ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

देश एवं राजनीति

वॉपकॉस ने 1110 करोड़ रुपये की अब तक सर्वाधिक आय अर्जित की!
अपनी ५०वीं स्थापना दिवस को धूम धाम से मनाया, कई कार्यक्रम आयोजित किए गए

आकाश श्रीवास्तव

नई दिल्ली, ३ जुलाई २०१८

जल संसाधन, नदी विकास एवं गंगा संरक्षण मंत्रालय के तहत आने वाली सार्वजनिक क्षेत्र उपक्रम वैपकॉस लिमिटेड ने मंगलवार को नई दिल्‍ली में अपनी स्थापना का 50 वीं वर्षगांठ धूम धाम से मनाया। इस अवसर पर केन्‍द्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने भारत के साथ-साथ अफ्रीका, एशिया और लैटिन अमेरिका के 46 अन्‍य विकास‍शील देशों में जल संसाधन, विद्युत एवं सिंचाई के क्षेत्र में उल्‍लेखनीय उपलब्धियां हासिल करने के लिए इस कंपनी की सराहना की।


वैपकॉस ने वर्ष 2017-18 के दौरान 1110 करोड़ रुपये की अब तक की सर्वाधिक सकल आय अर्जित की है। इस मौके पर गडकरी को वैपकॉस के सीएमडी आर. के. गुप्‍ता ने 50 करोड़ रुपये का अंतरिम लाभांश चेक (लाभांश कर सहित) सौंपा गया, जो वैपकॉस के गठन के बाद से लेकर अब तक का सर्वाधिक लाभांश है। 35 करोड़ रुपये के बोनस शेयर जारी करने के साथ ही पिछले आठ वर्षों के दौरान इस कंपनी की चुकता पूंजी 50 गुना बढ़ गई है (2 करोड़ रुपये से बढ़कर 100 करोड़ रुपये)।

कंपनी की लाभप्रदता या मुनाफा वर्ष 2013-14 के 102.52 करोड़ रुपये से बढ़कर वर्ष 2017-18 में 180 करोड़ रुपये के स्‍तर पर पहुंच गया है, जो 75 प्रतिशत से भी अधिक की वृद्धि को दर्शाता है। इस मौके पर कई देशों जैसे कि अफगानिस्‍तान, रवांडा, तंजानिया, सेनेगल, अंगोला, नेपाल, भूटान, कम्‍बोडिया, मोजाम्‍बिक, कांगो, बुरुंडी, लाइबेरिया, जिम्‍बाम्‍वे, लाओस, मलावी और मंगोलिया के राजदूत, उच्‍चायुक्‍त, मंत्रीगण और अन्‍य गणमान्‍य व्‍यक्ति भी इस अवसर पर मौजूद थे।


गड़करी ने कहा कि वैपकॉस ने यह भलीभांति दर्शाया है कि किस तरह से अच्‍छी प्रौद्योगिकी और उचित/कम लागत के संयोजन से अच्‍छे नतीजे सामने आ सकते हैं। उन्‍होंने कहा कि आज विकासशील विश्‍व को अभी कई और ऐसी प्रौद्योगिकियों की जरूरत है जो प्रभावशाली, लेकिन किफायती हों। इस तरह की आर्थिक दृष्टि से किफायती प्रौद्योगिकी का उदाहरण देते हुए उन्‍होंने कहा कि हम अब समुद्री जल का खारापन दूर करने के लिए सौर प्रौद्योगिकी का उपयोग करने पर विचार कर रहे हैं।


इस अवसर पर उपस्थित अनेक विदेशी गणमान्‍य व्‍यक्तियों ने गडकरी को प्रशस्ति प्रमाण पत्र प्रस्तुत किए और वैपकॉस के जरिए अपने-अपने देशों के विकास में साझेदार बनने के लिए भारत सरकार का धन्‍यवाद किया। अफगानिस्‍तान के प्रतिनिधियों ने सभी मंत्रियों को अपने देश की पारंपरिक पोशाक भेंट की। पिछले 50 वर्षों में इस कंपनी की लंबी यात्रा का उल्‍लेख करते हुए वैपकॉस के सीएमडी  आर. के. गुप्‍ता ने कहा कि वैपकॉस का गठन भारत सरकार द्वारा वर्ष 1969 में एक सार्वजनिक क्षेत्र उपक्रम के रूप में किया गया था।

यह जल संसाधन, नदी विकास और गंगा संरक्षण मंत्रालय के अधीनस्‍थ एक प्रौद्योगिकी-वाणिज्यिक संगठन है। वैपकॉस ने सिंचाई, जल संसाधन और कृषि क्षेत्रों में 550 से भी अधिक परियोजनाओं के लिए सर्वेक्षण किया है और परीक्षण/संभाव्‍यता-पूर्व/विस्‍तृत परियोजना रिपोर्ट (डीपीआर) तैयार की हैं। कंपनी ने 15 मिलियन हेक्‍टेयर से भी अधिक सिंचाई क्षमता के विकास, बंदरगाहों एवं अंतर्देशीय नौवाहन में 200 से भी अधिक परियोजनाओं, जलापूर्ति एवं स्‍वच्‍छता, ग्रामीण एवं शहरी विकास, सड़कों एवं राजमार्गों की इंजीनियरिंग के क्षेत्र में 500 से भी अधिक परियोजनाओं के साथ-साथ भारत और कई देशों में सिंचाई, पनबिजली/ताप विद्युत, बंदरगाहों हार्बर में 250 से भी अधिक परियोजनाओं के लिए ईआईए (पर्यावरणीय प्रभाव आकलन) रिपोर्ट तैयार करने में उल्‍लेखनीय योगदान दिया है।



जरा ठहरें...
लोकसभा में कांग्रेस के सदस्यों और स्मृति ईरानी के बीच तीखी नोकझोंक!
लोकसभा में महाराष्ट्र के मुद्दे पर भारी हंगामा
महाराष्ट्र विधान सभा चुनाव में जनादेश भाजपा और शिवसेना को मिला था - रवि शंकर प्रसाद
संसद का शीत सत्र सोमवार से लोकसभा अध्यक्ष ने बुलाई सर्वदलीय बैठक!
भाजपा के ऑपरेशन लोटस की नैतिकता पर गंभीर सवाल - सिंघवी
अयोध्या पर आए फैसले पर आडवाणी ने कहा मैं अपने आप को धन्य मानता हूं
इस बार हुनर हाट यागराज में 1 से 10 नवम्बर के बीच
महाराष्ट्र में ५८ तो हरियाणा में ६० प्रतिशत से ज्यादा मतदान हुए
धारा 370 खत्म करने का विरोध पाकिस्तान और राहुल दोनों करते हैं – अमित शाह
प्रधानमंत्री लौटे, भव्य स्वागत, बोले अब काम करना है!
केंद्रीय मंत्री अठावले बोले उत्तर प्रदेश और महाराष्ट्र को दो टुकड़ों में बांटा जाए
नई शिक्षा नीति की तैयारी, देशभर में मंत्री का दौरा!
देश में हर साल ५ लाख लोगों दुर्घटना के शिकार और लगभग डेढ़ लाख लोगों की मौत - गड़करी
रामजन्म भूमि विवाद: १८ अक्टूबर को अयोध्या पर फैसला सुनाएगा सर्वोच्च न्यायालय
हिंदी को राजभाषा का दर्जा मिले - राम विलास पासवान
मंदी का वातावरण डराने वाला नहीं - गहलोत
मानव संशाधन विकास मंत्रालय ने पेश किए सौ दिन का हिसाब किताब
... दुनिया के एक अरब से ज्यादा लोगों के सामने भोजन और पानी का संकट..!
वामपंथी उग्रवाद का लोकतांत्रिक व्यवस्था में विश्वास नहीं – अमित शाह
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तीन देशों की यात्रा पर रवाना
लालकिले की प्राचीर से प्रधानमंत्री की ललकार, हम न समस्याओं को टालेंगे न पालेंगे...!
सदन बहुमत से नही सर्वसम्मति से चलता है - लोकसभा अध्यक्ष
कश्मीर में खुलेंगे विकास के द्वार, जम्मू कश्मीर के लोग भावना को समझें! - पीएम
जम्म कश्मीर से धारा 370 खत्म, लोकसभा ने भारी मतों से किया पास
राहुल गांधी की चार पीढ़ियां गरीबी हटाओ का नारा देती रही लेकिन गरीबी नहीं मिटी - शाह
प्रधानमंत्री मोदी बोले, कांग्रेस ने उन्हें 12 सालों तक किया परेशान!
उत्तर प्रदेश में कोई सुरक्षित नहीं, जंगलराज है - कांग्रेस
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी कॉल ड्रॉप से हैं परेशान
राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण राजमार्गों पर 'हाईवे नेस्ट' नामक रेस्त्रा का संचालन करेगा
रेल इंजीनियरिंग की अद्भुत रचना है दुनिया का सबसे ऊंचा पुल
देश की सबसे बड़ी सुरंग देश को समर्पित, प्रधानमंत्री ने किया उद्घाटन
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.