ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

पर्यटन-संस्कृति

सम्राट हेमचंद्र विक्रमादित्य के सम्मान विहिप द्वारा कार्यक्रम का आयोजन

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़

नई दिल्ली

६ अक्टूबर २०१७

विश्व हिन्दू परिषद और इतिहास संकलन समिति के द्वारा 7 अक्टूबर 2017 को सम्राट हेमचन्द्र विक्रमादित्य की स्मृति में कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है। गांधी स्मृति एवं दर्शन समिति में होने वाले इस समारोह में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह सर कार्यवाह डा. कृष्ण गोपाल जी बतौर मुख्य वक्ता उपस्थित रहेंगे।


साथ ही विश्व हिन्दू परिषद के संयुक्त सह संगठन मंत्री विनायक राव देशपाण्डे जी और अखिल भारतीय इतिहास संकलन योजना के संगठन मंत्री डा. बालमुकुन्द जी भी बतौर वक्ता रहेंगे। इस मौके पर कवि गजेन्द्र सोलंकी जी भी वीर रस की कविता  प्रस्तुत करेंगे।

एक प्रेस वार्ता में विश्वहिंदू परिषद ने कहा कि देश का इतिहास बहुत ही गौरवशाली रहा है। इसे स्वर्णिम बनाने में अनेकों शूरवीरों ने अपने प्राणों की आहूति दी। लेकिन दुर्गाग्यवश या कहें तो स्वार्थवश लोगों ने अधिकतर योद्धाओं को इतिहास के पन्नों में भुला दिया गया। इनकी वीर गाथाओं को कोई नही जान सका।


ऐसे ही वीर भारत माता के सपूतों में से एक थे दिल्ली के अंतिम हिन्दू सम्राट महाराजा हेमचन्द्र विक्रमादित्य। इतिहासकारों के अनुसार सम्राट हेमचन्द्र विक्रमादित्य ने हिन्दुओं के अतिरिक्त अफगानों और तुर्की की विशाल सेना का संचालन भी किया था। उन्होंने अपने कार्यकाल में मुगल शासकों को पनपने नहीं दिया और हिन्दुओं के वर्चस्व को आगे बढ़ाया।


इतिहास के पन्नों में विस्मृत हिन्दू सम्राट हेमचन्द्र विक्रमादित्य के वीर गाथा को लोगों के समक्ष प्रस्तुत करने का कार्य सम्राट हेमचन्द्र विक्रमादित्य राज्याभिषेक समारोह समिति के द्वारा राजघाट, गांधी स्मृति एवं दर्शन समिति में किया जा रहा है। पहले यह कार्यक्रम पुराने किला में निश्चित हुआ था परन्तु किन्हीं कारणों से स्थान स्थानान्तरित करके राजघाट गांधी स्मृति एवं दर्शन समिति में किया जाएगा।



जरा ठहरें...
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.