ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

मोबाइल-बाजार

सावधान! मेल आईडी ncov2019.gov.in से आई मेल से कोई जानकारी साझा न करें

आकाश श्रीवास्तव

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़ नेटवर्क

नई दिल्ली, 24 जून 2020

नई दिल्ली। कोरोना महामारी के बीच अब साइबर हमले का खतरा मंडरा रहा है। सरकार ने कहा है कि ऑनलाइन ठगों के पास 25 लाख से ज्यादा लोगों की निजी ईमेल आईडी होने की आशंका है। ठगों के ई-मेल 'फ्री कोविड-19 टेस्टिंग फॉर ऑल रेजीडेंट्स ऑफ दिल्ली, मुंबई, चेन्नई, हैदराबाद या अन्य के साथ आ सकते हैं।  कोरोना वायरस और अब एलएसी पर तनाव के बीच साइबर अटैक के अलर्ट ने सरकारी एजेंसियों की नींद उड़ा दी है। कॉरपोरेट घरानों से लेकर प्राइवेट फर्म और इंटरनेट इस्तेमाल करने वाले चिंतित हैं। भारत सरकार की इंडियन कंप्यूटर इमरजेंसी रिस्पांस टीम यानी (सीईआरटी-इन) की ओर से देशभर में अलर्ट जारी किया गया। इसमें कहा गया है कि दिल्ली समेत भारत में बड़े पैमाने पर साइबरअटैक किया जा सकता है। रविवार से बड़े पैमाने पर ऐसे हमले हो सकते हैं, ऐसे में सभी को अतिरिक्त सतर्कता बरतने की सलाह दी गई है।
जानकारी के मुताबिक, अटैकर्स कोविड-19 के नाम का इस्तेमाल करते हुए इससे जुड़े ईमेल्स भेजकर पर्सनल और फाइनेंशल इन्फॉर्मेशन हैक कर सकते हैं। लिंक पर क्लिक करने से पहले, ध्यान दें कि वेबसाइट असली है या नकली है। मैसेज में या यूआरएल में किसी भी तरह की स्पेलिंग की गलतियों की जांच करें। अपने सिस्टम को लेटेस्ट सॉफ्टवेयर अपडेट के साथ अपडेट रखें। स्पैम मैसेज और ईमेल को न खोलें और न ही जवाब दें। ओपन वाई-फाई के इस्तेमाल से बचें। वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क (वीपीएन) का इस्तेमाल करें जो आपके और वेबसाइट के बीच एक सुरक्षित टनल बनाता है।
फिशिंग अटैक्स में यूजर्स को सरकारी सहायता राशि देने की बात कही जाएगी, जिससे वे अपनी डिटेल्स आसानी से शेयर कर दें। कोविड-19 से जुड़ी जानकारी के बाद आपका बैंक खाता खाली हो सकता है। एडवाइजरी में ncov2019@gmail.com जैसी ईमेल आईडी से खासतौर पर सावधान रहने की सलाह है। इन्हें न खोलने की हिदायत दी गई है। सरकार ने कहा है कि ऑनलाइन ठगों के पास 25 लाख से ज्यादा लोगों की निजी ईमेल आईडी होने की आशंका है। ठगों के ई-मेल 'फ्री कोविड-19 टेस्टिंग फॉर ऑल रेजीडेंट्स ऑफ दिल्ली, मुंबई, चेन्नई, हैदराबाद या अन्य के साथ आ सकते हैं।
ऐसी एक आईडी ncov2019@giv.in से भी बचकर रहने की जरूरत है। इस आईडी से आए मेल में फ्री कोविड-19 टेस्टिंग के लिए आपसे निजी जानकारियां मांगी जा सकती हैं। किसी को भी क्रेडिट कार्ड या कोई अन्य जानकारी शेयर न करें। साइबर सिक्योरिटी अटैक कई तरह के होते है। इसमें मैलवेयर, फिशिंग अटैक, डीओएस, एमआईटीएम जैसे अनेकों शामिल हैं। सिस्टम को हैक करने, क्रिप्टोकरंसी के रूप में फिरौती या फिर डार्क वेब पर डेटा बेचते के लिए इस्तेमाल किया जाता है। ऐजेंसी की ओर से कई तरीके बताए गए हैं, जिनसे यूजर्स खुद को सेफ रख सकते हैं। ऐसे किसी भी ईमेल पर यूजर्स को भरोसा नहीं करना चाहिए और कॉन्टैक्ट लिस्ट के बाहर से आए ईमेल में दिए गए लिंक पर क्लिक करने की गलती यूजर्स को नहीं करनी है।
साथ ही एजेंसी ने यूजर्स से एंटी वायरस टूल्स की मदद लेने और फायरवॉल का इस्तेमाल करने को कहा है। इसके अलावा यूजर्स अपने सेंसिटिव डॉक्यूमेंट्स एनक्रिप्ट करके भी अटैक्स से बच सकते हैं। साइबर सेल के डीसीपी अन्येष रॉय ने बताया कि, जब भी देश या वर्ड वाइड कोई बड़ा फाइनेंसियल इश्यू हो या महामारी। ऐसे साइबर अटैकर एक्टिव हो जाते हैं। फिलहाल पूरी दुनिया में कोविड-19 चल रहा है। ऐसे फिशिंग लिंक्स बना ली जाती हैं। फिर साइबर अटैकर बल्क में भेजते हैं। इसमें फाइनेंस सेक्टर, गर्वनमेंट ऐजेंसियां और अन्य होते हैं। अटैक के बाद डेटा कैप्चर समेत फाइनेंस की दिक्कतें आती हैं। वेबसाइट्स पर अपनी संवेदनशील जानकारी जैसे ईमेल आईडी, पासवर्ड, क्रेडिट कार्ड की डिटेल शेयर न करें।



प्रतीकात्मक तस्वीर।





जरा ठहरें...
जम्मू कश्मीर में प्रीपेड मोबाइल सेवाएं शुरू
कुछ सप्ताह में महंगे होंगे रिलायंस जियो के टैरिफ प्लान्स...!
सरकार का बड़ा फैसला, एमटीएनएल और बीएसएनल का होगा विलय
फोर्टिस हेल्थकेयर और टीकटॉक मिलकर मानसिक रोग की चुनौती से निपटेंगे
जियो ने दीवाली पर दिया ग्राहकों को झटका, दूसरे मोबाइल पर बात करने पर प्रति मिनट देनें होंगे ६ पैसे
रेलटेल ने बनाया रिकार्ड, लगाया ५ हजार रेलवे स्टेशनों पर मुफ्त वाई-फाई
बाजार में एक और समार्ट फोन ने दी दस्तक!
28 करोड़ लोगों का सिम बंद होने की कगार पर
दुनिया की सबसे बड़ी मोबाइल निर्माता कंपनी का नोएडा में उद्घाटन
५ जी प्रयोगशाला की शुरूआत दिल्ली में
जियो से सुधरा सकल घरेलू उत्पाद, आम लोगों को मिला बड़ा लाभ!
मोबाइल के बिल में ३० प्रतिशत तक का गिरावट आ सकता है
रिलायंस देगा मुफ्त में ४ जी मोबाइल फोन
नोकिया, एयरटेल मिलकर लाएगी 5जी, आईओटी एप्लिकेशन
स्मार्टफोन कंपनियों केलिए महत्वाकांक्षी उत्पादों का साल रहा
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
चीन मुद्दे पर क्या सरकार ने जितने जरूरी कठोर कदम उठाने थे, उठाए कि नहीं?
हां
नहीं
पता नहीं
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.