ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

जम्मू-कश्मीर और लद्दाख

जम्मू-कश्मीर: आज से इतिहास और भूगोल दोनों बदल गए

आकाश श्रीवास्तव

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़

३१ अक्टूबर २०१९

जम्मू-कश्मीर का इतिहास और भूगोल दोनों बदल गए। अब जम्मू-कश्मीर और लद्दाख दो केंद्रशासित प्रदेश हो गए हैं। जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन विधेयक, 2019 के मुताबिक जम्मू-कश्मीर और लद्दाख दो केंद्रशासित प्रदेश में बंट गए। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने बुधवार देर रात इसकी अधिसूचना जारी की। दोनों केंद्रशासित प्रदेश देश के पहले गृहमंत्री और 560 से ज्यादा रियासतों का विलय करने वाले सरदार वल्लभभाई पटेल की जयंती के मौके पर वजूद में आए हैं। अब कुल राज्य 28 रह जाएंगे, जबकि कुल केंद्रशासित प्रदेशों की संख्या नौ हो गई है। यह पहली बार है जब किसी राज्य को दो केंद्रशासित प्रदेशों में बांटा गया है।


इसके साथ ही जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले 150 से ज्यादा पुराने कानून खत्म हो गए, जबकि आधार समेत 100 से ज्यादा नए कानून लागू हो गए हैं। लागू कानूनों में आधार, मुस्लिम विवाह विच्छेद, सूचना का अधिकार, शिक्षा का अधिकार, मनरेगा, भ्रष्टाचार निवारक, मुस्लिम महिला संरक्षण और शत्रु संपत्ति शामिल हैं। केंद्र शासित प्रदेश बनते ही जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में संसद की ओर से पारित 106 केंद्रीय कानून तत्काल प्रभाव से लागू हो गए हैं। इसमें शिक्षा का अधिकार जैसे महत्वपूर्ण कानून शामिल हैं। इसके अलावा केंद्रशासित प्रदेश बनने पर जम्मू-कश्मीर के 164 प्रदेश स्तर पर बनाए गए कानून खत्म हो गए हैं, जबकि राज्य विधानसभा से पारित 166 कानूनों को यथावत रखा गया है।

राज्य पुनर्गठन की सबसे बड़ी दलील अमन बहाली दी गई है। केंद्र ने आतंकवाद, अलगाववाद और भ्रष्टाचार के खात्मे के लिए पुनर्गठन को कारगर फार्मूला करार दिया है। अब देखना होगा कि अशांत रहने वाली घाटी और उसका प्रतीक केंद्र डलझील को स्थायी रूप से सुकून नसीब हो पाता है या नहीं। जम्मू-कश्मीर में अल्पसंख्यक आयोग न होने के चलते बहुसंख्यक आबादी को अल्पसंख्यकों के लिए बनी योजनाओं का लाभ मिलता रहा है। यूटी बनते ही अल्पसंख्यक समुदाय की प्रदेश आधारित परिभाषा लागू होगी, जिसमें मुस्लिम बहुल प्रदेश जम्मू-कश्मीर के अन्य समुदायों को अल्पसंख्यकों की सुविधाएं मिलेंगी।


अब दोनों केंद्रशासित प्रदेशों में रणबीर कानून की जगह भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) और क्रिमिनल प्रोसीजर कोड (सीआरपीसी) की धाराएं लागू होंगी। नए जम्मू-कश्मीर में पुलिस व कानून-व्यवस्था केंद्र सरकार के अधीन होगी, जबकि भूमि व्यवस्था की देखरेख का जिम्मा निर्वाचित सरकार के तहत होगी। जम्मू-कश्मीर में सरकारी कामकाज की भाषा अब ऊर्दू नहीं हिंदी हो जाएगी। नए जम्मू-कश्मीर विधानसभा में 107 सदस्य हैं, जिनकी परिसीमन के बाद संख्या बढ़कर 114 तक हो जाएगी। वहीं, विधायिका में पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) के लिए पहले की तरह ही 24 सीट रिक्त रखी जाएंगी।


केंद्र सरकार ने यह भी साफ कर दिया है कि जम्मू-कश्मीर और लद्दाख क्षेत्र में मौजूदा साढ़े तीन लाख सरकारी कर्मचारी आने वाले कुछ माह तक मौजूदा व्यवस्था के तहत ही काम करते रहेंगे। गौरतलब है कि नरेंद्र मोदी सरकार ने पांच अगस्त को 72 साल पुराना इतिहास बदलकर अनुच्छेद 370 और 35ए के तहत जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले प्रावधानों को खत्म करने का एलान किया था। इसके मुताबिक, जम्मू-कश्मीर में पुडुडुचेरी जैसी विधायिका होगी, जबकि लद्दाख बिना विधायिका के चंडीगढ़ जैसा होगा।


जरा ठहरें...
पुलवामा मुठभेड़ में लश्कर के 2 आतंकी ढेर, 1 जवान घायल
उधमपुर-श्रीनगर-बारामुला रेल लिंक समय से पूरा हो – मनोज सिन्हा
सिविल सेवा का टॉपर राजनीति छोड़ फिर प्रशासनिक सेवा में लौटने की तैयारी में…!
पूर्व केंद्रीय मंत्री मनोज सिन्हा बने जम्मू कश्मीर के नए उपराज्यपाल
लद्दाख में चीन ने पीछे किए अपने कदम...!
लेह में प्रधानमंत्री ने भरी हुंकार, लेह भारत का मस्तक...!
जाना था रक्षामंत्री को, लेकिन अचानक लद्दाख के अग्रिम मोर्चे पर पहुंचे प्रधानमंत्री
चीन को जवाब देने के लिए वायुसेना ने शुरू की आपात हवाई पट्टी का निर्माण
जम्मू कश्मीर में प्रीपेड मोबाइल सेवाएं शुरू
कुलगाम में बड़ा आतंकी हमला, पांच मजदूरों की आतंकियों ने निर्मम हत्या की!
कश्मीर घाटी में सोमवार से सभी पोस्टपेड मोबाइल फोन चालू
जम्मू कश्मीर में पर्यटकों पर लगी रोक हटी, सरकार ने जारी की एडवाइजरी!
जम्मू कश्मीर में बंद पड़े ५० हजार मंदिरों को खोलने की तैयारी में सरकार!
अभूतपूर्व मोदी सरकार: जम्मू कश्मीर पुनर्गठन विधेयक राज्यसभा से पास!
आज के इस ऐतिहासिक फैसले को हमने साल भर पहले ही ब्रेक कर दी थी..!
जम्मू कश्मीर को तीन हिस्सों में बांटने की सरकार की तैयारी...?
कठुआ सामूहित नाबालिक दुष्कर्म कांड में आरोपियों को मिली आजीवन कारावास की सजा
जम्मू कश्मीर से धारा ३७० और ३५ ए हटाई जाए - भाजपा
जम्मू कश्मीर से ३५ ए हटना मुमकिन नहीं...?
पुलवामा के मास्टर माइंड को सेना ने मार गिराया
मोदी सरकार सज्जाद लोन की सरकार चाहती थी जो मुझे मंजूर नहीं था - राज्यपाल
जम्मू कश्मीर विधानसभा भंग की गयी
आतंक प्रभावित दक्षिण कश्मीर के चार जिलों में भाजपा का क्लीन स्वीप
जम्मू कश्मीर को तीन हिस्सों में बांटने की तैयारी में मोदी सरकार!
जवानों को सियाचीन बेस पर पहुंचने के लिए बीआरओ ने बनाया पुल
कश्मीर में एनएसजी कमांडो तैनात!
एशिया की सबसे बड़ी सुरंग का प्रधानमंत्री ने किया शिलान्यास
निर्मल को हटाकर कवींद्र को बनाया उपमुख्यमंत्री
यासीन मलिक पुलिस हिरासत में लिए गए!
कठुवा दुष्कर्म मामले की सुनवाई पर सर्वोच्च न्यायालय ने रोक लगाई
सीआरपीएफ जवानों पर हमले से पूर्व आतंकियों ने वीडियो जारी किया
राज्य में हिंसा में कमी आई- महबूबा
भाजपा अपना हित साधने के लिए सहारा ले रही है
मेरा यह दौरा जवानों को समर्पित है - राष्ट्रपति
लश्कर तोइबा के शीर्ष कमांडर दुजाना को सुरक्षा बलों ने मार गिराया
पत्थरबाजों का उस्ताद और अलगाववादी कश्मीरी शब्बीर शाह गिरफ्तार
कश्मीर में हिंसा और तनाव जारी हैं
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
चीन मुद्दे पर क्या सरकार ने जितने जरूरी कठोर कदम उठाने थे, उठाए कि नहीं?
हां
नहीं
पता नहीं
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.