ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

मोबाइल-बाजार

गाजियाबाद में नए आधार सेवा केंद्र की स्थापना

आकाश श्रीवास्तव

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़ नेटवर्क

21 नवंबर 2021

कौशल विकास और उद्यमिता तथा इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी राज्य मंत्री राजीव चंद्रशेखर और सड़क परिवहन और राजमार्ग और नागरिक विमानन राज्य मंत्री जनरल (डॉ.) वी.के. सिंह (सेवानिवृत्त) ने संयुक्त रूप से आज उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद में 5वें आधार सेवा केंद्र-एएसके का उद्घाटन किया। इस एएसके में प्रति दिन 1000 उपभोक्ताओं के अनुरोध को संभालने की क्षमता है।

इस अवसर पर राजीव चंद्रशेखर ने सभी को बधाई दी और कहा कि यह सार्वजनिक सुविधा केंद्र पूरी तरह से गाजियाबाद के निवासियों को समर्पित है। उन्होंने शहर के साथ अपने पुराने जुड़ाव के बारे में उल्लेख किया क्योंकि उन्होंने एक छात्र के रूप में अपने जीवन के 2 वर्ष, हिंडन एयरबेस में रहकर बिताए थे। उनके पिता भारतीय वायु सेना में एक अधिकारी थे।

उन्होंने डिजिटल इंडिया पर प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के दृष्टिकोण के बारे में बात की। श्री मोदी का दृष्टिकोण भारत जैसे विकासशील देश में प्रौद्योगिकी को प्राप्त करने के लिए 3 व्यापक परिणाम देता है। य़े परिणाम हैं :-

1.    नागरिकों के जीवन को बदलने के लिए प्रौद्योगिकी

2.    आर्थिक अवसरों का विस्तार करने के लिए

3.    कुछ निश्चित प्रौद्योगिकियों में रणनीतिक क्षमताएं उत्पन्न करने के लिए

उन्होंने पिछले 6 वर्षों में डिजिटल इंडिया अभियान की उपलब्धियों पर प्रकाश डालते हुए अपने विचार रखे। उन्होंने कहा कि भारत सरकार द्वारा गरीबों और जरूरतमंदों के कल्याण के लिए जारी किए गए 100 पैसे अब एक बटन के क्लिक पर उनके खातों में पहुंच जाते हैं। यह उन्होंने 80 के दशक में एक पूर्व प्रधानमंत्री द्वारा दिए गए बयान के विपरीत था, जिसमें उन्होंने स्वीकार किया था कि केंद्र सरकार द्वारा जारी 100 पैसे में से केवल 15 पैसे ही लाभार्थियों तक पहुंचते हैं।

उन्होंने स्वदेश में विकसित कोविन प्लेटफॉर्म का उदाहरण भी दिया, जिसने भारत में 100 करोड़ से अधिक लोगों के टीकाकरण की सुविधा प्रदान की है और अब उनके टीकाकरण कार्यक्रम के प्रबंधन के लिए विभिन्न देशों में सबसे अधिक मांग वाला प्लेटफॉर्म है।

उन्होंने इस परिवर्तन की सफलता का श्रेय आधार का उपयोग करके प्रत्यक्ष लाभ अंतरण के लिए प्रौद्योगिकी के उपयोग की प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के दृष्टिकोण को दिया, जिसने व्यवस्था से सभी लीकेज को बंद कर दिया और भ्रष्टाचार को रोका है।

आधार के बारे में बात करते हुए उन्होंने कहा कि पीएम-किसान, पीएम आवास योजना, पीएम जन आरोग्य योजना, पहल, मनरेगा, राष्ट्रीय सामाजिक सुरक्षा सहायता कार्यक्रम, पीडीएस (आधार प्रमाणीकरण के माध्यम से सभी तरह के लाभ) आदि जैसे विभिन्न सामाजिक कल्याण लाभों के लीक-प्रूफ वितरण के लिए आधार का उपयोग करने के लिए लगभग 313 केंद्र सरकार की योजनाओं को अधिसूचित किया गया है।

उन्होंने कहा कि आधार और डीबीटी के उपयोग के कारण सरकारी खजाने में, मुख्य रूप से नकली और फर्जी लाभार्थियों की छंटाई के कारण, अनुमानित रूप से 1.78 लाख करोड़ रुपये (मार्च 2020 तक; डीबीटी मिशन, कैबिनेट सचिवालय) बचत हुई।

इस अवसर पर बोलते हुए जनरल (डॉ.) वीके सिंह (सेवानिवृत्त) ने गाजियाबाद में एएसके शुरू करने के लिए सरकार को धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि यह केंद्र निवासियों के लिए आधार संबंधी सेवाओं को आसान बनाएगा। अब लोग इस केंद्र पर अपने आधार को अपडेट कर सकते हैं और आधार के लिए नामांकन भी कर सकते हैं।

यूआईडीएआई के मुख्य कार्यकारी अधिकारी सौरव गर्ग ने कहा कि यूआईडीएआई की पूरे भारत के 122 शहरों में 166 एएसके संचालित करने की योजना है। अब तक 58 एएसके की स्थापना पूरी हो चुकी है और इन केंद्रों ने काम करना शुरू कर दिया है। सभी एएसके वातानुकूलित हैं, जिन्हें पर्याप्त बैठने की क्षमता के साथ डिजाइन किया गया है और यह दिव्यांगों के अनुकूल भी है।

उन्होंने जोर देकर कहा कि यूआईडीएआई नागरिकों के लिए आधार सेवाओं को आसान बनाकर आगे बढ़ रहा है। इस दिशा में हम ऑनलाइन आधार अपडेशन सेवाओं पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं, जहां उपभोक्ता मोबाइल ऐप का उपयोग करके अपने आधार को अपडेट कर सकते हैं और यूआईडीएआई के सेल्फ सर्विस अपडेट पोर्टल पर भी जा सकते हैं।








जरा ठहरें...
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
चीन मुद्दे पर क्या सरकार ने जितने जरूरी कठोर कदम उठाने थे, उठाए कि नहीं?
हां
नहीं
पता नहीं
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.