ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

कारोबार-समाचार

तेल उत्पादक देश तेल की कीमतें पूरी जिम्मेदारी से तय करें - भारत

थर्ड आई वर्ल़्ड न्यूज़

नई दिल्ली

१८ अक्टूबर २०१८

भारत ने पेट्रोलियम निर्यातक देशों के संगठन (ओपेक) से तेल एवं गैस के दाम जिम्मेदारी पूर्ण तरीके से तय करने को कहा है। भारत और ओपेक के बीच वार्षिक संस्थागत वार्ता में पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने आयात देशों का दृष्टिकोण रखा। दुनिया में कुल कच्चे तेल उत्पादन में ओपेक देशों की हिस्सेदारी 45 प्रतिशत है।


प्रधान ने कहा, ‘‘ओपेक के महासचिव मोहम्मद सानुसी बारकिंदो के साथ तीसरी भारत ओपेक ऊर्जा वार्ता के दौरान मुलाकात हुई। इस बैठक में मैंने कच्चे तेल की बढ़ती कीमतों का मुद्दा रखा जिससे भारत जैसे तेल आयात देश प्रभावित हो रहे हैं। मैंने उनसे जिम्मेदार तरीके से कीमत तय करने को कहा है जो उत्पादक और उपभोक्ता दोनों के हित में है।’’ भारत ने कहा कि तेल एवं गैस कीमतों में हालिया वृद्धि बाजार की बाजार के मूल सिद्धान्त से अलग हैं और इससे आयातक देशों को नुकसान हो रहा है। भारत दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा तेल उपभोक्ता है। कच्चे तेल की कीमतों चार साल के उच्चस्तर पर जाने तथा रुपये में गिरावट के दोहरे प्रभाव से पेट्रोल, डीजल और रसोई गैस के दाम रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंच चुके हैं। सरकार ने हाल में ईंधन पर करों में जो कटौती की है वह कीमतों में लगातार बढ़ोतरी से समाप्त हो गई है।

भारत अपनी कच्चे तेल की जरूरत का 83 प्रतिशत आयात करता है। इनमें से 85 प्रतिशत ओपेक देशों से आता है। वहीं 80 प्रतिशत गैस का आयात इन देशों से किया जाता है। भारत मानता है कि कच्चे तेल की कीमत और उपलब्धता तय करने में ओपेक की महत्वपूर्ण भूमिका है। कच्चे तेल की कीमतों में जो मौजूदा उछाल का सिलसिला चल रहा है उससे कई देशों की आर्थिक वृद्धि प्रभावित हुई है।





जरा ठहरें...
मोबाइल ट्रैफिक रेट जल्द बढ़ेंगे
डी एल के प्रकाशन द्वारा “14 वें हॉस्पिटलिटी इंडिया का आयोजन
शेयर बाजार में कोहराम, निवेशको के लिए ब्लैक फ्राइडे: ९ लाख करोड़ डूबे
सरकार का तेल का खेल, वसूली दो लाख करोड़ की, राहत महज कुछ हजार करोड़ की!
भारत व्यापार बंद के लिए कैट ने जारी किया व्यापारी चार्टर!
आजादी के बाद पहली बार रूपया सबसे नीचे गिरा
कैट वॉलमार्ट के खिलाफ जाएगा कोर्ट करेगा देशव्यापी प्रदर्शन
ई कॉमर्स के लिए रेगुलेटरी अथॉरिटी गठित की जाए - कैट
टीएचडीसीआईएल के सहयोग से दवाइयों का वितरण संपन्न
दिल्ली का क्नाट प्लेस दुनिया का ९वां सबसे मंहगा कार्य स्थल बना
विजय गोयल टीएचडीसीआईएल के निदेशक बने!
पांच साल में 11 नहीं, 61 हजार करोड़ का महाघोटाला हुआ, आरबीआई ने दी जानकारी!
यदि गैस खुद लेने जाएं तो एजेंसी से अपना साढे उन्नीस रूपए भी लें!
दुनिया का सबसे भव्य मैदान होगा देश का प्रतीक प्रगति मैदान
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.