ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

अंडवार निकोबार द्वीप समूह

जनजातियों के नग्न नृत्य पर गृहमंत्रालय ने अंडमान से जवाब मांगा

१२ जनवरी २०१२

एक ब्रिटिश समाचार पत्र की वेबसाइट पर विलुप्तप्राय जनजाति जरावा की महिलाओं द्वारा पर्यटकों के सामने भोजन के लिए आपत्तिजनक अवस्था में किए जा रहे नृत्य से सम्बंधित वीडियो पर केंद्र सरकार ने बुधवार को अंडमान प्रशासन से जवाब मांगा। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने केंद्र शासित प्रदेश से वीडियो की सत्यता का पता लगाने को कहा है। सूत्रों के अनुसार, केंद्रीय गृह मंत्री पी. चिदम्बरम 21 जनवरी को प्रस्तावित अंडमान एवं निकोबार द्वीप समूह की यात्रा के दौरान इस मुद्दे को स्थानीय प्रशासन के समक्ष उठा सकते हैं। 




फोटो फाइल उपयोग के लिए है।
 
यह फोटो फाइल उपयोग के लिए है।

अंडमान पुलिस ने हालांकि कहा है कि यह वीडियो 10 साल पुराना जान पड़ता है। अंडमान के पुलिस प्रमुख एस. बी. देओल ने कहा कि जिसने भी यह वीडियो बनाया, उसने नियमों का उल्लंघन किया और उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। ब्रिटेन से प्रकाशित समाचार पत्र 'द गार्जियन' की वेबसाइट पर मौजूद फुटेज में एक पुलिस अधिकारी को जरावा जनजातीय महिलाओं से पर्यटकों के सामने नृत्य करने के लिए कहते हुए दिखाया गया है, क्योंकि उन्होंने उन्हें भोजन दिया था। अंडमान में जनजातियों के कथित शोषण को उजागर करने वालों की मुहिम में शामिल पत्रकार गेथिन चैम्बरलेन के मुताबिक, पुलिस कर्मी को जनजातीय महिलाओं से नृत्य करवाने के लिए 200 पाउंड की रिश्वत मिली थी। 

 



पुलिस प्रमुख ने हालांकि इन आरोपों से इंकार किया। वहीं, इस घटना को 'निंदनीय व घृणित' बताते हुए जनजातीय मामलों के केंद्रीय मंत्री वी. किशोर चंद्र देव ने एक टेलीविजन चैनल से कहा, "यदि ऐसा हुआ है तो यह घृणित है। यह.. क्षमा योग्य नहीं है। इसके लिए कड़ी सजा दी जानी चाहिए।" केंद्रीय कानून एवं अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री सलमान खुर्शीद ने कहा कि जनजातीय महिलाओं को नृत्य के लिए मजबूर करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जानी चाहिए।



जरा ठहरें...
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.