ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

विज्ञान एवं रक्षा तकनीकि

चीन की हर गतिविधि पर है भारतीय खुफिया उपग्रह की नज़र...!

आकाश श्रीवास्तव

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़ नेटवर्क

नई दिल्ली, 26 जुलाई 2020

चीन और भारत के बीच चल रहे तनातनी के बीच भारत ने भी चीन की हर गतिविधि पर नजर ऱखनी शुरू कर दी है। सूत्रों के मुताबिक भारत ने चीन की सैनिक गतिविधियों पर नज़र रखने के लिए अपने खुफिया उपग्रह को लगा दिया है। दरअसल, भारत का एक जासूस सैटलाइट हाल ही में चीन के कब्जे वाले तिब्बत के ऊपर से गुजरा है। सूत्रों के मुताबिक सैटलाइट ने अच्छी खासी जानकारी जुटाई है। इसी के बाद से चीन में हड़कंप मच गया है। (डीआरडीओ) का यह सैटलाइट EMISAT इंटेलिजेंस इनपुट जुटाने का काम करता है। इसमें एक ELINT यानी इलेक्ट्रॉनिक इंटेलिजेंस सिस्टम 'कौटिल्य' लगा हुआ है, जिसकी खूबी है कि वह रक्षा क्षेत्र की अहम जानकारियां जुटा सकता है।


एक आधिकारिक सूत्र ने बताया कि यह सैटलाइट हाल में अरुणाचल प्रदेश के पास स्थित तिब्बत के उस हिस्से के ऊपर से गुजरा है, जो तीन की पीपल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) के कब्जे में है। सूत्रों के मुताबिक, चीन ने डेप्सांग सेक्टर में भी अपने सैनिक जुटाए हैं। चीनी सैनिकों को एलएसी के पास गड्डा खोदते देखा जा सकता है। इससे पहले पीएलए ने 2013 में भी डेप्सांग में घुसपैठ की थी। शुक्रवार को सूत्रों ने बताया कि भारत के रेडार सैटलाइट RISAT-2BR1 चीन के पीप्लस लिबरेशन आर्मी नेवी (पीएलएएन) के जिबूती बेस (अफ्रीका) के ऊपर से गुजरा था। जिबूती नेवी बेस चीन का इकलौता ऐसा बेस है, जो देश के बाहर है। हाल ही में ऐसी खबरें भी आई थीं कि चीन ने जिबूती के पास अपने तीन युद्धपोत तैनात किए हैं। इससे पहले भी भारत के सैटलाइट EMISAT के ELINT ने पाकिस्तान नेवी के ओर्मारा बेस (जिन्ना नवल बेस) के ऊपर चक्कर लगाया था।
इस बेस के बारे में कहा जाता है कि यहां चीन के सहयोग से पाकिस्तान ने सबमरीन जुटा रखी हैं। हालांकि, भारत और चीन के बीच वार्ता जारी है लेकिन ऐसी आशंका जताई जा रही है कि पाकिस्तान और चीन मिलकर आगामी सर्दियों तक भारत के खिलाफ कश्मीर और लद्दाख में दोहरी लड़ाई की तैयारी कर रहे हैं।

भारत ने चीन को उसी की चाल से घेरा है तो चीन एकदम बिलबिला पड़ा है और उसने अपनी सेना जुटानी शुरू कर दी है। इसरो के बनाए EMISAT का ELINT सिस्टम दुश्मन के क्षेत्र में ट्रांसमिशन के लिए इस्तेमाल होने वाले रेडियो सिग्नल्स को पढ़ लेता है। लद्दाख में पैंगोंग सो के फिंगर 4 को लेकर हुई भारत-चीन की बातचीत के बेनतीजा होने के एक ही दिन बाद यह सैटलाइट गुजरने से चीन में हड़कंप मच गया है। हालांकि, अभी दोनों देश लद्दाख विवाद पर और वार्ता करने को तैयार हैं।





जरा ठहरें...
राफेल को और शक्तिशाली बनाने के लिए भारत ने हैमर मिसाइलों की खरीदारी के दिए आदेश
सीमा क्षेत्रों में निर्माण परियोजनाओं में चीनी मशीनों के उपयोग पर प्रतिबंध लगे – कैट
चीन के साथ तनातनी के बीच भारत ने 38 हजार करोड़ के हथियारों की खरीद की मंजूरी दी
नौसेना द्वारा विकसित पीपीई सूट ‘नवरक्षक’ निजी कपंनी को हस्तांतरित की गयी
रक्षा क्षेत्र में आत्म निर्भरता के लिए सरकार ने बढ़ाए कदम, खत्म होगा आयात!
कोरोना से निपटने के लिए वैज्ञानिकों ने बनाए हर्बल उत्पाद
वैज्ञानिकों ने मिस्ट सैनिटाइजर टनल को बताया सुरक्षित
सीएसआईआर अब कोविड-19 किटकी की प्रमाणितकता देगा
कोविड-19 संक्रमण रोकने में मददगार हो सकती है सीएसआईओ की मशीन
भारतीय वैज्ञानिकों ने कोविड -19 के परीक्षण के लिए विकसित की पेपर-स्ट्रिप किट
कोनोरा वायरस से लड़ने के लिए भारतीय वायुसेना ने कसी कमर
मई के अंत तक देश को मिल जाएगा राफेल - राजनाथ सिंह
दिल्ली में बनेगा नया रक्षा मुख्यालय
सशत्र सेनाएं राजनीति से बहुत दूर रहती हैं - सीडीएस
2020 में गगनयान और चंद्रयान-3 मिशन लॉन्च करेगा इसरो: के.सिवन
भारत ने ब्रह्मोस मिसाइल का हवा और जमीन से सफल परीक्षण किया
दुश्मन से निपटने के लिए भारत की शक्तिशाली मिसाइल K-4 परीक्षण के लिए तैयार..!
भारत का अगला कदम: पंडुब्बी से दुश्मन को मार गिराने वाली परमाणु मिसाइल का परीक्षण करेगा भारत
पाकिस्तान घुसपैठ बंद कराए नहीं तो ऐसी कार्रवाई होती रहेगी - रक्षा मंत्री
राफेल की अभी सिर्फ पूजा हुई है, उड़ने में लगेंगे तीन साल...!
नौसेना की नई ताकत है INS खंडेरी शामिल
इस बार भारत अंतरराष्ट्रीय विज्ञान महोत्सव का आयोजन कोलकाता में
दुश्मनों का काल! अमेरिकी अपाचे, भारतीय वायुसेना का बना हिस्सा
भारतीय सेना के जवान ने शंख बजाकर बनाया विश्व रिकार्ड...!
भारत का परमाणु हमला भविष्य की परिस्थितियों पर निर्भर होगा - राजनाथ सिंह
बालाकोट हमले के अंजाम देने वाले वायुसेना के जांबाजों को वीर पुरस्कार से सम्मानित
जब अपनी ही मिसाइल का शिकार हो गया वायुसेना का हेलीकॉप्टर....?
वायुसेना ने वीर चक्र से "अभिनंदन" की 'अभिनंदन' किए जाने की सिफारिश की!
इसरो ने भावी योजनाओं का किया खुलासा, पहला अंतरिक्ष अभियान २०२० से शुरू
ऑटोमोबाइल क्षेत्र के लिए BS-5 और BS-6 मानदंडों की अधिसूचना
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
चीन मुद्दे पर क्या सरकार ने जितने जरूरी कठोर कदम उठाने थे, उठाए कि नहीं?
हां
नहीं
पता नहीं
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.