ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

उत्तर-प्रदेश

अयोध्या पर फैसले से पहले शीर्ष न्यायाधीश ने उ.प्र. के शीर्ष अधिकारियों के साथ बैठक की

आकाश श्रीवास्तव

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़

नई दिल्ली, ८ नवंबर २०१९

अयोध्या पर फैसला आने में महज चंद दिन बचे हैं। फैसला आने से पहले उत्तर प्रदेश सहित पूरे देश में शांति व्यवस्था बनाए रखने को लेकर तमाम उपाय किए जा रहे हैं। इस बीच सर्वोच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई फैसला सुनाने से पहले उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव आरके तिवारी, डीजीपी ओमप्रकाश सिंह समेत कई वरिष्ठ अफसरों के साथ बैठक की। अयोध्या केस में फैसला आने से पहले प्रदेश की सुरक्षा तैयारियों के लिहाज से इस मुलाकात को अहम बताया जा रहा है।


संग्रहित तस्वीर।

अयोध्या मामले की मुख्य न्यायाधीश की अगुआई वाली 5 जजों की बेंच ने सुनवाई की थी। उत्तर प्रदेश के शीर्ष अधिकारियों के साथ बैठक में बेंच के अन्य जज भी मौजूद हैं। इस बीच अयोध्या जिले को चार जोन- रेड, येलो, ग्रीन और ब्लू में बांटा गया है। इनमें 48 सेक्टर बनाए गए हैं। विवादित परिसर, रेड जोन में स्थित है। पुलिस के मुताबिक, सुरक्षा योजना इस तरह बनाई जा रही है कि एक आदेश पर पूरी अयोध्या को सील किया जा सके। प्रशासन ने फैसले का समय नजदीक आने पर, अर्धसैनिक बलों की अतिरिक्त 100 कंपनियां मांगी हैं। इससे पहले दीपोत्सव पर यहां सुरक्षाबलों की 47 कंपनियां पहुंची थीं, जो अभी भी तैनात है। अयोध्या के जिलाधिकारी अनुज कुमार ने कहा कि प्रशासन ने तैयारियां पूरी कर ली हैं। हालांकि फैसले के मद्देनजर विवादित जगह के आसपास रहने वाले लोग घरों में राशन जमा कर रहे हैं। हालांकि, उन्हें भरोसा दिलाया गया है कि सामान्य जीवन पर कोई असर नहीं पड़ेगा।

फैसले के बाद स्कूलों के खुलने के संबंध में भी बातचीत की जा चुकी है। पुलिस ने सोशल मीडिया पर किसी भी प्रकार के दुष्प्रचार या किसी भी सम्प्रदाय के खिलाफ भड़काऊ कंटेंट के प्रसार पर नजर रखने के लिए जिले के 1600 स्थानों पर 16 हजार वॉलंटियर तैनात किए हैं। गड़बड़ी रोकने के लिए 3000 लोगों को चिह्नित करके उनकी निगरानी की जा रही है।




जरा ठहरें...
सड़क दुर्घटना में २४ प्रवासी मजदूरों की मौत, 36 अन्य घायल
अयोध्या में भगवान राम मंदिर का निर्माण जल्द होगा प्रारम्भ
उत्तर प्रदेश में अब तक 2053 मरीज कोरोना पॉजिटिव
योगी सरकार को दी नसीहत, शर्मिंदा करने को उचित नहीं कहा जा सकता है! - सर्वोच्च न्यायालय
पत्रकार को अपनी ही जगह पर नहीं बनाने दिया जा रहा शौचालय
कानपुर में प्रधानमंत्री, फतेहपुर में महिला के साथ दुष्कर्म के बाद जिंदा जलाया!
रेप पीड़िता को आरोपी ने साथियों के साथ केरोसिन छिड़क जिंदा जलाया
आयोध्या पर सर्वोच्च फैसला: सत्यमेव जयते...!
उत्तर प्रदेश से तंग आ चुके हैं, जंगलराज है वहां - सर्वोच्च न्यायालय
विश्व की सबसे ऊंची और भव्य प्रतिमा होगी भगवान राम की
उ. प्र. का प्रतापगढ़ जिला अपराधियों का बना अड्डा...!
कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालय के कर्मचारियों का मानदेय न्याय संगत किया जाए - एसोसिएशन
योगी के उ.प्र. में पत्रकार की जमीन कब्जा करने वाले दंबगों की अंजाम भुगतने की धमकी
उ.प्र. में योगी राज में पत्रकार के घर पर गुंडों और दबंगों का कब्जा!
गांवों का विकास का पैसा ग्राम प्रधान और अधिकारी डकार रहे हैं!
‘उ.प्र. में स्वच्छ भारत की बुनियाद महज दो इंच पर टिकी’!
प्रतापगढ़ से चलने वाली पदमावत एक्सप्रेस रेल गाड़ी बूचड़खाना बनी!
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.