ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

मुख्य समाचार

देश में पहली भारत गौरव ट्रेन 21 जून से चलेगी

आकाश श्रीवास्तव

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़ नेटवर्क

नई दिल्ली, 11 मई 2022

आईआरसीटीसी यानि भारतीय रेलवे खानपानऔर पर्यटन निगम ने बुधवार को कहा कि वह अपनी पहली भारत गौरव पर्यटक ट्रेन 21 जून को चलाएगा। भारत गौरव पर्यटक ट्रेन की एक यात्रा 18दिन की होगी। इसमें यात्रा करने वाले तीर्थयात्री नेपाल के जनकपुर भी जा सकेंगे। इसका पहला ठहराव भगवान राम के जन्मस्थल अयोध्यामें होगा। अयोध्या में पर्यटक श्री राम जन्मभूमि मंदिर और हनुमान मंदिर के दर्शनकरेंगे। भगवान राम के छोटे भाई भरत के नंदीग्राम स्थित मंदिर भी जाएंगे। अयोध्याके बाद ट्रेन बिहार के बक्सर में रुकेगी। इसके बाद ट्रेन सीता जी की जन्मस्थली केदर्शन के लिए सीतामढ़ी तक जाएगी और यात्री सड़क मार्ग से नेपाल के जनकपुर जाएंगे।यात्री जनकपुर के होटलों में रात्रि विश्राम करेंगे और वहां प्रसिद्ध राम-जानकीमंदिर में दर्शन करेंगे।

सीतामढ़ी के बाद ट्रेन वाराणसी जाएगी। इसके अलावा ट्रेन नासिक, किष्किंधा (हंपी) औररामेश्वरम आदि स्थानों पर भी जाएगी। यह ट्रेन स्वदेश दर्शन योजना के तहत चिह्नितरामायण परिपथ पर चलेगी। इसके मार्ग में भगवान राम के जीवन से जुड़े माने जाने वालेप्रमुख स्थान शामिल होंगे। इनमें नेपाल के जनकपुर में स्थित राम जानकी मंदिर भीशामिल है। हम बता दें कि आईआरसीटीसी ने इस 18 दिनों की यात्रा के लिए 62,370 प्रति व्यक्ति का शुल्कनिर्धारित किया है। भुगतान के लिए कुल राशि को 3, 6, 9, 12, 18 व 24 महीनों की किश्तों मे पूरा कियाजा सकेगा। इस टूर पैकेज की कीमत में यात्रियों को रेल यात्रा के अतिरिक्तस्वादिष्ट शाकाहारी भोजन, बसोंद्वारा पर्यटक स्थलों का भ्रमण, एसी होटलों में ठहरने की व्यवस्था, गाइड और इंश्योरेंस कि सुविधाएंभी उपलब्ध कराई जाएंगी। सरकार/पीएसयू के कर्मचारी इस यात्रा पर वित्त मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा जारीदिशा-निर्देशों के आधार पर पात्रता के अनुसार एलटीसी सुविधा का लाभ भी उठा सकतेहैं। उल्लेखनीयहै कि भारत गौरव पर्यटक ट्रेन को निजी कंपनियों की मदद से चलाया जाएगा। इसकेसंचालन का जिम्मा भारतीय रेलवे खानपान एवं पर्यटन निगम (आइआरसीटीसी) का होगा। भारतगौरव पर्यटक ट्रेन के लिए 10 से 15 साल पुरानी बोगियों का इस्तेमाल किया जाएगा।

लिंक हाफमैन बुश(एलएचबी) बोगियां आने के बाद रेलवे इन पुरानी आइसीएफ बोगियों को हटा रहा है।पुरानी आइसीएफ बोगियों की उम्र 25 साल होती है। ऐसे में 10 से 12 साल पुरानी बोगियों का उपयोग अब भी किया जा सकता है। भारत गौरवपर्यटक ट्रेन के लिए लखनऊ वर्कशाप में एक रैक को तैयार किया जा रहा है। उसकीविनायल रैपिंग हो रही है। जिसमें सांस्कृतिक नगरी वाराणसी और अयोध्या सहित कईमहत्वपूर्ण धार्मिक स्थलों के चित्र होंगे। वहीं बोगियों के भीतर मधुबनी आर्ट कीपेंटिंग होगी। शौचालय के एक हिस्से में बाथरूम भी बनेगा। जिसमें सफर के दौरानयात्रियों के स्नान की भी सुविधा होगी।सेंट्रलटेबल वाले भोजन कक्ष के अलावा मनोरंजन की भी सुविधा होगी। पहली भारत गौरव ट्रेन कोआइआरसीटीसी रामायण परिपथ ट्रेन की तरह चलाएगा।








जरा ठहरें...
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Third Eye World News: वीडियो
22 मार्च 2022 से...
Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
चीन मुद्दे पर क्या सरकार ने जितने जरूरी कठोर कदम उठाने थे, उठाए कि नहीं?
हां
नहीं
पता नहीं
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.