ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

पर्यटन/संस्कृति/शिक्षा

नई दिल्ली नगरपालिका परिषद के स्कूल हुए आधुनिक
पालिका के स्कूलों में नई शिक्षा नीति के तहत शुरू हुई शिक्षा

आकाश श्रीवास्तव

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़ नेटवर्क

नई दिल्ली, 25 जनवरी 2022

प्रधान मंत्री द्वारा लागू राष्ट्रीय शिक्षा नीति के तहत अपने स्कूलों में शिक्षा प्रणाली के उत्थान और अधिक व्यावहारिक शिक्षा प्रदान करने के लिए, उपाध्यक्ष- पालिका परिषद् सतीश उपाध्याय ने एनडीएमसी स्कूलों के छात्रों और शिक्षकों की बेहतरी के लिए नई शिक्षा परियोजनाए लागू  किये जाने के विषय में विवरण की जानकारी साझा की। उपाध्याय ने बताया कि परिषद् शिक्षा को समावेशी बनाने के लिए -अटल टिंकरिंग लैब, स्मार्ट क्लासरूम, डिजिटल लाइब्रेरी, लैंग्वेज लैब, ऑडिटोरियम का उन्नयन, मेधावी छात्रों को नकद-पुरस्कार, प्राथमिक कक्षा के छात्रों को मुफ्त स्टेशनरी, समाज के आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लगभग 2500 छात्र-छात्राओं ऑनलाइनपढने की सामग्री उपलब्ध करना,शिक्षक संसाधन केंद्र, विज्ञान पार्क, बैग रहित कक्षा, नेचर-क्लास,100 दिवसीय पठन अभियान आदि।

उपाध्याय ने कहा कि कोविड-19 ने विशेष रूप से पूरी दुनिया में शिक्षा प्रणाली के लिए अभूतपूर्व चुनौतियां पेश की हैं। एनडीएमसी ने इस चुनौती को एक अवसर के रूप में लिया और अपने सभी छात्रों के लिए 'शिक्षार्थियों के लिए घर पर स्कूली शिक्षा' सुनिश्चित करने के लिए पूरी तरह से प्रौद्योगिकी का लाभ उठाया। इन पहलों में वास्तविक समय ऑनलाइन शिक्षण, छात्रों के लिए कहीं भी किसी भी समय सीखना, ऑनलाइन मूल्यांकन, ऑनलाइन पीटीएम, स्टाफ मीटिंग और शिक्षक प्रशिक्षण और एनडीएमसी यूट्यूब चैनल आदि शामिल हैं। एनडीएमसी अपनी सभी प्राथमिक कक्षाओं को कक्षा 1 से 5 तक स्मार्ट कक्षाओं में परिवर्तित करके अपग्रेड कर रहा है। इस वित्तीय वर्ष में एक स्मार्ट बोर्ड आधारित स्मार्ट क्लास, स्कूलों में ऑडिटोरियम का उन्नयन, 14 पालिका टिंकरिंग लैब की स्थापना, 10 एनडीएमसी / नवयुग स्कूलों में से प्रत्येक में एक प्रकृति आधारित कक्षा कक्ष स्थापित किया जाएगा।

उपाध्याय ने बताया कि एनडीएमसी ने 10वीं और 12वीं कक्षा के शीर्ष 10 मेधावी छात्रों को पूर्व-प्राथमिक और प्राथमिक कक्षाओं के छात्रों को 10,000/- रुपये की नकद पुरस्कार, नि:शुल्क स्टेशनरी देकर पुरस्कृत करने का निर्णय लिया है। एनडीएमसी ने आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के 2500 छात्रों को ‘टॉपर्स’ ऑनलाइन शिक्षण सामग्री भी प्रदान की। डिजिटल संसाधनों के लिए जरूरतमंद बच्चों तक पहुंच बढ़ाने के लिए, एनडीएमसी ने छात्रों के बेहतर प्रदर्शन के लिए न केवल 200/- रुपये प्रति माह की लागत वाला इंटरनेट डेटा पैक प्रदान किया अपितु प्रायोगिक आधार पर चार स्कूलों में कक्षा 10वीं और12वीं के छात्र को 811 टैबलेट वितरित किए। एनडीएमसी शेष सभी स्कूलों के 10वीं और 12वीं कक्षा के छात्रों के साथ-साथ सभी शिक्षकों को टैबलेट उपलब्ध कराने की प्रक्रिया में है। उन्होंने बताया कि एनडीएमसी शिक्षकों के सतत व्यावसायिक विकास के लिए एनडीएमसी में एक 'शिक्षक संसाधन केंद्र' विकसित करेगा और छात्रों द्वारा विषय की बेहतर समझ के लिए राष्ट्रीय विज्ञान केंद्र के सहयोग से तुगलक क्रिसेंट में 'साइंस पार्क' की स्थापना भी करेगा।

बालवाटिका के साथ-साथ प्राथमिक कक्षाओं की जरूरतों को पूरा करने के लिए एनईपी के निर्देशों के अनुसार सभी एनडीएमसी और नवयुग स्कूलों के प्राथमिक विंग में 'गतिविधि केंद्र' खोले जाएंगे। खेल आधारित और गतिविधि-आधारित पाठ्यक्रम द्वारा भाषा कौशल और शिक्षण के विकास पर ध्यान केंद्रित किया जाएगा। उन्होंने आगे बताया कि महामारी खत्म होने के तुरंत बाद बैग रहित प्री-प्राइमरी और प्राइमरी क्लासरूम लागू किए जाएंगे। उपाध्याय ने आगे बताया कि छात्रों के लिए  "प्रकृति कक्षाएं"–गुरुकुल पर आधारित प्रकृति के साथ पढ़ने और लिखने के कौशल को प्रोत्साहित करने के लिए स्थापित की जा रही हैं। 








जरा ठहरें...
लोकटक झील को दुनिया के सबसे महत्वपूर्ण पर्यटन स्थलों में से एक बनाएंगे - सर्वानंद सोनेवाल
"देखो अपना देश" के तहत रेलवे ने रामायण सर्किट में भद्राचलम को भी जोड़ा
रिक्त पड़े हुए पदों को जल्द ही भरा जाएगा - धर्मेंद्र प्रधान
प्रधानमंत्री ने केदारनाथ में विकास परियोजनाओं की आधारशिला रखी
गंगा न केवल आध्यात्मिक जीवन रेखा है, बल्कि आर्थिक जीवन रेखा भी है - रेड्डी
कोविड संक्रमण के बीच शिक्षा मंत्री ने स्कूलों के खोलने की समीक्षा की
दक्षिण भारत में पर्यटन को पंख देने के लिए सरकार ने उठाए कई कदम
दक्षिण भारत में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए केंद्र सरकार का दो दिवसीय सम्मेलन का आयोजन
उ.प्र. को मिला एक नया अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा, प्रधानमंत्री करेंगे उद्घाटन
चिकित्सा और कल्याण पर्यटन को बढ़ावा देने का सही समय: प्रह्लाद सिंह पटेल
उ.प्र. के आईएएस विजय किरण आनंद के तुगलकी फरमान से हजारों शिक्षकों की रोजी रोटी संकट में!
मानव संशाधन विकास मंत्रालय का नाम फिर से शिक्षा मंत्रालय हुआ!
एक अनामिका ने शिक्षा महकमें में चल रहे भ्रष्टाचार, अव्यवस्था, मनमानी के गठजोड़ को उजागर कर दिया!
सीबीएसई की बाकी परीक्षाएं १ से १५ जुलाई के मध्य - मानव संशाधन मंत्रालय
रोमानिया में पढ़ाया जाता है रामायण और महाभारत के अंश
कौन है आज का प्रेमचंद? हिंदी साहित्य का अमर साहित्यकार मुंशी प्रेमचंद
रामचरित मानस की दुर्लभ प्राचीन पांडुलिपि बरामद
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Third Eye World News: वीडियो
22 मार्च 2022 से...
Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
चीन मुद्दे पर क्या सरकार ने जितने जरूरी कठोर कदम उठाने थे, उठाए कि नहीं?
हां
नहीं
पता नहीं
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.