ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

बातें मीडिया की

दलित, महिला उत्पीड़न पर चुप रहते हैं मोदी - अमेरिकी अख़बार

न्यूयॉर्क, अमेरिका

18 अप्रैल 2018

भारत में हाल में चर्चा में रहे कठुआ और उन्नाव के दुष्कर्म मामलों के संदर्भ में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 'चुप्पी साधने' की तीखी आलोचना करते हुए 'न्यूयार्क टाइम्स' ने अपने संपादकीय में मंगलवार को लिखा कि इस तरह की तथा ऐसी ही अन्य हिंसक घटनाएं देश में महिलाओं, मुस्लिमों और दलितों को डराने के लिए 'राष्ट्रवादी ताकतों द्वारा एक संगठित और व्यवस्थित अभियान' का हिस्सा हैं। 'मोदीज लॉन्ग साइलेंस एज वुमेन आर अटैक्ड' शीर्षक के संपादकीय में न्यूयार्क टाइम्स ने याद दिलाया कि कैसे मोदी 'लगातार ट्वीट करते हैं और खुद को एक प्रतिभाशाली वक्ता मानते हैं।'


संग्रहित तस्वीर।

अखबार ने कहा कि 'मोदी की चुप्पी न केवल हैरान करने वाली है बल्कि परेशान करने वाली है।' अखबार ने 2012 के निर्भया कांड की याद दिलाई 'जिस पर तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने कड़ी प्रतिक्रिया नहीं दी थी और उसे इसका खामियाजा भुगतना पड़ा।' अखबार ने लिखा कि 'लगता है कि मोदी ने उस घटना से सबक नहीं सीखा।' अखबार के अनुसार, "भाजपा ने बड़े पैमाने पर चुनाव में जीत दर्ज की थी क्योंकि मोदी ने भ्रष्टाचार से घिरी तत्कालीन सरकार के बाद भारतीयों को ज्यादा जवाबदेह सरकार देने का वायदा किया था। लेकिन, इसके स्थान पर उन्होंने चुप्पी और मामले से ध्यान हटाने की पद्धति विकसित की है जो कि विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्र के स्वास्थ्य की चिंता करने वाले किसी भी व्यक्ति के लिए काफी चिताजनक है।"

न्यूयार्क टाइम्स के संपादकीय में कहा गया है कि मोदी से यह अपेक्षा नहीं की जा सकती कि उनका समर्थन करने वाले के द्वारा किए गए हर अपराध पर वह बोले हीं। लेकिन, हिंसा के यह मामले कोई अलग-थलग और अपवादित नहीं हैं। यह राष्ट्रवादी ताकतों के संगठित और योजनाबद्ध अभियान का हिस्सा हैं जिसका मकसद महिलाओं, मुसलमानों, दलितों और अन्य वंचित तबकों को आतंकित करना है। टाइम्स ने कहा, "प्रधानमंत्री का कर्तव्य है कि सभी लोगों की सुरक्षा करें और उनके लिए लड़ें, न कि सिर्फ उनके लिए जो उनसे राजनीतिक रूप से जुड़े हैं।"


टाइम्स ने कहा, "इसके बावजूद वह अपनी आवाज तब खो देते हैं, जब महिलाओं और अल्पसंख्यकों को लगातार राष्ट्रवादी और सांप्रदायिक ताकतों, जो कि उनकी भारतीय जनता पार्टी का आधार हैं, द्वारा खतरे का सामना करना पड़ता है।" अखबार ने शुक्रवार को मोदी द्वारा इस मामले पर दिए गए बयान का भी उल्लेख किया जिसमें उन्होंने कहा था कि 'दुष्कर्म के यह मामले देश के लिए शर्मिदगी लेकर आए हैं और हमारी बेटियों को निश्चित ही न्याय मिलेगा।' न्यूयार्क टाइम्स ने कहा, "लेकिन उनका बयान खोखला जैसा है क्योंकि इसमें उन्होंने काफी देरी लगाई और इनका विशिष्ट उल्लेख करने के बजाए एक सामान्य रूप से इसे यह कहकर व्यक्त किया कि 'बीते दो दिनों में जिन घटनाओं की चर्चा हो रही है..'।"


अखबार ने प्रधानमंत्री पर पहले भी इसी तरह का रवैया अपनाने का अरोप लगाया जब 'उनके राजनीतिक अभियान से संबद्ध गौरक्षक समूह ने गायों की हत्या करने के झूठे आरोप लगाकर मुस्लिम और दलितों पर हमले किए और हत्या की।' जम्मू एवं कश्मीर में इस वर्ष जनवरी में एक आठ वर्षीय बच्ची के साथ दुष्कर्म व हत्या और उत्तर प्रदेश में एक लड़की के साथ दुष्कर्म मामले का पूरे देश में लोगों ने जबरदस्त विरोध किया। प्रधानमंत्री ने हालांकि इन अपराधों और अन्य मामलों में संलिप्त कथित भाजपा सदस्यों के बारे में कुछ नहीं कहा। उन्होंने उत्तर प्रदेश दुष्कर्म मामले के आरोपी भाजपा विधायक के बारे में भी कुछ नहीं कहा।




जरा ठहरें...
वाट्सअप भ्रामक प्रचार को रोकने के लिए भारत में एक स्थानीय की नियुक्ति करेगा
पत्रकारों की हत्या का मामला राज्यसभा में उठा
जीएसटी ने छोटे अखबरों को ही नहीं बड़े अखबारों को भी पहुंचाया बर्बादी पर
शोसल मीडिया पर शरारती तत्वों का सरकार के खिलाफ दुष्प्रचार जारी
अखिलेश यादव ने अपनी सोशल मीडिया की टीम तैयार की
फिलहाल समाचार पत्र मालिकों को राहत देने के लिए सरकार तैयार नहीं!
जीएसटी के जरिए लघु, मध्यम अखबारों का सरकार करेगी इंकाउंटर?
भाजपा ने जिस सोशल मीडिया को सत्ता पाने का ढ़ाल बनाया वही अब उसे भस्मासुर लग रहा है!
फेसबुक के मालिक जुकबबर्ग दुनिया के तीसरे सबसे अमीर व्यक्ति बने
चुनावी तैयारी में लघु और मध्यम अखबारों पर मोदी सरकार का मलहम?
तकनीक के इस दौर में डेटा ही असली पूंजी है, संभाल कर रखें इसे - पॉल
फेसबुक द्वारा 60 कंपनियों के साथ डाटा साझा करने का समझौता बेहद घातक
वेबमीडिया की नियमन की कोई योजना नहीं- राठौर
फिर स्मृति ईरानी बनीं प्रधानमंत्री के कोपभाजन की शिकार!
मृत्यु शैय्या पर पड़े प्रिंट मीडिया को न्यूज़ प्रिंट पर जीएसटी में राहत की संभावना नहीं?
साढ़े पांच लाख से ज्यादा भारतीयों की डॉटा में सेंध लगी - फेसबुक
पत्रकारों पर नकेल कसने के लिए सरकार की नई तैयारी!
प्रधानमंत्री कार्यालय के निर्देश के बाद ईरानी को वापस लेना पड़ा फैसला
देश में निजी चैनलों की संख्या पहुंची 877 जिनमें से 389 समाचार चैनल हैं
भारत में इंटरनेट की रफ्तार बदतर, दुनिया में 109 वां स्थान!
जल्द ही डीटीएच पर भी लागू होगा पोर्टबिलिटी
"जिसकी हिंदी को जर्मनी ने अपनाया, उसी को भारत ने ठुकराया!
एनडीटीवी के मालिक प्रणय रॉय पर वित्तीय धोखे का आरोप, सीबीआई ने मारा छापा
सरकार पत्रकारों को पेंशन दे - साक्षी महाराज
आने वाला समय डिजिटल मीडिया का : जेटली
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.