ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

विज्ञान एवं रक्षा तकनीकि

अमेरिकी नौसेना के प्रमुख एडमिरल माइकल गिल्डे, नौसेना के चीफ एडमिरल करमवीर से मिले
हिंद प्रशांत समेत अहम जलमार्गों पर चीन की बढ़ती सैन्य मौजूदगी पर दोनों सेना प्रमुखों ने चर्चा की

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़ नेटवर्क

दिल्ली।12 अक्

मेरिकी नौसैन्य अभियानों के प्रमुख एडमिरल माइकल गिल्डे ने नौसेना के चीफ एडमिरल करमवीर सिंह के साथ मंगलवार को विस्तृत वार्ता की जिसमें हिंद प्रशांत समेत अहम जलमार्गों पर चीन की बढ़ती सैन्य मौजूदगी की पृष्ठभूमि में समुद्री सुरक्षा के क्षेत्र में समग्र द्विपक्षीय सहयोग बढ़ाने पर जोर दिया गया। एडमिरल गिल्डे 11 अक्टूबर से 15 अक्टूबर तक भारत की पांच दिवसीय यात्रा पर आए हैं।

अधिकारियों ने बताया कि क्षेत्रीय सुरक्षा परिदृश्य, हिंद-प्रशांत में मौजूदा स्थिति और द्विपक्षीय समुद्री सहयोग को और विस्तार देने के तरीकों समेत कई मामलों पर बैठक में चर्चा की गई।

राष्ट्रीय युद्ध स्मारक में माल्यार्पण के बाद शीर्ष अमेरिकी नौसैन्य कमांडर ने कहा कि भारत का वैश्विक सुरक्षा में योगदान का ‘‘पुराना और विशिष्ट रिकॉर्ड’’ रहा है।

एडमिरल गिल्डे ने ट्वीट किया, ‘‘भारत में यात्रा के दौरान मेरी मेजबानी करने के लिए एडमिरल सिंह और भारतीय नौसेना का धन्यवाद। हम सूचना साझेदारी एवं क्षेत्रीय सुरक्षा में सहयोग बढ़ाकर और समुद्र में मिलकर अभ्यास करने समेत कई कदमों के जरिए अमेरिका और भारत के बीच रक्षा साझेदारी को आगे बढ़ाने के लिए प्रतिबद्ध हैं।’’

एडमिरल गिल्डे का मुंबई में भारतीय नौसेना की पश्चिमी कमान और विशाखापट्टनम में पूर्वी कमान की यात्रा करने का भी कार्यक्रम है, जहां वह दोनों कमान के कमांडर इन चीफ से मुलाकात करेंगे।

भारतीय नौसेना के प्रवक्ता कमांडर विवेक मधवाल ने कहा, ‘‘एडमिरल गिल्डे एक भारतीय प्रतिनिधिमंडल के साथ भारत के पूर्वी तट पर अमेरिकी नौसेना के ‘कैरियर स्ट्राइक ग्रुप’ के पोत पर भी सवार होंगे।’’

‘कैरियर स्ट्राइक ग्रुप’ का नेतृत्व परमाणु ऊर्जा से संचालित अमेरिकी विमान वाहक पोत कार्ल विन्सन कर रहा है और यह पोत 12 अक्टूबर से 15 अक्टूबर तक मालाबार युद्धाभ्यास के दूसरे चरण में भाग ले रहा है। इस युद्धाभ्यास में सभी चार क्वाड देशों- भारत, अमेरिका, आस्ट्रेलिया और जापान- की नौसेनाएं भाग लेंगी।

कमांडर मधवाल ने कहा, ‘‘भारतीय और अमेरिकी नौसेनाएं एक स्वतंत्र, खुले और समावेशी हिंद-प्रशांत के साझा उद्देश्य के साथ गठजोड़ के लिए नए रास्ते तलाशने की दिशा में भी सहयोग कर रही हैं।’’

भारत और अमेरिका के रक्षा संबंध पिछले कुछ साल से मजबूत हो रहे हैं। अमेरिका ने जून 2016 में भारत को ‘‘प्रमुख रक्षा साझेदार’’ के रूप में सूचीबद्ध किया था।

दोनों देशों ने पिछले कुछ साल में कई अहम रक्षा समझौतों पर हस्ताक्षर भी किए हैं, जिनमें 2016 में किया गया ‘लॉजिस्टिक्स एक्सचेंज मेमोरेंडम ऑफ एग्रीमेंट’ (एलईएमओए) शामिल है। इसके अलावा दोनों पक्षों ने 2018 में संचार संगतता और सुरक्षा समझौते (कॉमकासा.... कम्युनिकेशन्स कम्पैटिबिलिटी एंड सिक्योरिटी एग्रीमेंट) पर भी हस्ताक्षर किए थे। भारत और अमेरिका ने पिछले साल अक्टूबर में बुनियादी विनिमय सहयोग समझौता (बीईसीए) किया था।









जरा ठहरें...
समय से पहले सारे राफेल मिल जाएंगे भारत को - फ्रांस
लद्दाख में चीनी वायुसेना तीन एअरबेस पर मौजूद – मुकाबले के लिए हम तैयार – वायुसेना प्रमुख
पुरानी बीमारी महामारी विज्ञान तथा जटिल सार्वजनिक स्वास्थ्य हस्तक्षेप पर काम कर रहे चित्रा
सरकार ने स्पेन से 56 ‘सी-295’ सैन्य परिवहन विमानों की खरीदी के लिए अनुबंध किया
साढ़े सात हजार करोड़ रूपए में 118 अर्जुन टैंकों की खरीद की मंजूरी
ध्वनि की गति से 24 गुना तेज चलने वाली अग्नि-5 मिसाइल का परीक्षण जल्द
रक्षा मंत्रालय को मिली दो नई इमारतें, प्रधानमंत्री ने किया उद्घाटन, तय समय से 20 महीने पहले तैयार
राष्ट्रीय राजमार्ग पर उतरे वायुसेना के जंगी जहाज
आज का दिन भारत और भारतीय नौसेना के लिए ऐतिहासिक दिन
सिंगापुर से भारतीय वायुसेना के विमान आक्सीजन लेकर उड़ान भरी
वायुसेना ने देश में आक्सीजन की कमी को दूर करन के लिए कमर कसी
"हमारे देश में रक्षा व्यय को एक भारी भरकम व्यय समझने की भ्रांति विकसित हो रही है"
चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (सी. डी. एस.) पद-स्थापना की प्रथम वर्षगांठ
भारतीय वायुसेना में शामिल होंगे 83 तेजस लड़ाकू विमान, 48 हजार करोड़ का सौदा
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
चीन मुद्दे पर क्या सरकार ने जितने जरूरी कठोर कदम उठाने थे, उठाए कि नहीं?
हां
नहीं
पता नहीं
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.