ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

मुख्य समाचार

रक्षा मंत्रालय को मिली दो नई इमारतें, प्रधानमंत्री ने किया उद्घाटन, तय समय से 20 महीने पहले बनी इमारतें
सेट्रल विस्टा की भाग हैं ये दोनों इमारतें, 7 हजार अधिकारी और कर्मचारी करेंगे एक साथ काम

आकाश श्रीवास्तव

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़ नेटवर्क

नई दिल्ली, 16 सितंबर 2021

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गुरुवार को दिल्ली में नए रक्षा मंत्रालय कार्यालय परिसर का उद्घाटन किया। केंद्र सरकार के ड्रीम प्रोजेक्ट सेंट्रल विस्टा के तहत रक्षा मंत्रालय की ये इमारतें तैयार हो गई हैं। नए रक्षा कार्यालय परिसर काफी एडवांस हैं। इन इमारतों की एक खासयित यह भी है कि इनके निर्माण में नई और टिकाऊ निर्माण तकनीक, एलजीएसएफ (लाइट गेज स्टील फ्रेम) का इस्तेमाल हुआ है। इस तकनीक की वजह से पारंपरिक आरसीसी निर्माण की तुलना में निर्माण समय 24-30 महीने कम हो गया।

दरअसल, अबतक रक्षा मंत्रालय का मुख्य दफ्तर साउथ ब्लॉक के पास था, जबकि बाकी दफ्तर इधर-उधर थे। इनको अब इन दो इमारतों में समाहित कर दिया जाएगा। दोनों ही ईमारत अब बनकर तैयार हैं। अगले कुछ महीनों में कर्मचारी इनमें शिफ्ट हो जाएंगे।
ये दोनों इमारतें सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट का हिस्सा हैं। पहला कार्यालय कस्तूरबा गांधी मार्ग (सेंट्रल दिल्ली) और दूसरा अफ्रीका एवेन्यू (चाणक्यपुरी) में स्थित है। रक्षा मंत्रालय के इन दो कार्यालयों को तैयार करने में 775 करोड़ रुपये खर्च हुए हैं। जानकारी के मुताबिक इन दो दफ्तरों में कुल 7 हजार अधिकारी-कर्मचारी काम कर सकेंगे। जो कि 27 अलग-अलग संगठनों के होंगे। नए रक्षा कार्यालय परिसरों में सेना, नौसेना और वायु सेना सहित रक्षा मंत्रालय और सशस्त्र बलों के कर्मचारी बैठेंगे। रक्षा मंत्रालय का कार्यालय जिसमें करीब 7,000 कर्मचारी हैं और कई अन्य संगठन अफ्रीका एवेन्यू और कस्तूरबा गांधी मार्ग पर दो नए परिसरों में स्थानांतरित होने के लिए तैयार हैं। 
साउथ ब्लॉक के पास डलहौजी रोड पर मौजूदा रक्षा मंत्रालय को स्थानांतरित करने के बाद यह कदम उठाया गया था क्योंकि सेंट्रल विस्टा पुनर्विकास परियोजना के हिस्से के रूप में प्रधानमंत्री के नए निवास और कार्यालय के लिए जगह की आवश्यकता थी। रक्षा मंत्रालय के स्थानांतरण से 50 एकड़ जमीन खाली होने की उम्मीद है। योजना में नॉर्थ ब्लॉक के पीछे उपराष्ट्रपति के नए आवास का स्थानांतरण और शास्त्री भवन, निर्माण भवन, उद्योग भवन, कृषि भवन और वायु भवन सहित सरकारी कार्यालयों को समायोजित करने के लिए 10 नए बिल्डिंग ब्लॉक भी शामिल हैं।
उद्घाटन समारोह में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, आवास और शहरी मामलों के मंत्री हरदीप सिंह पुरी, रक्षा राज्य मंत्री अजय भट्ट, आवास और शहरी मामलों के राज्य मंत्री कौशल किशोर, चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत, चीफ ऑफ द चीफ ऑफ द डिफेंस शामिल थे। थल सेनाध्यक्ष जनरल मनोज मुकुंद नरवणे, नौसेना प्रमुख – एडमिरल करमबीर सिंह, वायु सेना प्रमुख – एयर चीफ मार्शल राकेश कुमार सिंह भदौरिया भी मौजूद थे।। प्रधान मंत्री ने अफ्रीका एवेन्यू में रक्षा कार्यालय परिसर का दौरा किया और सेना, नौसेना, वायु सेना और नागरिक अधिकारियों के साथ बातचीत भी किया। इसके बाद प्रधानमंत्री ने एक सभा को संबोधित किया। 
व्यापक सुरक्षा प्रबंधन उपायों के परिसरों के साथ नए रक्षा कार्यालय को अत्याधुनिक और ऊर्जा कुशल कहा जा रहा है। नए भवन कैंटीन और बैंक जैसी आधुनिक सुविधाएं, कनेक्टिविटी और कल्याण सुविधाएं भी प्रदान की गयी है। अफ्रीका एवेन्यू पर रक्षा मंत्रालय के कार्यालय परिसर एक सात मंजिला स्थान है जिसमें केवल रक्षा मंत्रालय के कार्यालय होंगे, जबकि कस्तूरबा गांधी मार्ग पर आठ मंजिला इमारत का उपयोग वर्तमान में परिवहन भवन में स्थित कार्यालयों को अस्थायी रूप से समायोजित करने के लिए किया जाएगा। उन मंत्रालयों के इमारत बनने के बाद शिफ्ट हो जाएंगे अपनी इमारतों में।




रक्षा मंत्रालय की है ये नई इमारत।





जरा ठहरें...
कश्मीर से आतंकियों की सफाए के लिए सरकार की रणनीति, कश्मीर से आगरा लाए गए आतंकी
भारत ने कोरोना टीकाकरण का एक अरब का लक्ष्य हासिल किया
आतंकियों ने फिर तीन गैर कश्मीरियों को गोली मारी
प्रधानमंत्री मोदी ने कश्मीर में हिंदू-सिखों की हत्या पर चुप्पी ओढ़ने वालों को खरी खरी सुनाई
"कश्मीर में अल्पसंख्यकों की हत्याओं को लेकर केंद्र गंभीर"
लद्दाख में चीनी वायुसेना तीन एअरबेस पर मौजूद – मुकाबले के लिए हम तैयार – वायुसेना प्रमुख
जम्मू – कश्मीर में सुरंग नहीं देश की मजबूत रीढ़ तैयार कर रही है सरकार
ध्वनि की गति से 24 गुना तेज चलने वाली अग्नि-5 मिसाइल का परीक्षण जल्द
अमेरिका, जापान और आस्ट्रेलिया से रणनीतिक साझेदारी मजबूत करेंगे - प्रधानमंत्री
अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष नरेंद्र गिरि की मौत एक पहेली बनी
देश में कोरोना के 28 हजार से ज्यादा मामले दर्ज
राष्ट्रीय राजमार्ग पर उतरे वायुसेना के जंगी जहाज
नहीं आसान है तालिबान का राह, गृहयुद्ध की चुनौती
जनसंख्या नियंत्रण बिल की तरफ धीरे धीरे कदम बढ़ा रही है केंद्र सरकार?
इटावा ब्लॉक प्रमुख चुनाव में भाजपा नेता ने एसपी सिटी को मारा थप्पड़
भारत फ्रांस राफेल डील : फ्रांस ने जांच के लिए एक न्यायायिक समिति बैठायी
मुख्यमंत्री योगी ने भी नहीं सुनी एक पत्रकार की फरियाद, दबंगों का हो गया कब्जा
उ.प्र. में योगी राज में पत्रकार के घर पर गुंडों और दबंगों का कब्जा!
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
चीन मुद्दे पर क्या सरकार ने जितने जरूरी कठोर कदम उठाने थे, उठाए कि नहीं?
हां
नहीं
पता नहीं
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.