ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

आर्थिक-समाचार

एसबीआई विलय बाद सहयोगी बैंकों की 47 फीसदी शाखाएं बंद करेगी

नई दिल्ली

२१ मार्च २०१७

भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) में एक अप्रैल को पांच सहयोगी बैंकों का विलय हो जाएगा। इसके बाद एसबीआई ने इन बैंकों की करीब आधी शाखाओं को बंद करने का फैसला किया है, जिसमें तीन बैंकों का मुख्यालय भी शामिल है। बैंक शाखाओं की बंद करने की प्रक्रिया 24 अप्रैल से शुरू होगी। एसबीआई के प्रबंध निदेशक दिनेश कुमार खारा ने आईएएनएस के साथ विशेष बातचीत में कहा, "पांच सहयोगी बैंकों के मुख्यालयों में से हम केवल दो को जारी रखेंगे। तीन सहयोगी बैंकों की शाखाओं के साथ 27 जोनल कार्यालय, 81 क्षेत्रीय कार्यालय और 11 नेटवर्क कार्यालयों को बंद कर दिया जाएगा।"


प्रतीकात्मक चित्र।

खारा ने कहा, "हम सहयोगी बैंकों की शाखाओं को 24 अप्रैल तक बनाए रखेंगे और उसके बाद इनको बंद करने की प्रक्रि या शुरू कर दी जाएगी, जिनमें नियंत्रण कार्यालय, मुख्यालय, क्षेत्रीय कार्यालय, जोनल कार्यालय और नेटवर्क कार्यालय शामिल हैं।" जिन पांच सहयोगी बैंकों का एसबीआई में विलय हो रहा है, उनमें एसबीबीजे (स्टेट बैंक ऑफ बीकानेर एंड जयपुर), एसबीएम (स्टेट बैंक ऑफ मैसूर), एसबीटी (स्टेट बैंक ऑफ ट्रावनकोर), एसबीपी (स्टेट बैंक ऑफ पटियाला) और एसबीएच (स्टेट बैंक ऑफ हैदराबाद) शामिल हैं। एसबीआई देश का सबसे बड़ा बैंक है, जिसकी परिसंपत्तियां 30.72 लाख करोड़ रुपये की है और वैश्विक रैकिंग में यह 64वें नंबर पर है (दिसंबर 2015 के आंकड़ों पर आधारित, दिसंबर 2016 के आंकड़े अभी तक आए नहीं हैं)। इस विलय के बाद एसबीआई की परिसंपत्तियां बढ़कर 40 लाख करोड़ रुपये हो जाएंगी। इसके साथ ही यह दुनिया के शीर्ष 50 बैंकों में शामिल हो जाएगा।

एसबीआई के मुख्य अर्थशाी सौम्य कांति घोष ने आईएएनएस को बताया कि विलय के बाद बैंक दुनिया में 45 नंबर पर आ जाएगा। खारा ने कहा, "बैंक की शाखाओं को इसलिए बंद किया जा रहा है, ताकि एक ही क्षेत्र में शाखाओं का दोहराव न हो। हम नियंत्रण संरचना में किसी प्रकार के दोहराव को हटाना चाहते हैं।"





जरा ठहरें...
एनएचपीसी के निदेशक बने महेश कुमार मित्तल
पंचतारा ली-मेरीडेन का लाइसेंस रद्द, ताजमान की होगी नीलामी
एनएचपीसी खरीदेगी 2,616 करोड़ रूपये मूल्य के शेयर
पॉवर कार्पोरेशन ने वसूली में दिखाई कड़ाई
पंजाब नेशनल बैंक का मुनाफा २ सौ करोड़ से ज्यादा बढ़ा
नोटबंदी के बाद जन धन खातों में 21,000 करोड़ रुपये जमा!
बचत खाते में बैंक हर तिमाही ब्याज डालें: रिजर्व बैंक
कार निर्माता कंपनियों की बिक्री घटी
638 ने की 58 करोड़ डॉलर काली संपत्ति की घोषणा
एफडी में पैसा लगाना घाटे का सौदा!
मुकेश अंबानी भारत के सबसे बड़े रईस
एचएसबीसी बैंक में भारतीयों के करोंडों के काला धन - जेटली
किंगफिशर की संपत्ति जब्त हो गई
बिक गया नोकिया, माइक्रोसाफ्ट ने ७ अरब डॉलर से ज्यादा चुकाई कीमत!
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
देश में बढ़ती आतंकी घटना और सीमापार से पाकिस्तान की तरफ से हो रही गोलाबारी की घटना मोदी सरकार की नाकामी है...
जी हां बिल्कुल मोदी सरकार की नाकामी है।
कोई नाकामी नहीं है।
कह नहीं सकते।
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.