ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

मुख्य समाचार

व्यापारियों को एमएसएमई सेक्टर में शामिल किया जाय - कैट

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़ नेटवर्क

नई दिल्ली

21 मई 2020

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को आज भेजे गए एक पत्र में कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट ) ने देश में व्यापारिक समुदाय के वित्तीय  संकट से निपटने के लिए एक आर्थिक पैकेज देने हेतु उनके शीघ्र हस्तक्षेप का आग्रह किया है। कैट ने कहा की  "हमें गहरे अफसोस के साथ बताना होगा कि सबसे बड़े और सबसे प्रतिबद्ध वर्ग में कार्यरत 7 करोड़ व्यापारियों को आर्थिक पैकेज की व्यापक घोषणाओं में शामिल नहीं किया गया है।

प्रधानमंत्री मोदी को भेजे पत्र में कैट  के राष्ट्रीय अध्यक्ष बी.सी.भरतिया एवं राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीन  खंडेलवाल ने कहा कि देश भर के व्यापारियों का यह मानना है कि यह एक अनजानी चूक है और जानबूझकर की गई उपेक्षा नहीं है क्योंकि पूरे देश में व्यापारियों को पता है कि प्रधानमंत्री और केंद्र सरकार घरेलू व्यापार की महत्वत्ता को सदैव रेखांकित करते रहे हैं। प्रधानमंत्री द्वारा "लोकल पर वोकल" उसी अवधारणा को प्रतिबिंबित करता है।

कैट ने प्रधानमंत्री मोदी को स्मरण कराया की देश में आवश्यक वस्तुओं की निर्बाध आपूर्ति श्रृंखला सुनिश्चित करने में भारत के व्यापारियों ने जी जान से प्रयास किया है जिन्होंने अक्सर अपने स्वयं के जीवन को खतरे में डालते हुए लॉकडाउन अवधि के दौरान सभी जरूरी वस्तुओं की आपूर्ति को जारी रखा और प्रधान मंत्री ने स्वयं व्यापारियों की इस भूमिका को गत 15 दिन पहले अपने तीन ट्वीट द्वारा प्रशंसा भी की है। 

उन्होंने आगे कहा कि कैट और भारत के व्यापारी सरकार की हर प्रगतिशील नीति जिसमें जीएसटी कार्यान्वयन, डिजिटल भुगतान, प्लास्टिक और नोटबंदी पर प्रतिबंध आदि पर सदैव क्रियाशील रहे हैं। प्रधानमंत्री का ध्यान आकर्षित करते हुए कैट ने बताया की सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम के एक ऑफिस मेमोरेंडम "परिपत्र F.No. UAM / MC / 01/2017-SME) दिनांक 27 जून 2017 द्वारा एनआईसी कोड 46, 47 से व्यापारियों को एमएसएमई से बाहर कर दिया।

वित्त मंत्री द्वारा एमएसएमई की परिभाषा के तहत सेवा क्षेत्र को शामिल करना व्यापारियों को ऐसे पैकेज देने के लिए सरकार की मंशा को स्पष्ट रूप से दर्शाता है क्योंकि व्यापारियों को सेवा क्षेत्र का हिस्सा माना जाता है, लेकिन किसी भी स्पष्टीकरण के अभाव में इसका कोई लाभ व्यापारियों को नहीं मिलेगा।








जरा ठहरें...
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.