ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

मुख्य समाचार

“अब रेलवे में सब कुछ गुपचुप तरीके से अंजाम दिया जाता है”
रेलवे स्टेशनों का चमकता विकास, अब लोगों की जेब पर पड़ेगा भारी

आकाश श्रीवास्तव

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़ नेटवर्क

नई दिल्ली, 15 जनवरी 2022

रेलवे अब बड़े गुपचुप तरीके से अपने काम को अंजाम देने में लगा हुआ है। एक वक्त था जब रेलवे भाड़े में यदि 10 रूपए की भी बढोत्तरी होती थी तो बकायदा प्रेस रिलीज देकर मीडिया के जरिए आम आदमी को बताया जाता था लेकिन वर्तमान में रेलवे की कार्रवाई कब आम आदमी की जेब पर भारी पड़ जाएगा किसी को पता तक नहीं चलता। पता तब चलता है जब अचानक 300 रूपए की टिकट 350 में मिलता है तब आम आदमी का दिमाग ठनकता है। सामान्य आदमी को आम आदमी कहते हैं। आदमी से पहले आम लगा है। जैसे आम को चूसकर अंत में उसकी गुठली को फेंक दिया जाता है। वही हाल वर्तमान में आम आदमी का है। रेलवे आए दिन कुछ न कुछ ऐसे चार्जेज आम आदमी की सफर पर लाद देता है जिसका अब किसी को पता ही नहीं होता है।
सांकेतिक तस्वीर।
स्टेशन पुनर्विकास योजना के तहत ए वन, ए और बी श्रेणी के स्टेशनों को शामिल किया गया है। जब स्टेशन विकसित हो जाएगे तब स्टेशन डेवलपमेंट फीस ली जाएगी। अनारक्षित जनरल श्रेणी, एसी लोकल ट्रेने, फस्ट क्लास में सफर करने वाले यात्रियों से दस रुपये लिया जाएगा। जबकि आरक्षित स्लीपर, फस्ट क्लास (मेल एक्सप्रेस ट्रेनों) के यात्रियों को 25 रुपये देने होंगे, वहीं आरक्षित एसी श्रेणी में चेयरकार, एसी 2,3,एसी 1 के यात्रियों को 50 रुपये देने होंगे। अब जो यात्री विकसित स्टेशनों से ट्रेन पर सवार होगे और उतरेंगे उनको स्टेशन डेवलपमेंट फीस 1.5 गुना देनी होगी। जबकि सिर्फ स्टेशन पर उतरने वाले यात्रियों से उसका 50 फीसद लिया जाएगा। हम बता दें कि यह बड़ा किराया जिसे चार्ज कहा जा रहा है रेल यात्री को टिकट बुक कराते समय देना होगा। उदाहरण के लिए यदि कोई यात्री रायपुर से दिल्ली जाता है तो उसे दोनों स्टेशन की डेवलपमेंट फीस देनी पड़ेगी। 

रेलवे बोर्ड यात्रियों से सुविधा मुहैया कराने के नाम पर हवाई अड्डों की तर्ज पर यूजर फीस लेगी। है न यह रेलवे की गुपचुप नीति जिसमें उस कहावत को रेलवे बोर्ड के अधिकारी चरितार्थ करने में जुटे हुए हैं जिसमें सांप भी मर जाए और लाठी न भी टूटे। इस समय देश में कोरोना की तीसरी लहर की मार के बीच रेलवे स्टेशन पुनर्विकास योजना के तहत विकसित किए जाने वाले स्टेशनों के यात्रियों को सुविधा के नाम पर अब अधिक किराया वसूलकर लोगों की वित्तीय व्यवस्था को कंगाल करने पर जुटा हुआ है। मजे की बात है यह है कि यह खबर प्रमुखता से न किसी न्यूज़ चैनल पर दिखी और न ही किसी मुख्य समाचार पत्रों में ऐसी खबरें छपी मिली। हम बता दें कि रेलवे बोर्ड ने रेलगाड़ियों की विभिन्न श्रेणियों के यात्रियों से दस रुपये से लेकर 50 रुपये तक रेलवे स्टेशन डेवलपमेंट फीस वसूलने का एक तरह से आम आदमी के साथ षडयंत्र रच दिया। यह फीस टिकट बुक कराते समय रेल यात्रियों से वसूली जाएगी, हालांकि लोकल गाड़ियों और मौसमी टिकट यात्रियों को इससे छूट रहेगी। इस संबंध में रेलवे बोर्ड ने सभी जोनल रेलवे को 31 दिसंबर 2020 को निर्देश जारी किया था।



सांकेतिक तस्वीर।





जरा ठहरें...
विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कहा कोविड-19 से जुड़ी आपात स्थिति इस साल खत्म हो सकती है
जम्मू-कश्मीर की जोजिला परियोजना में 5 किमी लंबी सुरंग का महत्वपूर्ण कार्य पूरा
DRDO ने टैंक रोधी मिसाइल का सफल परीक्षण किया
एक अप्रैल से नहीं चलेगी रामायण सर्किट और अन्य गाड़ियां? रेलवे बोर्ड ने आस्था पर चलाया हथौड़ा!
पांच राज्यों की चुनावों की घोषणा, उ.प्र. में सात चरण में होगा मतदान
संसद का नया भवन नवंबर 2022 तक पूरा हो जाएगा
बड़ी खबर: कोविसील्ड वैक्सीन का असर तीन महीने में घटा
नई दिल्ली रेलवे स्टेशन को विश्वस्तरीय पांच सितारा होटल जैसे बनाने का काम जल्द शुरू होगा
पिछली सरकारें पूर्वी उ.प्र. को गरीबी और माफियाराज में बदल दिया था - प्रधानमंत्री
कोरोना की वजह से जितनी रेलगाडियां बंद थी उन सभी को बहाल किया गया
ध्वनि की गति से 24 गुना तेज चलने वाली अग्नि-5 मिसाइल का परीक्षण जल्द
जनसंख्या नियंत्रण बिल की तरफ धीरे धीरे कदम बढ़ा रही है केंद्र सरकार?
मुख्यमंत्री योगी ने भी नहीं सुनी एक पत्रकार की फरियाद, दबंगों का हो गया कब्जा
उ.प्र. में योगी राज में पत्रकार के घर पर गुंडों और दबंगों का कब्जा!
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
चीन मुद्दे पर क्या सरकार ने जितने जरूरी कठोर कदम उठाने थे, उठाए कि नहीं?
हां
नहीं
पता नहीं
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.