख्यमंत्री योगी ने भी नहीं सुनी एक पत्रकार की फरियाद
उ.प्र. में योगी राज में पत्रकार के घर पर गुंडों और दबंगों का कब्जा!
एनडीटीवी पर अनिल अंबानी की कंपनी ने ठोका १० हजार करोड़ का मुकादमा
यौन उत्पीड़न के आरोप में फंसे वजीर को बादशाह ने स्वदेश वापस बुलाया!
5 करोड़ यूजर्स के फेसबुक डेटा हैक की खबर से पूरी दुनिया में मचा हड़कंप
राज्यपाल के प्राइवेट सेक्रेटरी वीरेंद्र राणा ने कहा, दुर्ग सिंह का साथ दिया तो जान आफत में आ जाएगी।
सरकार पत्रकारों को पेंशन दे - साक्षी महाराज
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.