ताज़ा समाचार-->:
अब खबरें देश-दुनिया की एक साथ एक जगह पर-->

प्रमुख समाचार

चुनाव बाद राजनाथ अध्यक्ष और शाह मुख्यमंत्री बनेंगे?
पार्टी कार्यकर्ताओं के बीच अमित शाह की छवि अच्छी नहीं मानी जाती

आकाश श्रीवास्तव

थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़

नई दिल्ली, १५ फरवरी २०१७

पांच राज्यों के चुनावों के बाद देश के गृह मंत्री राजनाथ सिंह दोबारा भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष बनेंगे? और अमित शाह को गुजरात के मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार बनाकर उन्हें केंद्रीय राजनीति से दूर कर दिया जाएगा? अटकल तो यह भी है कि अमित शाह को यदि गुजरात का मुख्यमंत्री नहीं बनाया गया तो उन्हें राजनाथ सिंह की जगह केंद्रीय गृहमंत्री बनाया जा सकता है। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, पंजाब, गोवा और मणिपुर चुनावों के नतीजों के बाद सरकार में नंबर दो की हैसियत रखने वाले केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह को दोबारा भाजपा का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाया जा सकता है।


क्योंकि अमित शाह की छवि पार्टी के अंदर अच्छी नहीं मानी जाती है। उन्हें तानाशाह के तौर पर पार्टी के कार्यकर्ता देखते हैं। इसलिए जमीनी कार्यकर्ता वर्तमान पार्टी अध्यक्ष अमित शाह से खुश नहीं हैं। अमित शाह पर आरोप लगता रहा है कि पार्टी के नेताओं और कार्यकर्ताओं से वे सहज तरीके और आसानी से नहीं मिलते हैं। उनसे मिलने के लिए महीनों लग जाते हैं। जिसकी वजह से पार्टी के अंदरूनी कार्य-कर्ताओं में अमित शाह को लेकर बड़ी असहजता और असंतोष का बीज पनप रहा है। हालाँकि अभी तक किसी ने खुलकर अमितशाह के खिलाफ आवाज नहीं उठाई है। जबकि राजनाथ सिंह के बारे में कहा जाता है कि पार्टी के निचले स्तर तक कार्यकर्ताओं में उनकी पहुंच होती है। वे आमजन और आम कार्यकर्ताओं के बीच में घुलनशील हैं। पार्टी में उनकी छवि अच्छी मानी जाती है। राजनाथ की अध्यक्षता में ही भाजपा की केंद्र में पूर्ण बहुमत वाली एक मजबूत सरकार बनी। राजनाथ सिंह को विनम्र और सजह राजनेता की संज्ञा से नवाजा जाता है। राजनाथ की तुलना में अमितशाह का मिजाज भी अकड़बाज और अंहकार से भरा बताया जाता है। कहते हैं उ.प्र. सहित चारों अन्य राज्यों में सीटों की बंटवारे में अमित शाह ने जमीनी नेताओं को बिल्कुल नज़र अंदाज कर दिया। जो अपने क्षेत्र में लंबे समय से कार्य कर रहे थे। उनकी मेहनत और उपलब्धि को नजर अंदाज करके मनमाने तरीके से टिकट अन्य को पकड़ा दिया। जिससे बहुत सारे स्थानीय नेता बागी तेवर में आ गए।

इन चीजों को प्रधानमंत्री मोदी अच्छी तरह से समझ रहे हैं। गुजरात में साल के अंत में विधानसभा के चुनाव होने हैं। संभावना है कि प्रधानमंत्री मोदी उन्हें गुजरात का मुख्यमंत्री के तौर पर पेश कर सकते हैं। जिसका सीधा मतलब है कि पार्टी की अध्यक्ष पद से उनकी छुट्टी हो जाएगी। मोदी का तीन साल का कार्यकाल पूरा होने वाला है ऐसे में अगले चुनाव की तैयारी भी करनी है। अगर पार्टी में किसी तरह का असंतोष रहा तो अगला चुनाव भाजपा के लिए भारी हो सकता है। जिसे देखते हुए एक बार फिर पार्टी की कमान राजनाथ को सौंपे जाने की सुगबुगाहट तेज होती जा रही है। 11 फरवरी 2017।




जरा ठहरें...
'भारतीय रेलवे का खाना बेहद घटिया और खाने लायक नहीं'
चीन ने भारत के खिलाफ युद्ध की पूरी तैयारी की - मुलायम
दलहन, तिलहन के मामले में दो साल में आत्म निर्भर हो जाएंगे - कृषि मंत्री
रिकार्ड उत्पादन के बावजूद किसानों को लाभ नहीं मिल रहा - कृषि मंत्री
देश को मिली पहली सोलर रेल गाड़ी
कूटनीति के जरिए डोकलाम मुद्दा सुलझाया जाएगा - विदेश मंत्रालय
सुरक्षा व्यवस्था में भारी खामी का नतीजा है तीर्थ यात्रियों पर हमला
'योगी सरकार के कार्य नहीं कारनामे बोल रहे हैं'
रोजगार देने में रेलवे सर्वाधिक आगे - प्रभु
आधार, पैन के बिना हवाई यात्रा नहीं होगी - सिन्हा
पासवान ने गिनाया अपने मंत्रालय की तीन साल की उपलब्धियां
कसौटी पर खरी नहीं उतर रही है देश की सबसे लंबी सुरंग
रेल यात्रियों की संख्या में रिकार्ड बढ़ोत्तरी!
सेना अपने विशेष कमांडोज को और खतरनाक बनाएगी
जानिए बजट में रेलवे और रेल यात्रियों को क्या मिला!
न क्रेडिट, न डेबिट न कोई और बस आधार से पेंमेंट होगा
19 साल बाद भी रेल हादसे का मुआवजा वही है!
 
 
Third Eye World News
इन तस्वीरों को जरूर देखें!
Jara Idhar Bhi
जरा इधर भी

Site Footer
इस पर आपकी क्या राय है?
मोदी सरकार के तीन साल के कार्यकाल से आप खुश हैं?
हां
नहीं
कह नहीं सकते
 
     
ग्रह-नक्षत्र और आपके सितारे
शेयर बाज़ार का ताज़ा ग्राफ
'थर्ड आई वर्ल्ड न्यूज़' अब सोशल मीडिया पर
 फेसबुक                                 पसंद करें
ट्विटर  ट्विटर                                 फॉलो करें
©Third Eye World News. All Rights Reserved.