ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

अपराध जगत

यदि पत्नी की उम्र १८ साल से कम है तो यौन संबंध बनाने पर सजा!

नई दिल्ली

१२ अक्टूबर २०१७

सर्वोच्च न्यायालय ने बुधवार को कहा कि 18 साल से कम उम्र की पत्नी के साथ यौन संबंध बनाने को दुष्कर्म माना जाएगा। अदालत ने साथ ही कहा कि अगर पत्नी एक साल के भीतर इसकी शिकायत दर्ज कराती है तो पति को सजा हो सकती है। इस फैसले के साथ न्यायालय ने भारतीय दंड संहिता के धारा 375 को रद्द कर दिया, जिसके तहत 15 से 18 साल की उम्र की पत्नी के साथ यौन संबंध बनाने को दुष्कर्म नहीं माना जाता था। इसके साथ ही अब 18 साल से कम उम्र की लड़की के साथ यौन संबंध बनाना दुष्कर्म माना जाएगा, चाहे लड़की की शादी हुई हो या नहीं हुई हो।


प्रतीकात्मक तस्वीर।

अगर महिला यौन संबंध बनाने के एक साल के अंदर अदालत में मामला दायर करती है तो उससे दुष्कर्म माना जाएगा। न्यायमूर्ति मदन बी. लोकुर और न्यायमूर्ति दीपक गुप्ता की पीठ ने अपने अलग, लेकिन एकमत से दिए गए फैसले में इस अपवाद के बारे में कहा, "दुष्कर्म कानून में अपवाद भेदभावपूर्ण, मनमाना और एकपक्षीय है। यह लड़की की शारीरिक पवित्रता का उल्लंघन करती है।" न्यायमूर्ति लोकुर ने कहा कि इस अपवाद का कोई तर्कसंगत आधार नहीं है। धारा 375 जो दुष्कर्म को परिभाषित करती है इसके अपवाद 2 में कहा गया है, "पुरुष द्वारा उसकी पत्नी के साथ बनाए गए यौन संबंध अगर उसकी पत्नी 15 से कम उम्र की नहीं हो, तो उसे दुष्कर्म नहीं माना जाएगा।"

यह ऐतिहासिक फैसला ऐसे समय में आया है, जब शीर्ष न्यायालय में पहले ही वैवाहिक दुष्कर्म को अपराध घोषित करने की मांग संबंधी याचिकाओं पर सुनवाई हो रही है और सहमति की उम्र पर बहस छिड़ी है। अदालत ने हालांकि, साफ कहा कि वह इस फैसले में वैवाहिक दुष्कर्म के मुद्दे पर कुछ नहीं कह रही है, हालांकि इस फैसले का उस पर भी प्रभाव पड़ सकता है। न्यायमूर्ति लोकुर ने कहा, "हम यह स्पष्ट कर देना चाहते हैं कि हम वयस्क महिलाओं के वैवाहिक बलात्कार के मुद्दे पर यह फैसला नहीं सुना रहे हैं, क्योंकि याचिकाकर्ता या मध्यस्थ द्वारा यह मामला हमारे समक्ष नहीं उठाया गया है।"


भारत में दुष्कर्म और बाल विवाह कानूनों में सहमति की उम्र को लेकर भिन्नता है। भारतीय दंड संहिता की धारा 375 के अनुसार 18 साल से कम उम्र की लड़की के साथ यौन संबंध बनाना दुष्कर्म माना जाता है, लेकिन इसके तहत अपवाद के रूप में 15 साल या उससे अधिक उम्र की पत्नी के साथ यौन संबंध बनाने की इजाजत है और उसकी सहमति के बिना संबंध बनाने पर भी इसे दुष्कर्म नहीं माना जाता। अदालत ने साथ ही केंद्र और राज्य सरकारों से बाल विवाह रोकने के लिए कड़े कदम उठाने का आग्रह किया। न्यायमूर्ति गुप्ता ने कहा कि भारतीय दंड संहिता की धारा 375 में यह अपवाद संविधान के अनुच्छेद 14, अनुच्छेद 15 और अनुच्छेद 21 का उल्लंघन है।




जरा ठहरें...
सरकार गुड़ग्राम के लुटेरे पंचतारा ‘मेदांता’ अस्पताल पर कब कार्रवाई करेगी?
कुंभमेला यूनेस्को के सांस्कृतिक विरासत में शामिल, मोदी बोले गर्व की बात!
दिल्ली के क्नॉट प्लेस में दिन दहाड़े महिला के साथ छेड़खानी
अपराध के मामले में देश में दिल्ली शीर्ष पर
दुष्कर्म मामले में तीन को मौत की सजा
पूर्व नौसेना प्रमुख ने न्यायाधीश की मौत की जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट को लिखी चिट्ठी!
लालू सहित कई व्यक्तियों की सुरक्षा स्तर घटाई गयी
सरकार महिलाओं के लिए ''सुरक्षित नगर योजना'' ला रही है
पंबाज के मोस्टवांटेड अपराधियों को दिल्ली में गिरफ्तार किया गया
सीबीआई ने रिश्तेदार को भेजा सम्मन
दिल्ली में अतिथि अध्यापक की सरेआम हत्या
एनआईए ने बयान दर्ज किया!
रेल सिग्नल बाधित कर चोरी करने वाले गिरोह का पर्दाफाश
बीएसएफ और पाकिस्‍तान रेंजर्स के महानिदेशकों के बीच कई अहम मुद्दों पर चर्चा हुई
प्रदयुम्न हत्याकांड मामले में ११वीं का छात्र गिरफ्तार
सर्वोच्च न्यायालय ने कहा नोटबंदी का विरोध करने वाले संविधान पीठ के पास जाएं
नेताओं के खिलाफ आपराधिक मामलों के लिए विशेष अदालत गठन हो - सुप्रीम कोर्ट
दिल्ली में दिवाली की रात युवक की पीट-पीटकर हत्या
दुनिया भर के जासूस दिल्ली में इक्टठा हो रहे हैं
पुलिस के हत्थे चढ़ गयी हनीप्रीत
आरपीएफ ने मनाया पूरे जोश के साथ स्थापना दिवस!
केजरीवाल मेरे ऊपर हमला करवा रहे हैं - स्वामी ओमजी
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
मोदी सरकार के तीन साल के कार्यकाल से आप खुश हैं?
हां
नहीं
कह नहीं सकते
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें