ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

विज्ञान एवं रक्षा तकनीकि

बार के दो नए विध्वंसक युद्धपोतों ने समुद्र में कसी कमर

आकाश श्रीवास्तव

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़ नेटवर्क

मुंंबई, 19 मई 2022

भारतीय नौसेना के दो फ्रंटलाइन युद्धपोतों आईएनएस-सूरत और आईएनएस-उदयगिरी का समुद्र में जलावतरण रक्षामंत्री राजनाथ सिंह की मौजूदगी में किया गयी। आईएनएस सूरत पी15बी श्रेणी का चौथा निर्देशित मिसाइल विध्वंसक है, जबकि आईएनएस उदयगिरी पी17ए श्रेणी का दूसरा स्टील्थ युद्धपोत है। दोनों युद्धपोतों को नौसेना डिजाइन निदेशालय (डीएनडी) द्वारा किया गया है और एमडीएल मुंबई में बनाया गया है। रक्षा मंत्री ने अपने संबोधन में युद्धपोतों को 'आत्मनिर्भरता' हासिल करने पर ध्यान केंद्रित कर देश की समुद्री क्षमताओं को बढ़ाने की सरकार की अटूट प्रतिबद्धता का प्रतीक बताया। आईएनएस युद्धपोत जिसका वजन 7400 टन है। इसकी लंबाई 163 मीटर है। जहाज में 9900 hp का डीजल इंजन है। जहाज की गति 56 किलोमीटर (30 समुद्री) प्रति घंटा है।
 
इस अवसर पर रक्षा मंत्री ने इस बात पर बल देते हुए कहा कि वैश्विक सुरक्षा, सीमा विवाद और समुद्री वर्चस्व ने दुनिया भर के देशों को अपनी सेनाओं के आधुनिकीकरण के लिए प्रेरित किया है, रक्षा मंत्री ने सार्वजनिक और निजी क्षेत्रों से सरकारी नीतियों का पूरा लाभ उठाने और भारत को एक स्वदेशी जहाज निर्माण केंद्र बनाने में योगदान देने का आह्वान किया। उन्होंने सरकार को इस प्रयास में हर संभव सहयोग का आश्वासन दिया। भारतीय नौसेना की भारतीय तटीय क्षेत्रों और बंदरगाह शहरों के नाम पर INS श्रृंखला के युद्धपोतों का नामकरण करने की नीति है। आईएनएस सूरत से पहले 3 जहाजों के नाम अलग-अलग शहर के नाम पर रखे गए हैं। INS सूरत से पहले के 3 युद्धपोतों का नाम INS विशाखापत्तनम (आंध्र प्रदेश), INS पारादीप (ओडिशा) और INS इंफाल (मणिपुर) है। ये दोनों युद्धपोत भारतीय नौसेना के शस्त्रागार की ताकत को बढ़ाएंगे और भारत की रणनीतिक ताकत के साथ-साथ दुनिया में आत्मनिर्भरता की शक्ति का प्रतिनिधित्व करेंगे। आईएनएस उदयगिरि और आईएनएस सूरत भारत की बढ़ती स्वदेशी क्षमता के ज्वलंत उदाहरण हैं। युद्धपोत दुनिया के सबसे तकनीकी रूप से उन्नत मिसाइल वाहक होंगे, जो वर्तमान और भविष्य की आवश्यकताओं को पूरा करेंगे। आने वाले समय में हम न केवल अपनी जरूरतों को पूरा करेंगे, बल्कि दुनिया की जहाज निर्माण की जरूरतों को भी पूरा करेंगे। हम जल्द ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 'मेक इन इंडिया, मेक फॉर द वर्ल्ड' के विजन को साकार करेंगे।

युद्धपोत सूरत ब्लॉक निर्माण पद्धति का उपयोग करके बनाया गया है। जिसमें दो अलग-अलग भौगोलिक स्थानों पर पतवारों का निर्माण शामिल है। उदयगिरी का नाम आंध्र प्रदेश के पहाड़ों के नाम पर रखा गया है और यह 17ए युद्धपोत परियोजना की तीसरी परियोजना है। गौरतलब है कि इस वर्ग के पहले जहाज को 2021 में कमीशन किया गया था। द्वितीय और तृतीय श्रेणी के जहाजों का उद्घाटन किया गया है। 15B क्लास और P17A जहाजों को आंतरिक रूप से डिज़ाइन किया गया है। शिपयार्ड के निर्माण चरण के दौरान सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों की भागीदारी से लगभग 75 प्रतिशत उपकरण घरेलू स्तर पर खरीदे गए हैं।








जरा ठहरें...
भारतीय वायुसेना ने अपने महानायक मार्शल अर्जुन सिंह को किया याद!
वायुसेना ने देवघर में बचाव कार्य को पूरा किया
रक्षा बजट 2022: सुरक्षा क्षेत्र में आत्म निर्भर भारत के दो कदम: एक आकलन
डीआरडीओ ने सरफेस टू एयर मिसाइल का सफल परीक्षण किया
भारत ने प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में "बड़ी छलांग"लगाई – डॉ जितेंद्र सिंह
भारतीय जैव-जेट ईंधन प्रौद्योगिकी को औपचारिक सैन्य प्रमाणन प्राप्त मिला
वायुसेना ने भविष्य में उत्पन्न होने वाली चुनौतियों से निपटने के लिए चिंतन मंथन शुरू किया
राष्ट्रीय कृषि-खाद्य जैव प्रौद्योगिकी संस्थान में उन्नत 650 टेराफ्लॉप्स सुपरकंप्यूटिंग सुविधाओं का उद्घाटन
भारतीय वायु सेना ने पश्चिमी वायु कमान में 'यूनिटी रन' का आयोजन किया
अमेरिकी नौसेना के प्रमुख एडमिरल माइकल गिल्डे, नौसेना के चीफ एडमिरल करमवीर से मिले
समय से पहले सारे राफेल मिल जाएंगे भारत को - फ्रांस
लद्दाख में चीनी वायुसेना तीन एअरबेस पर मौजूद – मुकाबले के लिए हम तैयार – वायुसेना प्रमुख
पुरानी बीमारी महामारी विज्ञान तथा जटिल सार्वजनिक स्वास्थ्य हस्तक्षेप पर काम कर रहे चित्रा
सरकार ने स्पेन से 56 ‘सी-295’ सैन्य परिवहन विमानों की खरीदी के लिए अनुबंध किया
साढ़े सात हजार करोड़ रूपए में 118 अर्जुन टैंकों की खरीद की मंजूरी
ध्वनि की गति से 24 गुना तेज चलने वाली अग्नि-5 मिसाइल का परीक्षण जल्द
वायुसेना ने देश में आक्सीजन की कमी को दूर करन के लिए कमर कसी
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Third Eye World News: वीडियो
22 मार्च 2022 से...
Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
चीन मुद्दे पर क्या सरकार ने जितने जरूरी कठोर कदम उठाने थे, उठाए कि नहीं?
हां
नहीं
पता नहीं
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.