ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

बातें मीडिया की

देश में निजी चैनलों की संख्या पहुंची 877 जिनमें से 389 समाचार चैनल हैं

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़

नई दिल्ली

सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय द्वारा चैनलों को लाइसेंस जारी करने की स्टेटटस रिपोर्ट जारी की गई है। इस रिपोर्ट के अनुसार, 31 अक्टूजबर 2017 से अब तक मंत्रालय द्वारा जारी किए जाने वाले लाइसेंसों की संख्या  में कोई परिवर्तन नहीं किया गया है। रिपोर्ट के अनुसार, 31 दिसंबर तक देशभर में मंत्रालय द्वारा स्वीहकृत निजी टीवी चैनलों की संख्या  877 है। नवंबर और दिसंबर 2017 में कोई नया लाइसेंस जारी नहीं किया गया है।


इन 877 चैनलों में से 778 को देश में अपलिंक और डाउनलिंक दोनों की मंजूरी गई थी। इनमें 369 न्यू ज चैनल और 409 नॉन न्यूज चैनल थे। 16 चैनलों जिनमें पांच न्यूज चैनल और 11 नॉन न्यू‍ज चैनल शामिल थे, को अपलिंक की मंजूरी तो दी गई थी लेकिन इन्हेंर डाउनलिंक की मंजूरी नहीं दी गई थी, वहीं 68 चैनलों को देश में डाउनलिंक की अनुमति दी गई थी। इन्हेंक देश से अपलिंक करने की मंजूरी नहीं थी। इन 68 चैनलों में 15 न्यू ज चैनल थे। रिपोर्ट के अनुसार, एक अगस्तस से 31अगस्त  2017 के बीच नौ नए चैनलों (एक न्यूंज चैनल और आठ नॉन न्यू्ज चैनल) को मंजूरी दी गई थी, वहीं सितंबर में दो लाइसेंस और अक्टूऔबर 2017 में सिर्फ एक लाइसेंस को मंजूरी दी गई थी। सरकार द्वारा वर्ष 2017 में 45 लाइसेंस जारी किए गए थे, जबकि उससे पूर्व के वर्ष में जारी किए जाने वाले चैनलों की संख्यार 75 थी। यदि कुल चैनलों की बात करें तो 1099 चैनलों को अनुमति दी गई, जबकि 222 चैनलों का लाइसेंस रद किया गया था, इनमें 66 तो अकेले वर्ष 2017 में ही शामिल थे। इनमें 44.4 प्रतिशत यानी 389 चैनल ‘न्यूज और करेंट अफेयर्स’ कैटेगरी में जबकि 488 चैनल ‘नॉन न्यूाज और करेंट अफेयर्स’ कैटेगरी में रखे गए हैं।





जरा ठहरें...
वेबमीडिया की नियमन की कोई योजना नहीं- राठौर
फिर स्मृति ईरानी बनीं प्रधानमंत्री के कोपभाजन की शिकार!
मृत्यु शैय्या पर पड़े प्रिंट मीडिया को न्यूज़ प्रिंट पर जीएसटी में राहत की संभावना नहीं?
दलित, महिला उत्पीड़न पर चुप रहते हैं मोदी - अमेरिकी अख़बार
साढ़े पांच लाख से ज्यादा भारतीयों की डॉटा में सेंध लगी - फेसबुक
पत्रकारों पर नकेल कसने के लिए सरकार की नई तैयारी!
प्रधानमंत्री कार्यालय के निर्देश के बाद ईरानी को वापस लेना पड़ा फैसला
भारत में इंटरनेट की रफ्तार बदतर, दुनिया में 109 वां स्थान!
जल्द ही डीटीएच पर भी लागू होगा पोर्टबिलिटी
"जिसकी हिंदी को जर्मनी ने अपनाया, उसी को भारत ने ठुकराया!
एनडीटीवी के मालिक प्रणय रॉय पर वित्तीय धोखे का आरोप, सीबीआई ने मारा छापा
सरकार पत्रकारों को पेंशन दे - साक्षी महाराज
आने वाला समय डिजिटल मीडिया का : जेटली
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
मोदी सरकार के तीन साल के कार्यकाल से आप खुश हैं?
हां
नहीं
कह नहीं सकते
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.