ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

चर्चा में

सर्वोच्च न्यायालय ने आधार की एकतरफा अनिवार्यता को खत्म किया

आकाश श्रीवास्तव

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़

नई दिल्ली

सर्वोच्च न्यायालय ने आधार की एकतरफा अनिवार्यता को खत्म कर दिया है। यानि अब आधार हर जगह अऩिवार्य नहीं रहेगा। कुछ सरकारी योजनाओं के लिए जहां आधार को जरूरी बताया वहीं, बैंक खाता, मोबाइल कनेक्शन लेने, स्कूल में भर्ती लेने आदि की अनिवार्यता को सर्वोच्च न्यायालय ने खत्म कर दिया है।


जी हां आधार पर सर्वोच्च न्यायालय ने बुधवार को अपना अहम फैसला सुनाते हुए अपने फैसले में भी साफ कर दिया कि आधार कहां जरूरी है और कहां जरूरी नहीं है। शीर्ष अदालत ने कहा है कि मोबाइल फोन को आधार से लिंक नहीं किया जा सकता है। आइए जानते हैं अब कहां जरूरी होगा आधार और कहां नहीं।

सर्वोच्च न्यायालय ने आधार ऐक्ट की धारा 57 को रद्द करते हुए कहा कि प्राइवेट कंपनियां आधार की मांग नहीं कर सकतीं। आधार पर हमला संविधान के खिलाफ है। इसके डुप्लिकेट होने का कोई खतरा नहीं। आधार एकदम सुरक्षित है। लोकसभा में आधार बिल को वित्त विधेयक के तौर पर पास करने को सुप्रीम कोर्ट ने सही ठहराया। सर्वोच्च न्यायालय ने अपने फैसले में साफ किया कि मोबाइल सिम, बैंक अकाउंट के लिए आधार जरूरी नहीं है। कोर्ट ने साफ किया कि स्कूल में भर्ती के लिए आधार जरूरी नहीं। सीबीएसई, नीट और यूजीसी की परीक्षाओं के लिए भी आधार जरूरी नहीं।बीएसई, बोर्ड एग्जाम में शामिल होने के लिए छात्रों से आधार की मांग नहीं कर सकता है।


सर्वोच्च् न्यायालय ने यह भी कहा कि पैनकार्ड बनाने और आयकर रिटर्न दाखिल करने के लिए आधार नंबर जरूरी। सरकार की लाभकारी योजना और सब्सिडी का लाभ पाने के लिए आधार कार्ड को न्यायालय ने जरूरी बताया। कोर्ट ने यह भी कहा कि 14 साल से कम के बच्चों के पास आधार नहीं होने पर उसे केंद्र और राज्य सरकारों द्वारा दी जाने वाली जरूरी सेवाओं से वंचित नही किया जा सकता है।


टेलिकॉम कंपनियां, ई-कॉमर्स फर्म, प्राइवेट बैंक और अन्य इस तरह के संस्थान आधार की मांग नहीं कर सकते हैं। आधार आम लोगों के हित के लिए काम करता है और इससे समाज में हाशिये पर बैठे लोगों को फायदा होगा। आधार डेटा को 6 महीने से ज्यादा डेटा स्टोर नही किया जा सकता है। 5 साल तक डेटा रखना बैड इन लॉ है। 26 सितंबर 2018।



जरा ठहरें...
सीबीआई मुखिया के लिए चयन समिति की बैठक 24 जनवरी को
सर्वण आरक्षण दिए जाने का मामला सर्वोच्च न्यायालय पहुंचा
राफेल पर घमासान जारी, राहुल ने प्रधानमंत्री से पूछे चार सवाल!
राज्यसभा में कांग्रेस और बीजेपी में जमकर नोंक झोंक
दिल्ली से वाराणसी के बीच जल्द दौडेगी १६० की तरफ्तार में ट्रेन-18 !
दिल्ली मेट्रो में एक साल में 8 करोड़ यात्रियों की कमी हुई
अलका लंबा के तेवर बगावती, केजरीवाल सरकार से करेंगी दो-दो हाथ!
राजा भइया बनाएंगे नई राजनीतिक पार्टी, नाम की घोषणा जल्द!
नेहरू की वजह से एक चाय वाला देश का प्रधानमंत्री बना
कांग्रेस राहुल गांधी का गोत्र बताए - संबित पात्रा
गृहमंत्रालय ने माना चारो व्यक्ति आईबी के अधिकारी थे
आप ने कहा कि मोदी ने सीबीआई को तबाह कर दिया है
एटीएस पुलिस बेल्ट से पीटती और अश्लील वीडियो देखने के लिए मजबूर करती - प्रज्ञा ठाकुर
सबरीमाला मंदिर के मुद्दे पर कोर्ट का शीघ्र सुनवाई से इंकार
सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश से पाबंदी हटी
बसपा और जोगी के गठबंधन का कांग्रेस ने किया स्वागत
देश की आजादी में कांग्रेस का बड़ा योगदान - भागवत
एससी एसटी एक्ट के खिलाफ भाजपा नेता कलराज मिश्रा ने खोला मोर्चा
जिस एक्सप्रेस वे का मोदी ने उद्घाटन किया उसका 69 प्रतिशत काम अधूरा!
NHAI को लताड़, पीएम के पास टाइम नहीं तो करो उद्घाटन - सर्वोच्च न्यायालय
एक ऐसी दूरबीन जो १०० प्रकाश वर्ष दूर तक देख सकेगी!
प्रतिदिन 25-प्रतिशत बच्चे भूखे रह जाते हैं
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.