ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

बातें मीडिया की

भारत द्वारा पबजी समेत 224 एप प्रतिबंधित किए जाने से बौखलाया चीन!

आकाश श्रीवास्तव

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़ नेटवर्क

नई दिल्ली, 3 सितंबर 2020

लद्दाख में भारतीय सैनिकों के जोरदार प्रतिक्रिया के बाद भारत के 118 और चीनी ऐप को बैन करने से चीन बुरी तरह से भड़क गया है। खेल की दुनिया में डंका बजाने वाले पबजी मोबाइल ऐप के सबसे ज्यादा उपयोगकर्ता भारत में ही हैं। यह खेल गूगल प्ले स्टोर पर टॉप 5 में शुमार था। एक रिपोर्ट के मुताबिक सिर्फ 2020 के पहले क्वॉर्टर में पबजी को 6 करोड़ लोगों को डाउनलोड किया था। इतना ही नहीं, मई में पबजी दुनिया का सबसे ज्यादा मुनाफा कमाने वाला मोबाइल गेम बना था। उसे 22.6 करोड़ डॉलर यानी करीब 1700 करोड़ रुपये का राजस्व मिला था। अब भारत में बैन से न सिर्फ पबजी का यूजर बेस घटेगा बल्कि तगड़ी आर्थिक चोट भी पहुंचेगी।


चीनी वाणिज्‍य मंत्रालय ने कहा कि भारत का ऐप पर बैन लगाना चीनी निवेशकों और सर्विस प्रोवाइडरों के कानूनी हितों का उल्‍लंघन करता है। चीन इसको लेकर गंभीरतापूर्वक चिंतित है और पूरजोर विरोध करता है। इससे पहले पूर्वी लद्दाख में एलएसी पर चीन के साथ बढ़ते तनाव के बीच भारत ने बुधवार को मशहूर गेमिंग ऐप पबजी समेत 118 और मोबाइल ऐप्स पर प्रतिबंध लगा दिया। ये ऐप चीन की कंपनियों से जुड़े हुए है। चीन के वाणिज्‍य मंत्रालय ने भारत के इस कदम पर गंभीर चिंता जताई है। चीनी वाणिज्‍य मंत्रालय ने एक बयान जारी करके भारत के इस फैसले पर सख्‍त ऐतराज भी जताया है। लद्दाख में चल रहे तनाव के बीच भारत अब तक चीन के 224 ऐप पर बैन लगा चुका है। इनमें से ज्यादातर ऐप के भारत में बड़ी तादाद में यूजर्स थे। कई भारतीय युवाओं को तो लोकप्रिय गेमिंग ऐप पबजी की एक तरह से लत लगी हुई है। बात अगर भारत में पबजी ऐप के डाउनलोड की करें तो इसे 5 करोड़ से ज्यादा बार डाउनलोड किया जा चुका था। भारत में उसके 3.3 करोड़ ऐक्टिव यूजर थे, जो बहुत बड़ी संख्या है। अब इन पर प्रतिबंधों से चीनी कंपनियों की कमाई सीधे-सीधे प्रभावित होगी।

पबजी को वैसे तो एक साउथ कोरियन कंपनी ने डिवेलप किया था लेकिन इसके जितने भी वर्जन जारी होते हैं, उसे चीनी कंपनी टेंसेंट जारी करती है। इससे पहले जून में भारत ने टिकटॉक समते 59 चीनी ऐप पर बैन लगाया था। जुलाई में भी चीन से जुड़े 47 मोबाइल ऐप प्रतिबंधित किए गए थे। इस तरह अब तक चीन से जुड़े कुल 224 मोबाइल ऐप पर प्रतिबंध लग चुका है। आइए समझते हैं कि ये ऐप बैन चीन के लिए कितनी बड़ी चोट हैं और इसके जरिए भारत क्या संदेश देना चाहता है। बुधवार को जिन मोबाइल ऐप पर प्रतिबंध लगाया गया उनमें पबजी, पबजी लाइट समेत बायदू, बायदू एक्सप्रेस एडिशन, अलीपे, टेनसेंट वॉचलिस्ट, फेसयू, वीचैट रीडिंग, गवर्नमेंट वीचैट, टेनसेंट वेयुन, आपुस लॉन्चर प्रो, आपुस सिक्यॉरिटी, कट कट, शेयरसेवा बाइ शाओमी और कैमकार्ड जैसे ऐप शामिल हैं।





जरा ठहरें...
अर्णब गोस्वामी की मुश्किलें बढ़ीं, कोर्ट से नहीं मिली राहत
चीन की जासूसी के आरोप में पत्रकार राजीव शर्मा गिरफ्तार
प्रधानमंत्री की गूगल के सीईओ से महत्वपूर्ण बातचीत
नेपाल ने भारतीय समाचार चैनलों को किया प्रतिबंधित किया
बर्बाद हो रहे मीडिया की और ध्यान दे प्रधानमंत्री : आसिफ
मोदी सरकार का बड़ा फैसला, चीन के 59 साफ्टवेयर भारत में प्रतिबंधित
सीबीआई के 'निशाने' पर आए DAVP के अधिकारी, जांच के दायरे में फंसे कई अखबार!
सोशल मीडिया के सभी प्लेटफार्म्स के गाइडलाइंस को रिवाइज किया जाएगा – रविशंकर प्रसाद
योगी के उ.प्र. में पत्रकार की जमीन कब्जा करने वाले दंबगों की अंजाम भुगतने की धमकी
मुख्यमंत्री योगी ने भी नहीं सुनी एक पत्रकार की फरियाद
उ.प्र. में योगी राज में पत्रकार के घर पर गुंडों और दबंगों का कब्जा!
5 करोड़ यूजर्स के फेसबुक डेटा हैक की खबर से पूरी दुनिया में मचा हड़कंप
सरकार पत्रकारों को पेंशन दे - साक्षी महाराज
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
चीन मुद्दे पर क्या सरकार ने जितने जरूरी कठोर कदम उठाने थे, उठाए कि नहीं?
हां
नहीं
पता नहीं
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.