ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

मुख्य समाचार

केंद्र द्वारा दी जाने वाली प्याज लेने से केजरीवाल क्यों कर रहे इंकार!

आकाश श्रीवास्तव

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़

नई दिल्ली, ३० नवंबर २०१९

भारतीय जनता पार्टी दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी ने आज दिल्ली में बढ रही प्याज की कीमतों के लिए दिल्ली सरकार के खाद्य विभाग को जिम्मेदार ठहराते हुये कहा कि केजरीवाल सरकार का असली चेहरा दिल्ली की जनता के सामने आ चुका है एक तरफ तो वो केन्द्र सरकार द्वारा दी जा रही प्याज लेने से इन्कार करते है और दुसरी ओर कहते है हमें केन्द्र प्याज नहीं दे रही है। ऐसा करके वो जनता को गुमराह करने के अलावा कुछ नहीं करते है। दिल्ली की जनता को पहले प्रदूषण की मार, फिर दूषित पीने का पानी और अब सेब से दोगूने दाम पर बिक रही महंगी प्याज, आखिर मुख्यमंत्री बताये कि वो दिल्ली की जनता को ऐसा दर्द क्यों दे रहे है।


क्या इसलिए कि इसी जनता ने आपको प्यार व आशीर्वाद दिया जिसके दम पर आप दिल्ली की सत्ता में बैठे, आज वही जनता मुख्यमंत्री को ओर आस लगाये बैठी है राहत के लिए, लेकिन बदले में जनता को सिर्फ झूठ मिल रहा है। दिल्ली की जनता से 57 महीने झूठ बोलकर उन्हें धोखा देने वाली आम आदमी पार्टी की सरकार, प्याज की महंगाई के लिए अपनी नाकामियों का ठिकरा एक बार फिर केन्द्र सरकार पर फोड़ रही है। केन्द्र की मोदी सरकार ने तो दिल्ली को अब तक सस्ती दरों पर प्याज मुहैया कराया है। केन्द्र सरकार ने प्राइज स्टेबिलाइजेशन फंड का इस्तेमाल करके भंडारण किया है जिसे वह केन्द्रीय भण्डार, नैफेड, एन.सी.सी.एफ और मदर डेयरी के बूथों के माध्यम से 23.90 पैसे प्रति किलों प्याज आज भी बेच रही है। तिवारी ने कहा कि 2०18-19 में देश में प्याज का उत्पादन 234.85 लाख टन था जबकि इससे एक साल पहले 2०17-18 में 232.62 लाख टन। इस प्रकार पिछले साल से उत्पादन ज्यादा होने के बावजूद प्याज की कीमत आसमान पर होने का कारण केजरीवाल सरकार की लापरवाही के अलावा कुछ नहीं है। दिल्ली में ही प्याज की रोजाना की खपत इस समय करीब 2000 टन है, जिसकी पूर्ति करने में दिल्ली सरकार फेल हुई है।

प्याज की महंगाई का सबसे बड़ा कारण जमाखोरी है और दूसरा बड़ा कारण है केन्द्र सरकार द्वारा भेजी जा रही प्याज को लेने से इन्कार कर केजरीवाल सरकार द्वारा औछी राजनीति करना। दिल्ली में प्याज सेब से दोगुने दाम में बिक रहा है। सेब जहां 4० से 6० रुपये किलो मिल रहा है वहीं प्याज की कीमत 8० से 1०० रुपये हो गयी है। प्याज ने एक बार फिर दिल्ली की जनता के किचन का बजट बिगाड़ दिया है। 100 रूपये के दाम में प्याज आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग व मध्यम वर्ग के लोगों की पहुंच से दूर जा रही है।





जरा ठहरें...
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.