ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

मध्यप्रदेश

म.प्र. की अदालतों में महिला जजों की संख्या में भारी कमी

मनीष श्रीवास

म.प्र.

म.प्र. की अदालतें जजों की भारी कमी से जूझ रही हैं। जिसकी वजह से न्यायालय के कार्यों पर भारी असर पड़ रहा है। वहीं दूसरी तरफ सर्वोच्च अदालत में पहली बार महिलाओं का प्रतिनिधित्व प्रतिशत दहाई के आंकड़े के पास पहुंच रहा है, लेकिन देशभर की अदालतों में महिला जजों का प्रतिनिधित्व अब भी महज 27% ही है। अधीनस्थ अदालतों में महिला जजों की संख्या के लिहाज से मध्यप्रदेश बहुत निचले पायदान पर खड़ा है।


फोटो प्रतीक के तौर पर।

निचली अदालतों में यहां हर 4 जज में से सिर्फ एक महिला जज है। हालांकि पिछले दो-तीन साल में निचली अदालतों के लिए हुई प्रवेश परीक्षा में 40 प्रतिशत महिलाओं के चुनकर आने के चलते यह हालात भविष्य में सुधरने के आसार बन गए हैं।

न्यायपालिका में इस लैंगिक असंतुलन का खुलासा विधि सेंटर फॉर मेडिकल पॉलिसी दिल्ली द्वारा कराई गई स्टडी से सामने आया है। स्टडी के मुताबिक, फिलहाल देशभर के 24 हाई कोर्ट के 696 जजों में से महज 70 महिलाएं ही जज के पद पर हैं। अधीनस्थ अदालतों में हालात और खराब हैं। देशभर के 651 जिलों के उपलब्ध डाटा के अनुसार 16 हजार 600 जजों में से महिला जजों की संख्या लगभग 4 हजार 500 ही है।




जरा ठहरें...
एचपी ओर प्रोसेसर प्राइवेट लिमिटेंड ने सुरक्षा गार्ड के साथ अन्य कर्मचारियों का वेतन 6 माह से रोका
तालाब के निर्माण के पहले ही बंद हुआ निर्माण कार्य, मजदूरों की राशि रुकी
महिला सुरक्षा व नशा मुक्ति कार्यक्रम का आयोजन
मुख्य नगरपालिका अधिकारी जयश्री चौहान ने लिया चार्ज, किया वृक्षा रोपण
कांग्रेस का आरोप, मध्यप्रदेश सरकार को अस्थिर कर रही है भाजपा
किसानों की धान पड़ा खुले आसमान के नीचे भटक रहे सैकड़ो किसान
भारतीय स्टेंड बैंक शाखा सिहोरा की विद्युत लाईन काटी, लोगों की बढ़ी परेशानी
किसान, युवाओं और महिलाओं की चुनौतियां अब हमारी होंगी- कमलनाथ
राजनीतिक दबंगो और नौकरशाहों के गिरोह ने डाक्टर लेखी के 30 लाख डकारे?
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.